#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker

जब भगवान की भक्ति करके थक जाए और कोई हल नहीं निकले तो क्या करना चाहिए?

Jab Bhagwan Kee Bhakti Karke Thak Jaye Aur Koi Hal Nahi Nikle To Kya Karna Chaiye
Gulab Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Gulab जी का जवाब
Unknown
2:54

और जवाब सुनें

bolkar speaker
जब भगवान की भक्ति करके थक जाए और कोई हल नहीं निकले तो क्या करना चाहिए?Jab Bhagwan Kee Bhakti Karke Thak Jaye Aur Koi Hal Nahi Nikle To Kya Karna Chaiye
pushpanjali patel Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए pushpanjali जी का जवाब
Student with micro finance bank employee
1:01
नमस्कार आपका सवाल है जब भगवान की भक्ति करके शांत हो जाए और कोई हल ना निकले तो क्या करना चाहिए ताकि वैसे भगवान की भक्ति करने से कोई इंसान थकता नहीं है जब इंसान कुछ अपनी जान लेकर या फिर कोई उनकी इच्छा होती है जिसको लेकर कि वह भगवान की भक्ति करते हैं और भगवान की भक्ति करते समय जब उनके इच्छा और चाह पूरी नहीं होती है तब तब उनको ऐसा लगता है क्या तुम्हें भगवान की भक्ति छोड़ देनी चाहिए जबकि भक्ति करने से वह हमारी इच्छा ही नहीं पूरी हो रही है तब इंसान थक जाते हैं लेकिन भगवान की भक्ति करने से कोई भी इंसान को थकान नहीं होगी और ना ही होती है केवल जब उनकी इच्छा पूरी नहीं होती है और जो वह मनोकामना किए रहते हैं जब वह मनोकामना पूरी नहीं होती है तब इंसान को ऐसा लगता है कि अब हम थक गए हैं भगवान की भक्ति करते करते तो भगवान की भक्ति करने से कोई थकान नहीं होती जहां तक मैं जानती हूं और समझती हूं सुमित करते हैं सवाल का जवाब पसंद आएगा आपको चाहिए दोस्तों को शनिवार
Namaskaar aapaka savaal hai jab bhagavaan kee bhakti karake shaant ho jae aur koee hal na nikale to kya karana chaahie taaki vaise bhagavaan kee bhakti karane se koee insaan thakata nahin hai jab insaan kuchh apanee jaan lekar ya phir koee unakee ichchha hotee hai jisako lekar ki vah bhagavaan kee bhakti karate hain aur bhagavaan kee bhakti karate samay jab unake ichchha aur chaah pooree nahin hotee hai tab tab unako aisa lagata hai kya tumhen bhagavaan kee bhakti chhod denee chaahie jabaki bhakti karane se vah hamaaree ichchha hee nahin pooree ho rahee hai tab insaan thak jaate hain lekin bhagavaan kee bhakti karane se koee bhee insaan ko thakaan nahin hogee aur na hee hotee hai keval jab unakee ichchha pooree nahin hotee hai aur jo vah manokaamana kie rahate hain jab vah manokaamana pooree nahin hotee hai tab insaan ko aisa lagata hai ki ab ham thak gae hain bhagavaan kee bhakti karate karate to bhagavaan kee bhakti karane se koee thakaan nahin hotee jahaan tak main jaanatee hoon aur samajhatee hoon sumit karate hain savaal ka javaab pasand aaega aapako chaahie doston ko shanivaar

bolkar speaker
जब भगवान की भक्ति करके थक जाए और कोई हल नहीं निकले तो क्या करना चाहिए?Jab Bhagwan Kee Bhakti Karke Thak Jaye Aur Koi Hal Nahi Nikle To Kya Karna Chaiye
पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
1:42
मैं आपसे प्रश्न पूछता हूं आपके पास तो यही जब कोई भगवान के भक्ति करके थक जाए और कोई हल न निकलने तो क्या करना चाहिए देखिए इस बात को बिल्कुल एक यूनिवर्सल ट्रुथ मान लीजिए एक अलौकिक सत्य मानी है कि जब तक आप कुछ करेंगे नहीं तब तक आपको कोई परिणाम मिलने वाला नहीं भगवान तो एक आपको एक अंदरूनी ताकत देते हैं क्या पिक कीजिए भगवान आपके मार्गदर्शक है भगवान खुद यहां तो आपको रोटी बनाकर के पेट में डालने के लिए नहीं आएंगे रोटी बनाने के लिए आपको मेहनत करना पड़ेगा काम करना पड़ेगा शर्म करना पड़ेगा पैसा पैदा करना पड़ेगा पैसे के साथ सब घर परिवार की जिम्मेदारियां होती उनको भी चलाना पड़ेगा यह सब आपके सांसारिक जीवन के जो आवश्यक कार्य करें उनको आपको करना ही पड़ेगा लेकिन एक दो तरीके होते हैं एक अनैतिक कार्य का नैतिक अनैतिक कार्य के माध्यम से आप अपने जीवन की आवश्यकताओं को पूरा करके अपनी जिम्मेदारियों को निभाते हैं वह जो नैतिक कार्य उसके साथ-साथ इस और आपके कार्यों में मदद करती सर आपको रोटी बना खिलाने नहीं आएगा आपको हाथ पर चला दे पड़ेंगे मुंह तक ले जाने के लिए आपको थाली से रोटी तोड़ कर के लिए जाना पड़ेगा इस बात को अच्छी तरह समझ समझ लीजिए काम आप ही को करना पड़ेगा बिना काम के आप को भोजन नहीं मिलेगा ईश्वर आपकी भावनाओं का आदर करके और आपको शक्ति प्रदान करेगा कि आप कहीं चोट ना खाएं आपकी आत्मा बंद न हो आपके साथ लेने की प्रक्रिया उसी तरह बाद कब से चलती रहे आप स्वस्थ रहें यही ईश्वर के कार्य हैं आपके कार्यों में बाधा नहीं पहुंचाते ईश्वर लेकिन जब मन आपको शुद्ध होगा तभी आपको ईश्वर का लाभ मिलेगा किसी ना किसी रूप में ईश्वर का लाभ मिलता लिखना महसूस नहीं करते इसके लिए आप अपने थोड़े शब्द वाणी और भाषा सोच को बदलिए
Main aapase prashn poochhata hoon aapake paas to yahee jab koee bhagavaan ke bhakti karake thak jae aur koee hal na nikalane to kya karana chaahie dekhie is baat ko bilkul ek yoonivarsal truth maan leejie ek alaukik saty maanee hai ki jab tak aap kuchh karenge nahin tab tak aapako koee parinaam milane vaala nahin bhagavaan to ek aapako ek andaroonee taakat dete hain kya pik keejie bhagavaan aapake maargadarshak hai bhagavaan khud yahaan to aapako rotee banaakar ke pet mein daalane ke lie nahin aaenge rotee banaane ke lie aapako mehanat karana padega kaam karana padega sharm karana padega paisa paida karana padega paise ke saath sab ghar parivaar kee jimmedaariyaan hotee unako bhee chalaana padega yah sab aapake saansaarik jeevan ke jo aavashyak kaary karen unako aapako karana hee padega lekin ek do tareeke hote hain ek anaitik kaary ka naitik anaitik kaary ke maadhyam se aap apane jeevan kee aavashyakataon ko poora karake apanee jimmedaariyon ko nibhaate hain vah jo naitik kaary usake saath-saath is aur aapake kaaryon mein madad karatee sar aapako rotee bana khilaane nahin aaega aapako haath par chala de padenge munh tak le jaane ke lie aapako thaalee se rotee tod kar ke lie jaana padega is baat ko achchhee tarah samajh samajh leejie kaam aap hee ko karana padega bina kaam ke aap ko bhojan nahin milega eeshvar aapakee bhaavanaon ka aadar karake aur aapako shakti pradaan karega ki aap kaheen chot na khaen aapakee aatma band na ho aapake saath lene kee prakriya usee tarah baad kab se chalatee rahe aap svasth rahen yahee eeshvar ke kaary hain aapake kaaryon mein baadha nahin pahunchaate eeshvar lekin jab man aapako shuddh hoga tabhee aapako eeshvar ka laabh milega kisee na kisee roop mein eeshvar ka laabh milata likhana mahasoos nahin karate isake lie aap apane thode shabd vaanee aur bhaasha soch ko badalie

bolkar speaker
जब भगवान की भक्ति करके थक जाए और कोई हल नहीं निकले तो क्या करना चाहिए?Jab Bhagwan Kee Bhakti Karke Thak Jaye Aur Koi Hal Nahi Nikle To Kya Karna Chaiye
Er.Awadhesh kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 66
सुनिए Er.Awadhesh जी का जवाब
Unknown
2:09
प्रश्न है कि जब भगवान की भक्ति करके थक जाएं और कोई हाल ना निकले तो क्या करना चाहिए इस पर कहावत में गाना चाहूंगा कि आपने सुना होगा कि कर्म करो फल की इच्छा मत करिए मतलब हमारी भक्ति हमारे कर्मों पर ही डिपेंड कर दिया हमारे मन और विश्वास पर डिपेंड करती कि हम इतना अपने मन को अपने विश्वास को अपनी दृढ़ संकल्प को हम भक्ति के तरफ और हमारे कर्म क्या है और आपके कर्म बुरे हो आप भक्ति कर रहे हो तो आप सफल नहीं होंगे आप को धर्म के साथ-साथ आपको भक्ति परवान होती है कहा कहा जाता है कि श्रद्धा भाव से जो हम अपने मन और विश्वास के साथ जो पूजा याचना करते हैं जो चढ़ावा चढ़ाते हैं वही भगवान को स्वीकार होती है और अपनी सुना होगा कि प्रभु राम के बारे में कि जैसे क्या होता है कि जैसी जैसी आप इच्छा रखेंगे वैसे ही आपके प्रणाम आपको देखने को मिलते हैं मतलब जिस रूप में भगवान को चाहते हैं उसी रूप में आप भगवान की प्राप्ति करेंगे चाहे वह जिसका रूप हो तो कहीं ना कहीं क्या है कि आपको अपने भगवान के प्रति आप आशा रखते हो तो कहीं ना कहीं आप कोई भी तो सोचना चाहिए कि हमारे कर्म क्या है हम उनमें क्या मन विश्वास को एकत्र करके उनकी भक्ति करते हैं अगर नहीं करते हैं तो आप अपने कर्मों पर अपने कर्म पर विश्वास करेगा कर्म है तभी आप की पूजा है कहा जाता है कि कर्म ही पूजा है कर्म ही आपको प्रधान बनाता है कर्म ही आपको आगे बनाता है कर्म ही आप को श्रेष्ठ बनाता है तो आप कर्म करो फल की इच्छा हो पर वाले पर छोड़ दीजिए आप भक्ति करिए उसके साथ साथ जो आपकी कर्म है आपकी दिनचर्या हैं आपको परिवार में रहना है या परिवार में नहीं रहते आपके परिवार है उसके साथ कैसे रहना कैसे बिताना है धीरे-धीरे आप की प्रक्रिया भगवान सुनते हैं और आपके कर्म के अनुसार ही आपको फल और जो भी भक्ति होनी चाहिए जो भी आपको प्रसाद मिलना चाहिए उसी के अनुसार आपको मिलता है
Prashn hai ki jab bhagavaan kee bhakti karake thak jaen aur koee haal na nikale to kya karana chaahie is par kahaavat mein gaana chaahoonga ki aapane suna hoga ki karm karo phal kee ichchha mat karie matalab hamaaree bhakti hamaare karmon par hee dipend kar diya hamaare man aur vishvaas par dipend karatee ki ham itana apane man ko apane vishvaas ko apanee drdh sankalp ko ham bhakti ke taraph aur hamaare karm kya hai aur aapake karm bure ho aap bhakti kar rahe ho to aap saphal nahin honge aap ko dharm ke saath-saath aapako bhakti paravaan hotee hai kaha kaha jaata hai ki shraddha bhaav se jo ham apane man aur vishvaas ke saath jo pooja yaachana karate hain jo chadhaava chadhaate hain vahee bhagavaan ko sveekaar hotee hai aur apanee suna hoga ki prabhu raam ke baare mein ki jaise kya hota hai ki jaisee jaisee aap ichchha rakhenge vaise hee aapake pranaam aapako dekhane ko milate hain matalab jis roop mein bhagavaan ko chaahate hain usee roop mein aap bhagavaan kee praapti karenge chaahe vah jisaka roop ho to kaheen na kaheen kya hai ki aapako apane bhagavaan ke prati aap aasha rakhate ho to kaheen na kaheen aap koee bhee to sochana chaahie ki hamaare karm kya hai ham unamen kya man vishvaas ko ekatr karake unakee bhakti karate hain agar nahin karate hain to aap apane karmon par apane karm par vishvaas karega karm hai tabhee aap kee pooja hai kaha jaata hai ki karm hee pooja hai karm hee aapako pradhaan banaata hai karm hee aapako aage banaata hai karm hee aap ko shreshth banaata hai to aap karm karo phal kee ichchha ho par vaale par chhod deejie aap bhakti karie usake saath saath jo aapakee karm hai aapakee dinacharya hain aapako parivaar mein rahana hai ya parivaar mein nahin rahate aapake parivaar hai usake saath kaise rahana kaise bitaana hai dheere-dheere aap kee prakriya bhagavaan sunate hain aur aapake karm ke anusaar hee aapako phal aur jo bhee bhakti honee chaahie jo bhee aapako prasaad milana chaahie usee ke anusaar aapako milata hai

bolkar speaker
जब भगवान की भक्ति करके थक जाए और कोई हल नहीं निकले तो क्या करना चाहिए?Jab Bhagwan Kee Bhakti Karke Thak Jaye Aur Koi Hal Nahi Nikle To Kya Karna Chaiye
anuj gothwal Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए anuj जी का जवाब
9828597645
2:15
नमस्कार दोस्तों बोलकर आप में स्वागत है आज का सवाल है कि जब भगवान की भक्ति करके व्यक्ति थक जाए तो कोई हल नहीं निकले तो क्या करना चाहिए तो मेरा मानना यह है कि जो भगवान को मानते हैं तो उनकी जो पूजा कर कर के थक जाना यह तो नामुमकिन है लेकिन कई लोग यह सोचते हैं कि हमारा कोई कार्य नहीं बना हमें कुछ से प्राप्त नहीं हुआ जिसकी वजह से वह पूजा-पाठ छोड़ देता है तथा अवधारणा की कोई व्यक्ति मन लगाकर पड़ेगा तभी तो वह आगे बढ़ेगा और परीक्षा देता तो किसी न किसी वजह से हुआ कभी एक नंबर से या कभी आते नंबर से रह जाता है यह उसकी ही परीक्षार्थी किसी प्रकार देवताओं में भी यही होता है या मतलब किस देवता की जो कोई भक्ति करता है या कोई अपने कुलदेवी आस्क देखती भक्ति करता है तो वह या तो हो सकता कि देवरिया से कामना करता हूं या एकाग्रता से कार्य न करता हो यदि धैर्य रखना चाहिए हमें जो भी चीज है उसे फल आराम से मिलेगा इसके फल की लालसा जल्दी नहीं करनी चाहिए क्योंकि फल की जल्दी लालसा होने से हम डबरा भी सकते हैं मैं तो यह कहना चाहूंगा जब भी कोई पूजा पाठ करता है उसे विश्वास होना चाहिए और धैर्य रखना चाहिए और एकाग्रता होनी चाहिए जिससे माध्यम से वह बत्ती करके सुख शांति का अनुभव और कुछ अच्छे कर्म भी प्राप्त कर सकता है ना कि छल कपट के माध्यम से ना कि ध्यान से कुछ भी प्राप्त नहीं किया जा सकता अब कोई व्यक्ति पूजा पाठ करता है या खुद करता तो उसे सुख की अनुभूति जरूर होती है ऐसा नहीं है कि वह भक्ति करके थक जाता ऐसा नहीं है
Namaskaar doston bolakar aap mein svaagat hai aaj ka savaal hai ki jab bhagavaan kee bhakti karake vyakti thak jae to koee hal nahin nikale to kya karana chaahie to mera maanana yah hai ki jo bhagavaan ko maanate hain to unakee jo pooja kar kar ke thak jaana yah to naamumakin hai lekin kaee log yah sochate hain ki hamaara koee kaary nahin bana hamen kuchh se praapt nahin hua jisakee vajah se vah pooja-paath chhod deta hai tatha avadhaarana kee koee vyakti man lagaakar padega tabhee to vah aage badhega aur pareeksha deta to kisee na kisee vajah se hua kabhee ek nambar se ya kabhee aate nambar se rah jaata hai yah usakee hee pareekshaarthee kisee prakaar devataon mein bhee yahee hota hai ya matalab kis devata kee jo koee bhakti karata hai ya koee apane kuladevee aask dekhatee bhakti karata hai to vah ya to ho sakata ki devariya se kaamana karata hoon ya ekaagrata se kaary na karata ho yadi dhairy rakhana chaahie hamen jo bhee cheej hai use phal aaraam se milega isake phal kee laalasa jaldee nahin karanee chaahie kyonki phal kee jaldee laalasa hone se ham dabara bhee sakate hain main to yah kahana chaahoonga jab bhee koee pooja paath karata hai use vishvaas hona chaahie aur dhairy rakhana chaahie aur ekaagrata honee chaahie jisase maadhyam se vah battee karake sukh shaanti ka anubhav aur kuchh achchhe karm bhee praapt kar sakata hai na ki chhal kapat ke maadhyam se na ki dhyaan se kuchh bhee praapt nahin kiya ja sakata ab koee vyakti pooja paath karata hai ya khud karata to use sukh kee anubhooti jaroor hotee hai aisa nahin hai ki vah bhakti karake thak jaata aisa nahin hai

bolkar speaker
जब भगवान की भक्ति करके थक जाए और कोई हल नहीं निकले तो क्या करना चाहिए?Jab Bhagwan Kee Bhakti Karke Thak Jaye Aur Koi Hal Nahi Nikle To Kya Karna Chaiye
prakash Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए prakash जी का जवाब
Normal business
2:34
जब भगवान की भक्ति करके थक जाएं और कोई हल नहीं निकले तो क्या करना चाहिए देखिए जब इंसान के दिमाग में कोई बात नहीं होती है या किसी चीज से परेशान होता है किसी भी तरीके से इंसान तकलीफों से घिरा होता है तो उसे खाली भगवान दिखाई देता है कि मेरी पूरी मदद करने वाला नहीं इस समय खाली भगवान की ही आसरा लेता है लेकिन जो कुछ काम हम चाहते हैं कुछ समय के अनुसार होता है तो इसलिए उसमें भगवान भी कभी-कभी कुछ नहीं कर पाते हैं तो जो एक काम समय के अनुसार होना है तो वह समय के अनुसार ही होगा तो आप भगवान के कोई भक्ति करते हुए थक गए कुछ भी हम अपनी आस्था बनाए रखी है और जैसे आप ही के लिए चल रही हैं पर काम चला उस तरीके से अपने काम कीजिए जो जिस समय पर होगा वह उसी समय पर होगा और आगरा भगवान की कोई भी मतलब भक्ति नहीं करना चाहते हैं या कोई हल नहीं निकलता है तो सबसे अच्छा काम है अच्छे काम कीजिए और सबसे बड़ी बात है इंसान बनिए क्योंकि आजकल मनुष्य इंसान बनना भूल गया है इंसान में से इंसानियत निकल गई है जिस जाने किस-किस दुनिया भागता है लेकिन इंसानियत को भूल गया है अगर इंसान अपनी इंसानियत बरकरार रखें और इंसानियत दिखाई तो उसका कभी कोई भी काम बिगड़ता नहीं है हमेशा सुधारते हैं और और बेसहारा होगा सहारा बनी है कोशिश कीजिए अगर आप के जरिए किसी के चेहरे पर मुस्कान आ सकती है या आपकी जरिए कुछ करने से किसी से थोड़ी सी मदद मिल सकती है किसी को तो वह आपको बढ़-चढ़कर ही मिलता है उसका मत आपको जवाब बढ़-चढ़कर नहीं मिलता है अगर आप गलत करते हैं तो आपको गलत मिलता है और सही करते हैं तो सही मिलता है तो कोशिश कीजिए आप किसी के साथ अच्छा कर सकें आप एक अच्छे इंसान बन सके क्योंकि इंसान आजकल जाने किस-किस में घूम रहा है उसे खुद भी नहीं मालूम है इस भाग दौड़ भरी जिंदगी में वह यह तो भूल ही गया है कि इंसानियत का मतलब क्या है तो कोशिश कीजिए कि आपको एक अच्छे इंसान बने और इस काम को करने के बाद मैं आपको जरूर कुछ ना कुछ अच्छा ही हल निकलेगा तो कोशिश करके जरूर दें
Jab bhagavaan kee bhakti karake thak jaen aur koee hal nahin nikale to kya karana chaahie dekhie jab insaan ke dimaag mein koee baat nahin hotee hai ya kisee cheej se pareshaan hota hai kisee bhee tareeke se insaan takaleephon se ghira hota hai to use khaalee bhagavaan dikhaee deta hai ki meree pooree madad karane vaala nahin is samay khaalee bhagavaan kee hee aasara leta hai lekin jo kuchh kaam ham chaahate hain kuchh samay ke anusaar hota hai to isalie usamen bhagavaan bhee kabhee-kabhee kuchh nahin kar paate hain to jo ek kaam samay ke anusaar hona hai to vah samay ke anusaar hee hoga to aap bhagavaan ke koee bhakti karate hue thak gae kuchh bhee ham apanee aastha banae rakhee hai aur jaise aap hee ke lie chal rahee hain par kaam chala us tareeke se apane kaam keejie jo jis samay par hoga vah usee samay par hoga aur aagara bhagavaan kee koee bhee matalab bhakti nahin karana chaahate hain ya koee hal nahin nikalata hai to sabase achchha kaam hai achchhe kaam keejie aur sabase badee baat hai insaan banie kyonki aajakal manushy insaan banana bhool gaya hai insaan mein se insaaniyat nikal gaee hai jis jaane kis-kis duniya bhaagata hai lekin insaaniyat ko bhool gaya hai agar insaan apanee insaaniyat barakaraar rakhen aur insaaniyat dikhaee to usaka kabhee koee bhee kaam bigadata nahin hai hamesha sudhaarate hain aur aur besahaara hoga sahaara banee hai koshish keejie agar aap ke jarie kisee ke chehare par muskaan aa sakatee hai ya aapakee jarie kuchh karane se kisee se thodee see madad mil sakatee hai kisee ko to vah aapako badh-chadhakar hee milata hai usaka mat aapako javaab badh-chadhakar nahin milata hai agar aap galat karate hain to aapako galat milata hai aur sahee karate hain to sahee milata hai to koshish keejie aap kisee ke saath achchha kar saken aap ek achchhe insaan ban sake kyonki insaan aajakal jaane kis-kis mein ghoom raha hai use khud bhee nahin maaloom hai is bhaag daud bharee jindagee mein vah yah to bhool hee gaya hai ki insaaniyat ka matalab kya hai to koshish keejie ki aapako ek achchhe insaan bane aur is kaam ko karane ke baad main aapako jaroor kuchh na kuchh achchha hee hal nikalega to koshish karake jaroor den

bolkar speaker
जब भगवान की भक्ति करके थक जाए और कोई हल नहीं निकले तो क्या करना चाहिए?Jab Bhagwan Kee Bhakti Karke Thak Jaye Aur Koi Hal Nahi Nikle To Kya Karna Chaiye
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:37
हेलो फ्रेंड स्वागत है आपका आपका प्रश्न है जब भगवान की भक्ति करके थक जाएं और कोई हल नहीं निकले तो क्या करना चाहिए तो फ्रेंड्स आप अब आपको अपने मन में धीरज बना कर रखना है आप भगवान की भक्ति कर रहे हैं तो आपको जरूर ही फल मिलेगा आप अपना काम करते रहिए आपको फल जरुर मिलेगा नाम बिल्कुल मत रखिए और आप अपनी भगवान पर आस्था बनाए रखिए वहां आपकी समस्या का जरूर करेंगे और आपको अपना भी कर्म भी कुछ करते रहना है कर्म करते करते धीरे आप अपने लक्ष्यों जरूर पड़ेंगे और सफलता प्राप्त करेंगे तो फ्रेंड जवाब पसंद आए तो लाइक करें धन्यवाद
Helo phrend svaagat hai aapaka aapaka prashn hai jab bhagavaan kee bhakti karake thak jaen aur koee hal nahin nikale to kya karana chaahie to phrends aap ab aapako apane man mein dheeraj bana kar rakhana hai aap bhagavaan kee bhakti kar rahe hain to aapako jaroor hee phal milega aap apana kaam karate rahie aapako phal jarur milega naam bilkul mat rakhie aur aap apanee bhagavaan par aastha banae rakhie vahaan aapakee samasya ka jaroor karenge aur aapako apana bhee karm bhee kuchh karate rahana hai karm karate karate dheere aap apane lakshyon jaroor padenge aur saphalata praapt karenge to phrend javaab pasand aae to laik karen dhanyavaad

bolkar speaker
जब भगवान की भक्ति करके थक जाए और कोई हल नहीं निकले तो क्या करना चाहिए?Jab Bhagwan Kee Bhakti Karke Thak Jaye Aur Koi Hal Nahi Nikle To Kya Karna Chaiye
Pt. Rakesh  Chaturvedi ( Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant | Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Pt. जी का जवाब
Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant |
1:31
नमस्कार दोस्तों प्रार्थना है कि जब भगवान की भक्ति करके थक जाए और कोई हल नहीं निकले तो क्या करना चाहिए तो दोस्तों हमारी महत्वाकांक्षाओं ज्यादा होती है भगवान से हम सोचते हैं कि सारी चीजें भगवान एक व्यक्ति को ही दे दे पूजा पाठ से तो दोस्तों ऐसा नहीं होता है आप देखेंगे कि ऋषि मुनि जो लंबे समय तक वर्षों तक तब करते थे तब जाकर उनको भगवान प्रकट होते थे और भर देते थे हम मामूली सी पूजा पाठ करके सोचते हैं कि भगवान प्रसन्न होंगे और हमें कुछ मनचाहा चीजें दे देंगे तो हमें ज्यादा उम्मीद नहीं लगानी चाहिए क्यों भगत भागवत गीता में कृष्ण काहे कर्मण्ए वाधिकारस्ते मा फलेशु कदाचना कर्म करो फल की इच्छा ना करो आप कर्म ही नहीं करोगे तो भगवान भी आपको कुछ नहीं देगा तो आपको कर्म करते रहना चाहिए इस काम में आप लगे हुए हो जो आप उम्मीद कर रहे हो उसने आप रात में सील रहो और भगवान का भी ध्यान करते रहो तब जाकर कुछ आपको हासिल होगा और सारी चीजें दोस्तों कुछ कर्मों में भी लिखी होती है सारी चीज हासिल नहीं हो सकती हैं लेकिन कर्म को बदलने के लिए आपको मूड तपस्या करनी पड़ेगी पारिवारिक वह क्या करना पड़ेगा ऐसा जो कि संभव नहीं हो पाता है लेकिन ज्यादा उम्मीद ना लगाकर करें और कार्य करते रहें तभी जीवन सफल आपको लगेगा धन्यवाद
Namaskaar doston praarthana hai ki jab bhagavaan kee bhakti karake thak jae aur koee hal nahin nikale to kya karana chaahie to doston hamaaree mahatvaakaankshaon jyaada hotee hai bhagavaan se ham sochate hain ki saaree cheejen bhagavaan ek vyakti ko hee de de pooja paath se to doston aisa nahin hota hai aap dekhenge ki rshi muni jo lambe samay tak varshon tak tab karate the tab jaakar unako bhagavaan prakat hote the aur bhar dete the ham maamoolee see pooja paath karake sochate hain ki bhagavaan prasann honge aur hamen kuchh manachaaha cheejen de denge to hamen jyaada ummeed nahin lagaanee chaahie kyon bhagat bhaagavat geeta mein krshn kaahe karmane vaadhikaaraste ma phaleshu kadaachana karm karo phal kee ichchha na karo aap karm hee nahin karoge to bhagavaan bhee aapako kuchh nahin dega to aapako karm karate rahana chaahie is kaam mein aap lage hue ho jo aap ummeed kar rahe ho usane aap raat mein seel raho aur bhagavaan ka bhee dhyaan karate raho tab jaakar kuchh aapako haasil hoga aur saaree cheejen doston kuchh karmon mein bhee likhee hotee hai saaree cheej haasil nahin ho sakatee hain lekin karm ko badalane ke lie aapako mood tapasya karanee padegee paarivaarik vah kya karana padega aisa jo ki sambhav nahin ho paata hai lekin jyaada ummeed na lagaakar karen aur kaary karate rahen tabhee jeevan saphal aapako lagega dhanyavaad

bolkar speaker
जब भगवान की भक्ति करके थक जाए और कोई हल नहीं निकले तो क्या करना चाहिए?Jab Bhagwan Kee Bhakti Karke Thak Jaye Aur Koi Hal Nahi Nikle To Kya Karna Chaiye
Laxmi devi sant Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Laxmi जी का जवाब
Personal Life guidance session book Appointment ID - discoveryourjourney23@gmail.com
2:30
कृष्ण है जब भगवान की भक्ति करके थक जाएं और कोई हल नहीं निकले तो क्या करना चाहिए जी हां दोस्तों भगवान जी नहीं गए थे क्या आप मेरी भक्ति करें हां अगर श्रद्धा भाव से आप मुझे 5 मिनट भी याद कर ले तो बहुत बड़ी बात है लेकिन भगवान जी यह जरूर कहते हैं कि यह जीवन आपका है और इसे आपको ही चलाना है अर्थात स्वयं को कितना प्रेम करो कि हर कार्य संपन्न हो अपनी आंख के लिए अब कुछ नहीं कर रहे हैं अगर आप पूजा भी कर रहे हैं तो कुछ अच्छा हो जाए स्वार्थ के लिए कभी यह नहीं सोच रहे हैं कि अगर मैं पूजा करूंगा कि आप मेरे अंदर से बुराइयां चली जाएगी अगर मैं पूजा करूंगा तो क्या सच में मैं क्यों हूं मैं ऐसा नहीं सोच रहे हैं क्या मैं पूजा करूंगा तो मेरे पास पैसा आएगा क्या मैं पूजा करूंगा तो मुझे बंगला मिल जाएगा मुझे गाड़ी मिल जाएगी मैं तो अपने स्वार्थ के लिए पूछ रहा हूं कोई भी समस्या आ रही तो समझ सकती सलूशन के लिए आप पूजा करने जा रहे हैं और आप यह नहीं सोचना की समस्या जो आ रही है उसका सलूशन आप खुद है अपने आप से प्रेम करना भूल चुके हैं इससे कितना कहता है कि स्वयं से प्रियंका कृष्ण और राधा उसे कितना कहते हैं कि कृष्ण के अंदर जो प्रेम है वह धारा है राधा है जो प्रभावित हो रही है धारा की रोशनी को अपने अंदर समर्पित करो और अपने आप को प्रेम करो देखना धीरे-धीरे वह सारी चीजें होंगी जो आप सोच भी नहीं सकते हर एक पॉजिटिव चीज मेनिफेस्ट होने लगी आग में अपने अंदर की गंदगी को साफ करके अपने आप से प्रेम करना सीख लो अपने आप से प्रेम इसलिए मत करो कि मुझे सामान मुझे भी ऐसा होता है जो निस्वार्थ होता है अनकंडीशनल होता है जो एक से नहीं सब से होता है स्वयं से भी उतना ही हंड्रेड पर्सन और सब से भी उतना ही हंड्रेड परसेंट हमको पहले आप सुधारो देखना धीरे-धीरे हर एक चीज मेनिफेस्ट होगी जी भगवान की अगर तुझे किसने की है कि 2 मिनट 3 मिनट दे सकते हैं लेकिन अगर आप खुद को समय नहीं दे रहे हैं तो मतलब आप अपनी समस्याओं को अर्थात अपनी समस्याओं के सलूशन को समय नहीं दे रहे समस्याओं को समय दे रहे हैं अपने आपको समय दीजिए आप की गंदगी को साफ करें सलूशन अपने आप मिलते जाएंगे हर एक समझ सके धन्यवाद
Krshn hai jab bhagavaan kee bhakti karake thak jaen aur koee hal nahin nikale to kya karana chaahie jee haan doston bhagavaan jee nahin gae the kya aap meree bhakti karen haan agar shraddha bhaav se aap mujhe 5 minat bhee yaad kar le to bahut badee baat hai lekin bhagavaan jee yah jaroor kahate hain ki yah jeevan aapaka hai aur ise aapako hee chalaana hai arthaat svayan ko kitana prem karo ki har kaary sampann ho apanee aankh ke lie ab kuchh nahin kar rahe hain agar aap pooja bhee kar rahe hain to kuchh achchha ho jae svaarth ke lie kabhee yah nahin soch rahe hain ki agar main pooja karoonga ki aap mere andar se buraiyaan chalee jaegee agar main pooja karoonga to kya sach mein main kyon hoon main aisa nahin soch rahe hain kya main pooja karoonga to mere paas paisa aaega kya main pooja karoonga to mujhe bangala mil jaega mujhe gaadee mil jaegee main to apane svaarth ke lie poochh raha hoon koee bhee samasya aa rahee to samajh sakatee salooshan ke lie aap pooja karane ja rahe hain aur aap yah nahin sochana kee samasya jo aa rahee hai usaka salooshan aap khud hai apane aap se prem karana bhool chuke hain isase kitana kahata hai ki svayan se priyanka krshn aur raadha use kitana kahate hain ki krshn ke andar jo prem hai vah dhaara hai raadha hai jo prabhaavit ho rahee hai dhaara kee roshanee ko apane andar samarpit karo aur apane aap ko prem karo dekhana dheere-dheere vah saaree cheejen hongee jo aap soch bhee nahin sakate har ek pojitiv cheej meniphest hone lagee aag mein apane andar kee gandagee ko saaph karake apane aap se prem karana seekh lo apane aap se prem isalie mat karo ki mujhe saamaan mujhe bhee aisa hota hai jo nisvaarth hota hai anakandeeshanal hota hai jo ek se nahin sab se hota hai svayan se bhee utana hee handred parsan aur sab se bhee utana hee handred parasent hamako pahale aap sudhaaro dekhana dheere-dheere har ek cheej meniphest hogee jee bhagavaan kee agar tujhe kisane kee hai ki 2 minat 3 minat de sakate hain lekin agar aap khud ko samay nahin de rahe hain to matalab aap apanee samasyaon ko arthaat apanee samasyaon ke salooshan ko samay nahin de rahe samasyaon ko samay de rahe hain apane aapako samay deejie aap kee gandagee ko saaph karen salooshan apane aap milate jaenge har ek samajh sake dhanyavaad

bolkar speaker
जब भगवान की भक्ति करके थक जाए और कोई हल नहीं निकले तो क्या करना चाहिए?Jab Bhagwan Kee Bhakti Karke Thak Jaye Aur Koi Hal Nahi Nikle To Kya Karna Chaiye
Harender Kumar Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Harender जी का जवाब
As School administration & Principal
2:02
जब भगवान की भक्ति करके थक जाए और कोई हल नहीं निकले तो क्या करना चाहिए कि भक्ति अलग चीज है और किसी चीज का भगवान की भक्ति से कोई हल नहीं निकलता हमेशा शांत मन से सोच कर भी भगवान की भक्ति में जाने का मतलब ही होता है कि मन को शांत और स्थिर करो और जब मन शांत और स्थित हो जाए तो समस्या की तरफ जाओ और उस समस्या को ध्यान से सोचो कि क्या और कैसी को निवारण क्या है आप भी संतान नहीं हो रही है भगवान की मर्जी है लेकिन वैज्ञानिक दृष्टिकोण का ध्यान रखें आप दोनों अपना चेकअप तो कहीं दोनों के अंदर कोई अगर नेचुरली कहीं न कहीं कोई कमी है तो भगवान कर रहे हो तो कहीं नहीं भगवान पर विश्वास रखते लेकिन थकना नहीं है अपने कर्तव्यों से ही अपने साथ मन से अपने विचारों से उस समस्या को हल निकाले और अभी कह रहे हो कि यह नहीं निकले तो क्या अपना विश्वास हो रहा है पानी छोड़ा हमने देखा है कि छोटा सा जी टीवी बड़े सहित सी को लेकर पहाड़ पर चढ़ने का प्रयास के तीन बार गिरता है फिसल जाता है रास्ते लेकिन फिर भी हो अपनी मंजिल की तरफ जाता है तुम कहीं न कहीं हमें उस विश्वास को नहीं कम करना चाहिए और अपने कर्तव्य परायण और कर्तव्यनिष्ठ को बनाए रखना कहते हैं कर्मण्येवाधिकारस्ते मा फलेषु कदाचन कर्तव्य करने का अधिकार है जो परिणाम होगा वह पता चल जाएगा
Jab bhagavaan kee bhakti karake thak jae aur koee hal nahin nikale to kya karana chaahie ki bhakti alag cheej hai aur kisee cheej ka bhagavaan kee bhakti se koee hal nahin nikalata hamesha shaant man se soch kar bhee bhagavaan kee bhakti mein jaane ka matalab hee hota hai ki man ko shaant aur sthir karo aur jab man shaant aur sthit ho jae to samasya kee taraph jao aur us samasya ko dhyaan se socho ki kya aur kaisee ko nivaaran kya hai aap bhee santaan nahin ho rahee hai bhagavaan kee marjee hai lekin vaigyaanik drshtikon ka dhyaan rakhen aap donon apana chekap to kaheen donon ke andar koee agar nechuralee kaheen na kaheen koee kamee hai to bhagavaan kar rahe ho to kaheen nahin bhagavaan par vishvaas rakhate lekin thakana nahin hai apane kartavyon se hee apane saath man se apane vichaaron se us samasya ko hal nikaale aur abhee kah rahe ho ki yah nahin nikale to kya apana vishvaas ho raha hai paanee chhoda hamane dekha hai ki chhota sa jee teevee bade sahit see ko lekar pahaad par chadhane ka prayaas ke teen baar girata hai phisal jaata hai raaste lekin phir bhee ho apanee manjil kee taraph jaata hai tum kaheen na kaheen hamen us vishvaas ko nahin kam karana chaahie aur apane kartavy paraayan aur kartavyanishth ko banae rakhana kahate hain karmanyevaadhikaaraste ma phaleshu kadaachan kartavy karane ka adhikaar hai jo parinaam hoga vah pata chal jaega

bolkar speaker
जब भगवान की भक्ति करके थक जाए और कोई हल नहीं निकले तो क्या करना चाहिए?Jab Bhagwan Kee Bhakti Karke Thak Jaye Aur Koi Hal Nahi Nikle To Kya Karna Chaiye
Dukh kaise mite Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Dukh जी का जवाब
Unknown
2:58
आपने पूछा कि जब भगवान की भक्ति करके ले जाएंगे और कोई अग्नि निकले तो क्या करना चाहिए और एक कष्ट नहीं हमारी कसम ऐसा नियम नहीं है भक्ति करते ऐसी कृपा उसी करते सबसे अवश्य मिटाते के साथ में थोड़ा नियम पालन करना होता है एक पवित्र विचार रखने होते हैं और अगर आप शादीशुदा हैं तो दो संतान के बाद मानसिक व शारीरिक रूप से पानी की हरे कृष्ण हरे क्यों की आप जब उनका ध्यान हो जब करते हैं तो आपके परिवार की पूरी हिस्ट्री उनके पास चली जाती है आपके संतान कितनी हैं आप क्या बुरा सोचते हैं अच्छा सोचते हैं विषय भूगोल कितने आप लगे रहते कितने अब उनकी भक्ति मामले के रहे हैं हरे कृष्णा यह देखते हैं सब हरे कृष्ण हरे कृष्ण हरे कृष्ण की भक्ति करो तो इस वाली नहीं होता की भक्ति करें और हमारी सनसनी मिठाई मेरी उनसे मिठाई है तभी तो मैं विश्वास के साथ करो कि सुनने किसी मनुष्य को अकेले ने छुड़ाएं हरे कृष्ण हरे कृष्ण सभी लोगों से जुड़ सकते हैं जैसे सूर्य से हम कितनी रोशनी उसने उस से शुरू से कोई कम नहीं पड़ती इसी तरह इससे कितनी भी हम कृपा आ जाए तो इसमें कृपा करनी पड़ती है हरे कृष्ण हरे कृष्ण को भगवान को एक ही बात है भागवत माया है कि एक दूसरे को नहीं समझ पाते ज्ञानी लोग कहते हैं योग डूबा डूबा पुलकित हरे कृष्ण हरे कृष्ण तो बहुत आती है प्रार्थना की सबसे बड़ी बात कोई नहीं देते और आप इसे कृपा करें बता देते हैं ताकि मैं सावधान हो जाऊं और उसी जगह नहीं जाऊंगा खराब होने वाला हो हरे कृष्ण हरे कृष्ण हरे कृष्ण का नियम कभी नहीं बदलता है हरे कृष्ण हरे कृष्ण संसार का नाम तो बदल सकते हैं आपके चाहिए तो बहुत कुछ मैंने अपलोड किया उसे पर आप अपना ध्यान पर उसने अपना ज्ञान मिलता है उस विश्वास हो तो आप गोकुल समय ज्यादा मिलता है हरे कृष्णा
Aapane poochha ki jab bhagavaan kee bhakti karake le jaenge aur koee agni nikale to kya karana chaahie aur ek kasht nahin hamaaree kasam aisa niyam nahin hai bhakti karate aisee krpa usee karate sabase avashy mitaate ke saath mein thoda niyam paalan karana hota hai ek pavitr vichaar rakhane hote hain aur agar aap shaadeeshuda hain to do santaan ke baad maanasik va shaareerik roop se paanee kee hare krshn hare kyon kee aap jab unaka dhyaan ho jab karate hain to aapake parivaar kee pooree histree unake paas chalee jaatee hai aapake santaan kitanee hain aap kya bura sochate hain achchha sochate hain vishay bhoogol kitane aap lage rahate kitane ab unakee bhakti maamale ke rahe hain hare krshna yah dekhate hain sab hare krshn hare krshn hare krshn kee bhakti karo to is vaalee nahin hota kee bhakti karen aur hamaaree sanasanee mithaee meree unase mithaee hai tabhee to main vishvaas ke saath karo ki sunane kisee manushy ko akele ne chhudaen hare krshn hare krshn sabhee logon se jud sakate hain jaise soory se ham kitanee roshanee usane us se shuroo se koee kam nahin padatee isee tarah isase kitanee bhee ham krpa aa jae to isamen krpa karanee padatee hai hare krshn hare krshn ko bhagavaan ko ek hee baat hai bhaagavat maaya hai ki ek doosare ko nahin samajh paate gyaanee log kahate hain yog dooba dooba pulakit hare krshn hare krshn to bahut aatee hai praarthana kee sabase badee baat koee nahin dete aur aap ise krpa karen bata dete hain taaki main saavadhaan ho jaoon aur usee jagah nahin jaoonga kharaab hone vaala ho hare krshn hare krshn hare krshn ka niyam kabhee nahin badalata hai hare krshn hare krshn sansaar ka naam to badal sakate hain aapake chaahie to bahut kuchh mainne apalod kiya use par aap apana dhyaan par usane apana gyaan milata hai us vishvaas ho to aap gokul samay jyaada milata hai hare krshna

bolkar speaker
जब भगवान की भक्ति करके थक जाए और कोई हल नहीं निकले तो क्या करना चाहिए?Jab Bhagwan Kee Bhakti Karke Thak Jaye Aur Koi Hal Nahi Nikle To Kya Karna Chaiye
KamalKishorAwasthi Bolkar App
Top Speaker,Level 55
सुनिए KamalKishorAwasthi जी का जवाब
घर पर ही रहता हूं बैटरी बनाने का कार्य करता हूं और मोबाइल रिचार्ज इत्यादि
4:53
सवाल है जब भगवान की भक्ति करके थक जाएं और कोई हल नहीं निकले तो क्या करना चाहिए देखिए भगवान की भक्ति से आप किस लिए जाते हैं क्योंकि आप जानते ही नहीं कि भक्ति आखिर होती क्या है अब मैं आपको एक तर्क के माध्यम से समझाता हूं क्या भगवान का सुबह-शाम नाम लेना हर रोज मंदिर जाना व्रत रखना नाम जपना भक्ति अगर आपका जवाब हां है तो सम्मान के साथ कहना चाहूंगा कि आप गलत हो आप इसलिए गलत हो क्योंकि भगवान को आप की चापलूसी नहीं चाहिए उनको आपका समर्थन भी नहीं चाहिए वह आपको अपना चमचा भी नहीं बनाना चाहते हैं जो हर वक्त उनकी तारीफ करता रहे उनको नहीं पसंद की आप उनको खुद को तकलीफ देकर ब्लैकमेल करें तो आइए आपको एक इतना आसान तरीका बताता हूं भगवान की भक्ति का जो आप बड़ी ही आसानी से कर लेंगे और कभी सकेंगे भी नहीं और भगवान भी आपकी हर बात हर बार तूने यह तरीका बहुत पुराना है मेरे बुजुर्गों द्वारा मुझे बताया गया था जो मेरी तर्क बुद्धि के हिसाब से भी ठीक है और मेरा आजमाया कामयाब तरीका है आप भगवान जी को एक आदर्श पिता जी समझो अब आप सोचो कि आप अपने पिता से कैसे दो हार करती हो तथा पिता आपसे कैसे व्यवहार की उम्मीद करते हैं अब आपने सोच लिया तो समझिए कि एक पिता अपने बच्चों से चाहता है कि उसके बच्चे सही राह पर चलें अच्छे कर्म करें जो भी वह कहे उसको माने अपना सब काम समय से करें तथा दूसरे बच्चों से यानी अपने भाई बहन से मिलजुल कर प्रेम पूर्वक रहे इसके अलावा एक आदर्श पिता आपसे क्योंकि प्यार करता है तो वह भी चाहता है कि आप उससे प्रेम करें अब अगर आप अपने पिता से प्रेम करते हैं तो क्या कभी आप प्रेम करते करते थक सकते हैं नहीं ना बस यही समझना समझाना था आपको जब आप भगवान से पिता पुत्री या पुत्र का रिश्ता बना के रखते हैं तो आपको भगवान से सिर्फ प्रेम करने की जरूरत है और जब आप भगवान से पिता समान प्यार करेंगे तो उनकी आज्ञा मानेंगे तो आपको अपने भगवान से कुछ भी मांगने के लिए कुछ कहना नहीं पड़ेगा वह आपका मन वैसे ही पढ़ लेते हैं जैसे एक पिता बिना बच्चों के मांगी बिना ही जानता है कि बच्चों की क्या जरूरत है और उसको पूरी करता है अब जब आप भगवान को अपना पिता बना लेंगे और उनसे प्रेम करेंगे तो आप जिद भी करेंगे तो वह भी पूरी होगी अब क्योंकि आप प्यार करते हैं भगवान से और भक्ति का सही मतलब भी भगवान से प्रेम करना है और आप ने उन्हें अपना पिता मान लिया तो वह भी आपको अपना बच्चा मानकर जो भी आपके लिए भला है बिना आपके मांगे भी आपको देंगे आपके जीवन की हर जरूरत अपनी जिम्मेदारी समझ कर खुद ही पूरी कर देंगे बस आपको उनकी लाइफ संतान बन के रहना है बिटिया बेटा बने रहना है अब आप बताओ क्या कोई प्रेम करते करते थक सकता है इसलिए भक्ति का सही मतलब प्रेम है और आप प्यार कर रहे होते भगवान से तो यह सवाल ही ना होता कि मैं भक्ति करते करते थक गया अब भाग मानसी प्यार करना शुरू करें भगवान से प्रेम करें हल ना निकले ऐसा हो ही नहीं सकता है धन्यवाद
Savaal hai jab bhagavaan kee bhakti karake thak jaen aur koee hal nahin nikale to kya karana chaahie dekhie bhagavaan kee bhakti se aap kis lie jaate hain kyonki aap jaanate hee nahin ki bhakti aakhir hotee kya hai ab main aapako ek tark ke maadhyam se samajhaata hoon kya bhagavaan ka subah-shaam naam lena har roj mandir jaana vrat rakhana naam japana bhakti agar aapaka javaab haan hai to sammaan ke saath kahana chaahoonga ki aap galat ho aap isalie galat ho kyonki bhagavaan ko aap kee chaapaloosee nahin chaahie unako aapaka samarthan bhee nahin chaahie vah aapako apana chamacha bhee nahin banaana chaahate hain jo har vakt unakee taareeph karata rahe unako nahin pasand kee aap unako khud ko takaleeph dekar blaikamel karen to aaie aapako ek itana aasaan tareeka bataata hoon bhagavaan kee bhakti ka jo aap badee hee aasaanee se kar lenge aur kabhee sakenge bhee nahin aur bhagavaan bhee aapakee har baat har baar toone yah tareeka bahut puraana hai mere bujurgon dvaara mujhe bataaya gaya tha jo meree tark buddhi ke hisaab se bhee theek hai aur mera aajamaaya kaamayaab tareeka hai aap bhagavaan jee ko ek aadarsh pita jee samajho ab aap socho ki aap apane pita se kaise do haar karatee ho tatha pita aapase kaise vyavahaar kee ummeed karate hain ab aapane soch liya to samajhie ki ek pita apane bachchon se chaahata hai ki usake bachche sahee raah par chalen achchhe karm karen jo bhee vah kahe usako maane apana sab kaam samay se karen tatha doosare bachchon se yaanee apane bhaee bahan se milajul kar prem poorvak rahe isake alaava ek aadarsh pita aapase kyonki pyaar karata hai to vah bhee chaahata hai ki aap usase prem karen ab agar aap apane pita se prem karate hain to kya kabhee aap prem karate karate thak sakate hain nahin na bas yahee samajhana samajhaana tha aapako jab aap bhagavaan se pita putree ya putr ka rishta bana ke rakhate hain to aapako bhagavaan se sirph prem karane kee jaroorat hai aur jab aap bhagavaan se pita samaan pyaar karenge to unakee aagya maanenge to aapako apane bhagavaan se kuchh bhee maangane ke lie kuchh kahana nahin padega vah aapaka man vaise hee padh lete hain jaise ek pita bina bachchon ke maangee bina hee jaanata hai ki bachchon kee kya jaroorat hai aur usako pooree karata hai ab jab aap bhagavaan ko apana pita bana lenge aur unase prem karenge to aap jid bhee karenge to vah bhee pooree hogee ab kyonki aap pyaar karate hain bhagavaan se aur bhakti ka sahee matalab bhee bhagavaan se prem karana hai aur aap ne unhen apana pita maan liya to vah bhee aapako apana bachcha maanakar jo bhee aapake lie bhala hai bina aapake maange bhee aapako denge aapake jeevan kee har jaroorat apanee jimmedaaree samajh kar khud hee pooree kar denge bas aapako unakee laiph santaan ban ke rahana hai bitiya beta bane rahana hai ab aap batao kya koee prem karate karate thak sakata hai isalie bhakti ka sahee matalab prem hai aur aap pyaar kar rahe hote bhagavaan se to yah savaal hee na hota ki main bhakti karate karate thak gaya ab bhaag maanasee pyaar karana shuroo karen bhagavaan se prem karen hal na nikale aisa ho hee nahin sakata hai dhanyavaad

bolkar speaker
जब भगवान की भक्ति करके थक जाए और कोई हल नहीं निकले तो क्या करना चाहिए?Jab Bhagwan Kee Bhakti Karke Thak Jaye Aur Koi Hal Nahi Nikle To Kya Karna Chaiye
Dinesh Ji Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Dinesh जी का जवाब
Ji
2:19
सवाल पूछा गया है कि जब भगवान की भक्ति करके थक जाए और कोई हल नहीं निकले तो क्या करना चाहिए तो इसका जवाब मैंने सिर्फ अपनी बुद्धि के तरफ से ही दे सकता हूं और आशा करता हूं कि इससे किसी के भी दिल को ठेस ना पहुंचे तो सवाल करते को बता दें कि यदि आप थक गए हैं तो शायद वह भक्ति नहीं वह सेवा हो सकती है और जब भी इंसान पति करता है तो उसके अंदर यह भाव जरूर उठता है कि अभी तो मैंने कुछ किया ही नहीं अभी तो मैं लायक ही नहीं हूं भगवान के दर्शन को प्राप्त करने के लिए तू जब भी भक्ति स्तर पर पहुंच जाएगी कि आप अपने आप को नीचा समझने बैठ जाएंगे आपको लगे कि मैंने कुछ किया ही नहीं है मैं बहुत की अदम हूं बहुत ही पापी हूं तू वस्त्र आने में बहुत समय लगने वाला है यह समय लगेगा तो अभी जब आप थक गए हैं तो शायद पर वह पति नहीं वह सेवा है और सेवा जो तन से की जाती है इसलिए इंसान थक जाता है और शरीर से भी और थोड़ा थोड़ा मन से भी तो इसके आगे आपको क्या करना है और कैसे करना है यह आपके गुरु जन आपके आपका जो राह दिखाने वाले हैं वह ज्यादा अच्छे से बता सकते हैं डिटेल में परंतु मेरा यह तक आप अपने पर्सनली मत लीजिएगा दादा तरीके से आपको दिल दुखाने के लिए मैंने नहीं कहा है परंतु जो हमने संतो से सुना है मैं वही कह रहा हूं की बत्ती जब भी बढ़ती है तब इंसान नीचा हो जाता है यह सोचने लगता है कि मैंने बहुत ज्यादा पाठ किया अभी तो मैं बिल्कुल भी लायक नहीं हूं किसी फल को पाने के लिए उम्मीद करता हूं मेरा ही जवाब आपको संतुष्टि देगा अगर हां तो अपने अगले सवाल के साथ मुझसे जरूर जुड़ जाएगा धन्यवाद
Savaal poochha gaya hai ki jab bhagavaan kee bhakti karake thak jae aur koee hal nahin nikale to kya karana chaahie to isaka javaab mainne sirph apanee buddhi ke taraph se hee de sakata hoon aur aasha karata hoon ki isase kisee ke bhee dil ko thes na pahunche to savaal karate ko bata den ki yadi aap thak gae hain to shaayad vah bhakti nahin vah seva ho sakatee hai aur jab bhee insaan pati karata hai to usake andar yah bhaav jaroor uthata hai ki abhee to mainne kuchh kiya hee nahin abhee to main laayak hee nahin hoon bhagavaan ke darshan ko praapt karane ke lie too jab bhee bhakti star par pahunch jaegee ki aap apane aap ko neecha samajhane baith jaenge aapako lage ki mainne kuchh kiya hee nahin hai main bahut kee adam hoon bahut hee paapee hoon too vastr aane mein bahut samay lagane vaala hai yah samay lagega to abhee jab aap thak gae hain to shaayad par vah pati nahin vah seva hai aur seva jo tan se kee jaatee hai isalie insaan thak jaata hai aur shareer se bhee aur thoda thoda man se bhee to isake aage aapako kya karana hai aur kaise karana hai yah aapake guru jan aapake aapaka jo raah dikhaane vaale hain vah jyaada achchhe se bata sakate hain ditel mein parantu mera yah tak aap apane parsanalee mat leejiega daada tareeke se aapako dil dukhaane ke lie mainne nahin kaha hai parantu jo hamane santo se suna hai main vahee kah raha hoon kee battee jab bhee badhatee hai tab insaan neecha ho jaata hai yah sochane lagata hai ki mainne bahut jyaada paath kiya abhee to main bilkul bhee laayak nahin hoon kisee phal ko paane ke lie ummeed karata hoon mera hee javaab aapako santushti dega agar haan to apane agale savaal ke saath mujhase jaroor jud jaega dhanyavaad

bolkar speaker
जब भगवान की भक्ति करके थक जाए और कोई हल नहीं निकले तो क्या करना चाहिए?Jab Bhagwan Kee Bhakti Karke Thak Jaye Aur Koi Hal Nahi Nikle To Kya Karna Chaiye
shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
1:35
आज आप का सवाल है कि जो भगवान की भक्ति करेंगे हट जाए और कोई हल नहीं निकले तो क्या करना चाहिए चुपचाप बैठ कर सिर्फ भक्ति कर रहे हैं और का रास्ता और हर इनक्रीस जहां तक आपको पहुंचना है वह अपने आप से हो जाता है दिमाग के विरोध के लिए बहुत सारे खाने पीने की चीज है उसको काट लेते हैं और लिख कर ले रहे हैं बॉर्नविटा पी ले रहे हैं काजू बदाम खा रहे थे दिमाग तो मेरा तेज हो जाएगी जब तक किताब नहीं खोलेंगे एग्जाम के लिए पड़ेंगे नहीं दिमाग को यूज नहीं करेंगे तो कोई फायदा नहीं फिर इंटेलिजेंट कैसे मुझे तो दिख भी नहीं रहा तो भक्ति से क्या होता कर पाई जाती है आपको तेरा कहां है मन तो शांति मिलता है कि नहीं सब कुछ अच्छा होगा लेकिन वहां से उठकर आपको रास्ता और हम खुद ही निकालना है जहां तक आपको दिखा देते आपको आइडियल मिलता है कि नहीं शायद मुझे करना से क्योंकि जब आपका मन शांत होता है भक्ति के बाद तो आप रास्ता ढूंढ पाते कुछ सोच पाते जब हम घबराते हैं तो उनको भी रास्ता नहीं बोल पाती के बाद आपको रास्ता दिखा दिया जाता है लेकिन रास्ते में चलना हमको द सलूशन निकाल ना आपको बता कैसे चलना है कैसे उठना कैसे बैठना कैसे स्ट्रगल करना वह आप पर निर्भर करता है सिर्फ हम ही नहीं कह सकते कि मैं ऊपर वाले से मांगा और सारी चीज बस अच्छा हो जाए मम्मी से आपको भी कोशिश करना पड़ता आपको कुछ कीजिए अगर कोशिश करेंगे तो हल जरूर निकलेगा
Aaj aap ka savaal hai ki jo bhagavaan kee bhakti karenge hat jae aur koee hal nahin nikale to kya karana chaahie chupachaap baith kar sirph bhakti kar rahe hain aur ka raasta aur har inakrees jahaan tak aapako pahunchana hai vah apane aap se ho jaata hai dimaag ke virodh ke lie bahut saare khaane peene kee cheej hai usako kaat lete hain aur likh kar le rahe hain bornavita pee le rahe hain kaajoo badaam kha rahe the dimaag to mera tej ho jaegee jab tak kitaab nahin kholenge egjaam ke lie padenge nahin dimaag ko yooj nahin karenge to koee phaayada nahin phir intelijent kaise mujhe to dikh bhee nahin raha to bhakti se kya hota kar paee jaatee hai aapako tera kahaan hai man to shaanti milata hai ki nahin sab kuchh achchha hoga lekin vahaan se uthakar aapako raasta aur ham khud hee nikaalana hai jahaan tak aapako dikha dete aapako aaidiyal milata hai ki nahin shaayad mujhe karana se kyonki jab aapaka man shaant hota hai bhakti ke baad to aap raasta dhoondh paate kuchh soch paate jab ham ghabaraate hain to unako bhee raasta nahin bol paatee ke baad aapako raasta dikha diya jaata hai lekin raaste mein chalana hamako da salooshan nikaal na aapako bata kaise chalana hai kaise uthana kaise baithana kaise stragal karana vah aap par nirbhar karata hai sirph ham hee nahin kah sakate ki main oopar vaale se maanga aur saaree cheej bas achchha ho jae mammee se aapako bhee koshish karana padata aapako kuchh keejie agar koshish karenge to hal jaroor nikalega

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • जब भगवान की भक्ति करके थक जाए और कोई हल नहीं निकले तो क्या करना चाहिए जब कोई हल नहीं निकले तो क्या करना चाहिए
URL copied to clipboard