#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker

क्यों काला रंग सामान्य रूप से अंधेरे और बुराई के साथ जोड़ा जाता है?

Kyon Kala Rang Samanya Roop Se Andhere Aur Burai Ke Sath Joda Jata Hai
shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
1:27
हेलो जीवन तो आज आप का सवाल है कि क्यों काला रंग सामान्य रूप से अंधेरे और बुराई के साथ जोड़ा जाता है कि कोई भी रंग में क्यों दिखता है जब उसकी कोई पीला कलर है या कोई लाल कलर है उस पर जब लाइट पड़ता है वह लाइट रिफ्लेक्ट होकर हमारे यहां आता है तब जाकर वो कलर देख पाते हैं लेकिन काला कलर में क्या होता है जब कोई भी लाइट काला कलर में पड़ता है तो रिफ्लेक्ट नहीं हो पाता क्योंकि कलर की है कि वह काला दिखता है वह ठोकर नहीं आता है जिसकी वजह से उसे अंधेरे का धीरे के सामान्य माना जाता है दूसरे के साथ जोड़ा जाता है कि आज से काली बिल्ली रास्ता यह कर दिया फिर काला चीज में जाता है वह वापस हमारे पास होकर नहीं आता तू इसीलिए कहा जाता है कि वह चीज को बुराई के सामान भी माना जाता है जैसे कि अगर कोई इंसान को अगर हम कुछ बता रहा फिर मेहनत कर रहे हो उसकी हेल्प कर रहे हैं तो ना ही वह शाबाशी ना ही किसी तरह का हमसे अच्छा सा रिलेशन एवं से खराब तरीके से बात करता तो हमें बैक में कुछ भी इतना भी कर लो अच्छा नहीं मिलता है या फिर जितना हम किए थे उतना भी नहीं मिलता है काला कलर को बुराई के साथ भी जोड़ा गया है
Helo jeevan to aaj aap ka savaal hai ki kyon kaala rang saamaany roop se andhere aur buraee ke saath joda jaata hai ki koee bhee rang mein kyon dikhata hai jab usakee koee peela kalar hai ya koee laal kalar hai us par jab lait padata hai vah lait riphlekt hokar hamaare yahaan aata hai tab jaakar vo kalar dekh paate hain lekin kaala kalar mein kya hota hai jab koee bhee lait kaala kalar mein padata hai to riphlekt nahin ho paata kyonki kalar kee hai ki vah kaala dikhata hai vah thokar nahin aata hai jisakee vajah se use andhere ka dheere ke saamaany maana jaata hai doosare ke saath joda jaata hai ki aaj se kaalee billee raasta yah kar diya phir kaala cheej mein jaata hai vah vaapas hamaare paas hokar nahin aata too iseelie kaha jaata hai ki vah cheej ko buraee ke saamaan bhee maana jaata hai jaise ki agar koee insaan ko agar ham kuchh bata raha phir mehanat kar rahe ho usakee help kar rahe hain to na hee vah shaabaashee na hee kisee tarah ka hamase achchha sa rileshan evan se kharaab tareeke se baat karata to hamen baik mein kuchh bhee itana bhee kar lo achchha nahin milata hai ya phir jitana ham kie the utana bhee nahin milata hai kaala kalar ko buraee ke saath bhee joda gaya hai

और जवाब सुनें

bolkar speaker
क्यों काला रंग सामान्य रूप से अंधेरे और बुराई के साथ जोड़ा जाता है?Kyon Kala Rang Samanya Roop Se Andhere Aur Burai Ke Sath Joda Jata Hai
pushpanjali patel Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए pushpanjali जी का जवाब
Student with micro finance bank employee
1:01
घरवाले क्यों गाली रंग को सामान्य दोस्ती है मेरी और बुराई के साथ जोड़ा जाता है जिसे जमीन काली रंग की बात करते जब अंधेरे को कहा जाता है कि केवल रोशनी ही कर सकती है एक दूरी पर थी को केवल अच्छा व्यक्ति ही अच्छा बना सकता है उसे काला काला धन जो होता है यह काला रंग बनने में जाते की बहुत में नहीं लगता है काला काला रंग बनाने के लिए अब तक 5 रन को एक में मिला देते हैं तो काले कलर का दिखाई देने लगता है उसी प्रकार एक बूढ़ा व्यक्ति बनने के लिए भी ज्यादा समय नहीं लगता है लेकिन एक अच्छा व्यक्ति बनने के लिए पूरा जीवन लग जाता है यह काले धन को हमेशा बुराई के साथ जोड़ा जाता है क्योंकि काला चोर रंग होता से स्वयं तय की थी नहीं आज का चुनाव किया है तो मिट्टी है सवाल का जवाब पसंद आएगा आप लोग को चाहिए दोस्तों को भी खर्चा
Gharavaale kyon gaalee rang ko saamaany dostee hai meree aur buraee ke saath joda jaata hai jise jameen kaalee rang kee baat karate jab andhere ko kaha jaata hai ki keval roshanee hee kar sakatee hai ek dooree par thee ko keval achchha vyakti hee achchha bana sakata hai use kaala kaala dhan jo hota hai yah kaala rang banane mein jaate kee bahut mein nahin lagata hai kaala kaala rang banaane ke lie ab tak 5 ran ko ek mein mila dete hain to kaale kalar ka dikhaee dene lagata hai usee prakaar ek boodha vyakti banane ke lie bhee jyaada samay nahin lagata hai lekin ek achchha vyakti banane ke lie poora jeevan lag jaata hai yah kaale dhan ko hamesha buraee ke saath joda jaata hai kyonki kaala chor rang hota se svayan tay kee thee nahin aaj ka chunaav kiya hai to mittee hai savaal ka javaab pasand aaega aap log ko chaahie doston ko bhee kharcha

bolkar speaker
क्यों काला रंग सामान्य रूप से अंधेरे और बुराई के साथ जोड़ा जाता है?Kyon Kala Rang Samanya Roop Se Andhere Aur Burai Ke Sath Joda Jata Hai
Pt. Rakesh  Chaturvedi ( Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant | Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Pt. जी का जवाब
Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant |
1:40
नमस्कार दोस्तों बसने की क्यों काला रंग सामान्य रूप से अंधेरे और बुराई के साथ जोड़ा जाता है तो दोस्तों ऐसा कथन गलत है कि काले रंग को बुराई के साथ जोड़ा जाता है आप ही देखेंगे कि जहां पर आपको दीक्षांत समारोह होता है वहां पर काले आपको एक वोट के रूप में पहनाया जाता है या वकील जो शिक्षित वर्ग भी होते हैं वह काले कपड़े का प्रयोग करते हैं काला कपड़ा या काला रंग जो है एक गहन अध्ययन या उसमें किसी विशेष स्थान प्राप्त कर ली उसने बंद व्यक्ति ने उस को दर्शाता है हर रंगों का अलग अलग महत्व है तो इसे इंग्लिश में डीप थिंकर्स भी बोलते हैं तो काले रंग में आप देखेंगे कि इसको बुराई का भी चिह्न माना जाता है कि कई बार ऐसा होता है बहुत गहरी वह नुकसानदायक चीज होती है तो उसका विरोध के लिए काले रंग का प्रयोग किया जाता है और पढ़ाई के लिए भी देखिए उसमें भी गहरी सोच चाहिए अध्ययन की जरूरत पड़ती है उस गैलरी के आता है उग्रवादी भी काले रंग का प्रयोग करते हैं उसमें भी काफी प्रशिक्षण लेना पड़ता है काफी संघर्ष करना पड़ता है इसके अंदर काफी उसकी ट्रेनिंग भी होती है तो कहने का मतलब काला रंग MP3 कल के लिए हो सकता है वह सकारात्मक नहीं हो सकता है उस रंग का प्रयोग और नकारात्मक हो सकता है जो कि अपने अलग होते हैं जिसमें दोनों महत्त्व शामिल है ऐसे ही लाल रंग पॉजिटिविटी की दर भी लिखता है उनकी तरफ जाता है सकारात्मक चीजें दर्शाता है प्यार को दर्शाता है वही लाल रंग एक ज्यादा पहने तो वह हिंसात्मक भी हो सकता है तो नकारात्मक भी हर रंगों के प्रभाव जो है कम ज्यादा से फर्क पड़ते रहते हैं धन्यवाद
Namaskaar doston basane kee kyon kaala rang saamaany roop se andhere aur buraee ke saath joda jaata hai to doston aisa kathan galat hai ki kaale rang ko buraee ke saath joda jaata hai aap hee dekhenge ki jahaan par aapako deekshaant samaaroh hota hai vahaan par kaale aapako ek vot ke roop mein pahanaaya jaata hai ya vakeel jo shikshit varg bhee hote hain vah kaale kapade ka prayog karate hain kaala kapada ya kaala rang jo hai ek gahan adhyayan ya usamen kisee vishesh sthaan praapt kar lee usane band vyakti ne us ko darshaata hai har rangon ka alag alag mahatv hai to ise inglish mein deep thinkars bhee bolate hain to kaale rang mein aap dekhenge ki isako buraee ka bhee chihn maana jaata hai ki kaee baar aisa hota hai bahut gaharee vah nukasaanadaayak cheej hotee hai to usaka virodh ke lie kaale rang ka prayog kiya jaata hai aur padhaee ke lie bhee dekhie usamen bhee gaharee soch chaahie adhyayan kee jaroorat padatee hai us gailaree ke aata hai ugravaadee bhee kaale rang ka prayog karate hain usamen bhee kaaphee prashikshan lena padata hai kaaphee sangharsh karana padata hai isake andar kaaphee usakee trening bhee hotee hai to kahane ka matalab kaala rang mp3 kal ke lie ho sakata hai vah sakaaraatmak nahin ho sakata hai us rang ka prayog aur nakaaraatmak ho sakata hai jo ki apane alag hote hain jisamen donon mahattv shaamil hai aise hee laal rang pojitivitee kee dar bhee likhata hai unakee taraph jaata hai sakaaraatmak cheejen darshaata hai pyaar ko darshaata hai vahee laal rang ek jyaada pahane to vah hinsaatmak bhee ho sakata hai to nakaaraatmak bhee har rangon ke prabhaav jo hai kam jyaada se phark padate rahate hain dhanyavaad

bolkar speaker
क्यों काला रंग सामान्य रूप से अंधेरे और बुराई के साथ जोड़ा जाता है?Kyon Kala Rang Samanya Roop Se Andhere Aur Burai Ke Sath Joda Jata Hai
Er.Awadhesh kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 66
सुनिए Er.Awadhesh जी का जवाब
Unknown
1:31
नहीं क्यों काला रंग सामान्य रूप से अंधेरी और बुराई के साथ जोड़ा जाता है कहा जाता है कि जो काला रंग होता है वह बुराई का प्रतीक होता है वह कहीं ना कहीं एक विरोधाभास को दर्शाता है तो कह दिया कि पूछने का यह मतलब है कि हां जो हम अंधेरी को और बुराई को एक तरफ से देखते हैं तो कहा जाता है कि हमारी जो बुराइयां होती है उसे ही काला कहा जाता है उसे भी छिपाने की बात की जाती है तू जब हम इस चीजें इस तरीके की चीजों को सोचते हैं जब अपनी बुराइयों को अपनी छिपाने की मतलब काली करतूत या लोगों क्यों सरकार ने कहा कि आप के कालेधन जो है आपको मिलेंगे उसे हम वाइट करके लाएंगे लेकिन ऐसा नहीं हुआ लेकिन फिर भी लोग उस काले धन को जानना चाहते थे देखना चाहते लेकिन नहीं मिला और स्विच बैंक का सरकार ने मोटिवेट कर के और इस तरह के नोटबंदी हुआ कई सारे प्रोसेस किए गए लेकिन फिर भी इस काले चीजों से काले धन से हमें निजात नहीं वही कारण होता है कि काले जो चीजें होती हैं हमें काली करतूतें हमारी उसी चीज पे डिपेंड करती है कि जैसे हमारे बुराइयां होती हैं बुराइयां को हम काले चीजों से दर्शाते हैं जैसे हमारा आ जाता है किस की काली करतूत है तू यही चीज है कि उसे हम अंधेरे और बुराई का प्रतीक बनाते हैं और काला रंग जो होता है हमारी बुराइयों का प्रतीक होता है
Nahin kyon kaala rang saamaany roop se andheree aur buraee ke saath joda jaata hai kaha jaata hai ki jo kaala rang hota hai vah buraee ka prateek hota hai vah kaheen na kaheen ek virodhaabhaas ko darshaata hai to kah diya ki poochhane ka yah matalab hai ki haan jo ham andheree ko aur buraee ko ek taraph se dekhate hain to kaha jaata hai ki hamaaree jo buraiyaan hotee hai use hee kaala kaha jaata hai use bhee chhipaane kee baat kee jaatee hai too jab ham is cheejen is tareeke kee cheejon ko sochate hain jab apanee buraiyon ko apanee chhipaane kee matalab kaalee karatoot ya logon kyon sarakaar ne kaha ki aap ke kaaledhan jo hai aapako milenge use ham vait karake laenge lekin aisa nahin hua lekin phir bhee log us kaale dhan ko jaanana chaahate the dekhana chaahate lekin nahin mila aur svich baink ka sarakaar ne motivet kar ke aur is tarah ke notabandee hua kaee saare proses kie gae lekin phir bhee is kaale cheejon se kaale dhan se hamen nijaat nahin vahee kaaran hota hai ki kaale jo cheejen hotee hain hamen kaalee karatooten hamaaree usee cheej pe dipend karatee hai ki jaise hamaare buraiyaan hotee hain buraiyaan ko ham kaale cheejon se darshaate hain jaise hamaara aa jaata hai kis kee kaalee karatoot hai too yahee cheej hai ki use ham andhere aur buraee ka prateek banaate hain aur kaala rang jo hota hai hamaaree buraiyon ka prateek hota hai

bolkar speaker
क्यों काला रंग सामान्य रूप से अंधेरे और बुराई के साथ जोड़ा जाता है?Kyon Kala Rang Samanya Roop Se Andhere Aur Burai Ke Sath Joda Jata Hai
पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
1:19
देखिए काले रंग का एक अपना अलग महत्व होता है काला रंग गर्मी को सूचित करता है काला रंग एक वस्तु को स्पष्ट करता है अंधेरी टू संध्या है कि काला जिसके पास अंधेरा काला होता है उसी प्रकार से उस उसके आधार पर काले रंग की तुलना की गई है काले रंग आसमान से भी प्रकृति के द्वारा भी आपको पूजा बादल गुमर गुमर करके फिर जाते हैं चारों तरफ से तो आपको कुछ दिखाई नहीं देता सुरक्षित जाता है लेकिन उन सब से ज्यादा महत्वपूर्ण है सूर्य की रश्मि जब सूर्य के रस में एक अंधकार में एक काले रंग पड़ती है तो उसका रूप में परिवर्तित हो जाता है और अंधेरा छठ जाता है इसी प्रकार से यदि अगर तेज धूप तेज रश्मि अगर छाती के ऊपर काले रंग के कपड़े ऊपर प्रवाहित होती है तो अंदर वह गर्मी को का काला कपड़ा स्वयं अवशोषित कर लेता है इसलिए काले को एक बुरे दृष्टिकोण से ना देखें काले को उसके गुणों के आधार पर उसका किया जाए और जो लोग बुराई से जोड़ते हैं वह तो अपना यह भाव व्यक्त करने के लिए किसी मृत्यु स्थान पर काला कपड़ा पहन कर के चले जाते हैं या किस प्रकार से काले को यह हमारी एक सोचकर दुष्परिणाम है ऐसा कुछ नहीं है जो लोग ऐसा करते हैं वह अपने नए रूप में अब अपने आप को प्रदर्शित करने के लिए करते हैं
Dekhie kaale rang ka ek apana alag mahatv hota hai kaala rang garmee ko soochit karata hai kaala rang ek vastu ko spasht karata hai andheree too sandhya hai ki kaala jisake paas andhera kaala hota hai usee prakaar se us usake aadhaar par kaale rang kee tulana kee gaee hai kaale rang aasamaan se bhee prakrti ke dvaara bhee aapako pooja baadal gumar gumar karake phir jaate hain chaaron taraph se to aapako kuchh dikhaee nahin deta surakshit jaata hai lekin un sab se jyaada mahatvapoorn hai soory kee rashmi jab soory ke ras mein ek andhakaar mein ek kaale rang padatee hai to usaka roop mein parivartit ho jaata hai aur andhera chhath jaata hai isee prakaar se yadi agar tej dhoop tej rashmi agar chhaatee ke oopar kaale rang ke kapade oopar pravaahit hotee hai to andar vah garmee ko ka kaala kapada svayan avashoshit kar leta hai isalie kaale ko ek bure drshtikon se na dekhen kaale ko usake gunon ke aadhaar par usaka kiya jae aur jo log buraee se jodate hain vah to apana yah bhaav vyakt karane ke lie kisee mrtyu sthaan par kaala kapada pahan kar ke chale jaate hain ya kis prakaar se kaale ko yah hamaaree ek sochakar dushparinaam hai aisa kuchh nahin hai jo log aisa karate hain vah apane nae roop mein ab apane aap ko pradarshit karane ke lie karate hain

bolkar speaker
क्यों काला रंग सामान्य रूप से अंधेरे और बुराई के साथ जोड़ा जाता है?Kyon Kala Rang Samanya Roop Se Andhere Aur Burai Ke Sath Joda Jata Hai
Maayank Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Maayank जी का जवाब
College Student
0:52
नमस्कार श्रोताओं क्या क्यों काला रंग सामान्य रूप से अंधेरे और बुराई के साथ जोड़ा जाता है कि जो काला धन होता है वह अंधेरे से मिलता जुलता है और अंधेरा इंसानों के लिए खास नहीं होता क्योंकि इंसान अंधेरे में बाहर नहीं निकल पाते पुराने समय की बात करें तो इंसान को सादर डर लगता अंधेरे से क्योंकि जंगली जानवर होते थे और सुरक्षा का डर तक एक कारण यह हो सकता लेकिन कोई पुख्ता कारण नहीं कहा जा सकता कि आखिर काले रंग में दिक्कत क्या क्योंकि हर रंग पहचान होती है नीला हो गोरा हो पीला हो काला हो कोई भी रहो उसके अपनी एक पहचान है उसके अपने एक अलग आईडेंटिटी है तो कोई भी अपशगुन नहीं होता कलर यह मेरा मानना था धन्यवाद
Namaskaar shrotaon kya kyon kaala rang saamaany roop se andhere aur buraee ke saath joda jaata hai ki jo kaala dhan hota hai vah andhere se milata julata hai aur andhera insaanon ke lie khaas nahin hota kyonki insaan andhere mein baahar nahin nikal paate puraane samay kee baat karen to insaan ko saadar dar lagata andhere se kyonki jangalee jaanavar hote the aur suraksha ka dar tak ek kaaran yah ho sakata lekin koee pukhta kaaran nahin kaha ja sakata ki aakhir kaale rang mein dikkat kya kyonki har rang pahachaan hotee hai neela ho gora ho peela ho kaala ho koee bhee raho usake apanee ek pahachaan hai usake apane ek alag aaeedentitee hai to koee bhee apashagun nahin hota kalar yah mera maanana tha dhanyavaad

bolkar speaker
क्यों काला रंग सामान्य रूप से अंधेरे और बुराई के साथ जोड़ा जाता है?Kyon Kala Rang Samanya Roop Se Andhere Aur Burai Ke Sath Joda Jata Hai
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:35
हेलो फ्रेंड स्वागत है आपका आपका प्रश्न क्यों काला रंग समान रूप से अंधेरे और बुराई के साथ जोड़ा जाता है तो फ्रेंड्स काला रंग काला होता है और रंगीन होता है काले रंग में हमेशा अंधेरा होता है और दर्द होता है तो काला रंग अच्छा नहीं होता है इसलिए उसको बुराई के साथ जोड़ा जाता है कोई गलत काम करता है तो उसके मुंह पर काला रंग पोत दिया जाता है मतलब काले रंग को पूरे रंग के साथ इसलिए जोड़ा जाता है क्योंकि वह अंधकार में होता है तथा उसमें कुछ भी उजाला नहीं दिखाई देता है इसीलिए काले रंग को बुरे के साथ जोड़ा जाता है धन्यवाद
Helo phrend svaagat hai aapaka aapaka prashn kyon kaala rang samaan roop se andhere aur buraee ke saath joda jaata hai to phrends kaala rang kaala hota hai aur rangeen hota hai kaale rang mein hamesha andhera hota hai aur dard hota hai to kaala rang achchha nahin hota hai isalie usako buraee ke saath joda jaata hai koee galat kaam karata hai to usake munh par kaala rang pot diya jaata hai matalab kaale rang ko poore rang ke saath isalie joda jaata hai kyonki vah andhakaar mein hota hai tatha usamen kuchh bhee ujaala nahin dikhaee deta hai iseelie kaale rang ko bure ke saath joda jaata hai dhanyavaad

bolkar speaker
क्यों काला रंग सामान्य रूप से अंधेरे और बुराई के साथ जोड़ा जाता है?Kyon Kala Rang Samanya Roop Se Andhere Aur Burai Ke Sath Joda Jata Hai
Laxmi devi sant Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Laxmi जी का जवाब
Personal Life guidance session book Appointment ID - discoveryourjourney23@gmail.com
2:57
कृष्ण है क्यों खाना रंग सामान्य रूप से उन्हें और बुराई के साथ जोड़ा जाता है सामान्य रूप से तो लो जोड़ते हैं लेकिन इसे प्रेक्टिकल करके उन्होंने कभी नहीं देखा मैंने अपने एक्सपीरियंस ए प्रैक्टिकल करके देखा में सर्च करके देखता मुझे समझ में आया कि हम सब भी अंधेरे में ही रहते हैं जी हां दोस्त आप ही बताइए कि एक अंधेरे कमरे में एक और चीज लाएंगे तभी तो हमें नजर आए लेकिन वह टॉर्च कहां जा रहा है एक अंधेरे कमरे में जल रहा है आप ही बताइए कि दिन में क्या टॉर्च जब आएंगे तो आप कुछ भी सोच ले ला कर देख पाएंगे नहीं क्योंकि जो सूरज की रोशनी इतनी तेज होती है कि हमारी टोर्च की रोशनी भी कम पड़ जाती है इसलिए आप समझिए कि सूरज की रोशनी भी आपको कहां दिख रही है एक अंधेरे ब्रह्मांड में नशा हो रही है हमारे अर्थ में मेरा है तो आपको सूरज की रोशनी नजर आ रही है पता मुझे एहसास हुआ कि अंधेरा कुछ पुरानी है बुरी हमारी सोच है हमें बस अपनी सोच के कोडिंग रंग दे दिया है अगर हमारी जिंदगी में बुरा चल रहा है तो हमें डार्कनेस नाम दे दिया है ना और हमारी लाइफ में क्या चल रहा है तो हमने वाइट नाम दे दिया यह रंग बिरंगा नाम दे दिया तो हमारी हॉट हमारी जो विचार हैं उनमें बुराई भरी हुई लेकिन सच यही है कि हम रहती सब अंधेरी में अगर आप होली का रंग खेल रहे तो दिन में खेल रहे हैं तो दिन में खेल रहे हैं आप पर बुद्धि ने जो रोशनी नजर आ रही है वह अंधेरी में ही नजर आ रही है आ जाओ रात को बैठे हैं और चांद के चांद की रोशनी आपको सूरज में सूरज की रोशनी में नजर आती है बिल्कुल भी नहीं जान आपको सिर्फ दिखता है उसकी रोशनी नहीं लिखती उसकी रोशनी को अंधेरे में तू ही है अंधेरे में ही आपको सूरज की रोशनी नजर आती है और अंधेरे में ही आपको चांद की रोशनी जाती है सूरज की रोशनी बड़ी तेज होती है इसलिए हमें जान की रोशनी ना चांद की रोशनी कम होती है इसलिए अंधेरा जब होता है तब फिर हम भी अर्थात सूरज दूर जाता है उसके बाद ही हमें चांद की रोशनी में जब अंधेरे में ही रहते हैं और अंधेरा रंग कोई बुरा नहीं है अर्थात काला रंग ही बुरा नहीं है ठीक है ना हमारी विचार ही हमारी सोच ही उस चीज को बुराई के नाम से दे दिया भी कोई चीज नहीं होती हैं कुछ ऐसे हैं जो हमें अनुभव कर आते हैं पर उसे रंग से प्रजेंट करना गलत है लेकिन वो सामान्य रूप से रंग से ही प्रजेंट करते हैं जो कि सही नहीं है क्योंकि इसी रंग में हम रोशनी को देख पाते हैं डार्कनेस है तभी तो रोशनी है और वर्ष
Krshn hai kyon khaana rang saamaany roop se unhen aur buraee ke saath joda jaata hai saamaany roop se to lo jodate hain lekin ise prektikal karake unhonne kabhee nahin dekha mainne apane eksapeeriyans e praiktikal karake dekha mein sarch karake dekhata mujhe samajh mein aaya ki ham sab bhee andhere mein hee rahate hain jee haan dost aap hee bataie ki ek andhere kamare mein ek aur cheej laenge tabhee to hamen najar aae lekin vah torch kahaan ja raha hai ek andhere kamare mein jal raha hai aap hee bataie ki din mein kya torch jab aaenge to aap kuchh bhee soch le la kar dekh paenge nahin kyonki jo sooraj kee roshanee itanee tej hotee hai ki hamaaree torch kee roshanee bhee kam pad jaatee hai isalie aap samajhie ki sooraj kee roshanee bhee aapako kahaan dikh rahee hai ek andhere brahmaand mein nasha ho rahee hai hamaare arth mein mera hai to aapako sooraj kee roshanee najar aa rahee hai pata mujhe ehasaas hua ki andhera kuchh puraanee hai buree hamaaree soch hai hamen bas apanee soch ke koding rang de diya hai agar hamaaree jindagee mein bura chal raha hai to hamen daarkanes naam de diya hai na aur hamaaree laiph mein kya chal raha hai to hamane vait naam de diya yah rang biranga naam de diya to hamaaree hot hamaaree jo vichaar hain unamen buraee bharee huee lekin sach yahee hai ki ham rahatee sab andheree mein agar aap holee ka rang khel rahe to din mein khel rahe hain to din mein khel rahe hain aap par buddhi ne jo roshanee najar aa rahee hai vah andheree mein hee najar aa rahee hai aa jao raat ko baithe hain aur chaand ke chaand kee roshanee aapako sooraj mein sooraj kee roshanee mein najar aatee hai bilkul bhee nahin jaan aapako sirph dikhata hai usakee roshanee nahin likhatee usakee roshanee ko andhere mein too hee hai andhere mein hee aapako sooraj kee roshanee najar aatee hai aur andhere mein hee aapako chaand kee roshanee jaatee hai sooraj kee roshanee badee tej hotee hai isalie hamen jaan kee roshanee na chaand kee roshanee kam hotee hai isalie andhera jab hota hai tab phir ham bhee arthaat sooraj door jaata hai usake baad hee hamen chaand kee roshanee mein jab andhere mein hee rahate hain aur andhera rang koee bura nahin hai arthaat kaala rang hee bura nahin hai theek hai na hamaaree vichaar hee hamaaree soch hee us cheej ko buraee ke naam se de diya bhee koee cheej nahin hotee hain kuchh aise hain jo hamen anubhav kar aate hain par use rang se prajent karana galat hai lekin vo saamaany roop se rang se hee prajent karate hain jo ki sahee nahin hai kyonki isee rang mein ham roshanee ko dekh paate hain daarkanes hai tabhee to roshanee hai aur varsh

bolkar speaker
क्यों काला रंग सामान्य रूप से अंधेरे और बुराई के साथ जोड़ा जाता है?Kyon Kala Rang Samanya Roop Se Andhere Aur Burai Ke Sath Joda Jata Hai
RAJESH KUMAR PANDEY Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए RAJESH जी का जवाब
Director of Study Gateway+
1:30
जीके प्रश्न है कि क्यों कारण सामान उस अंधेरे और गाय के साथ रहता है देखिए अंधकार कैसे होता है जब सूर्य दिखाई नहीं देता है यानी रात के समय अंधेरा चारों तरफ होता है और इंसान को कोई दिखाई नहीं देता है मैंने हमें कुछ दिखाई नहीं देता है हम लोगों को अगर हमें कहीं जाने के लिए बोल दिया है अंधकार में तो अब रास्ते से भटक जाएंगे गाड़ियों के आगे लाइट लगी होती है हमको जाते हैं तो ट्रस्ट को जाते हैं क्यों क्योंकि रास्ता सही सही दिखाई दे अंधकार में रास्ता दिखाई नहीं देता है आदमी मार्ग से भटक जाता है और अब मार्ग से भटक जाएंगे तो जा जाना होगा वहां आप नहीं जा पाएंगे तो इसलिए अंधकार को बुराई करता है क्योंकि रास्ता उजाला में ही दिखाई देगा अंधेरे में आप रास्ते से भटक जाएंगे और जाना कहीं और चले जाएंगे कहीं और और हम इंसानों का एक उद्देश्य है एक टारगेट है एक रास्ता है और अगर आप उस रास्ते पर चलेंगे समाज के द्वारा बनाए गए नियमों को चलेंगे तो उसी को अच्छाई के साथ जोड़ा जाता है और उस रास्ते से भटक गए तो बुराई हो जाएगा
Jeeke prashn hai ki kyon kaaran saamaan us andhere aur gaay ke saath rahata hai dekhie andhakaar kaise hota hai jab soory dikhaee nahin deta hai yaanee raat ke samay andhera chaaron taraph hota hai aur insaan ko koee dikhaee nahin deta hai mainne hamen kuchh dikhaee nahin deta hai ham logon ko agar hamen kaheen jaane ke lie bol diya hai andhakaar mein to ab raaste se bhatak jaenge gaadiyon ke aage lait lagee hotee hai hamako jaate hain to trast ko jaate hain kyon kyonki raasta sahee sahee dikhaee de andhakaar mein raasta dikhaee nahin deta hai aadamee maarg se bhatak jaata hai aur ab maarg se bhatak jaenge to ja jaana hoga vahaan aap nahin ja paenge to isalie andhakaar ko buraee karata hai kyonki raasta ujaala mein hee dikhaee dega andhere mein aap raaste se bhatak jaenge aur jaana kaheen aur chale jaenge kaheen aur aur ham insaanon ka ek uddeshy hai ek taaraget hai ek raasta hai aur agar aap us raaste par chalenge samaaj ke dvaara banae gae niyamon ko chalenge to usee ko achchhaee ke saath joda jaata hai aur us raaste se bhatak gae to buraee ho jaega

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • क्यों काला रंग सामान्य रूप से अंधेरे और बुराई के साथ जोड़ा जाता है क्यों काला रंग अंधेरे और बुराई के साथ जोड़ा जाता है
URL copied to clipboard