#undefined

bolkar speaker

मनुष्य खाने के लिए जीता है जीने के लिए खाता है?

Manushya Khaane Ke Liye Jeeta Hai Ki Jeene Ke Liye Khaata Hai
pushpanjali patel Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए pushpanjali जी का जवाब
Student with micro finance bank employee
1:23
घरवाले जो सुनील कुमार चौधरी के द्वारा पूछने के लिए जीता है या फिर जीने के लिए खाता है खाता है ठीक है बाबू खाने के लिए तूने किसी काम से मतलब ही नहीं होगा कि क्या करना है मैं क्या करना चाहिए इसलिए धरती पर आए हैं क्योंकि जो भी उनका दिल का काम होगा कि क्या हमें खाना है क्या सुबह में खाना है तो मैं समझती हूं कि मनुष्य जीने के लिए खाता है बात है कि हमें नीचे कोई चीज पसंद है खाने के लिए और कोई हमारा मन करता है तो खाने के ऊपर प्लीज थोड़ा बहुत खा लेते हैं तो चले गए लेकिन जहां तक मनुष्य जीने के लिए धरती पर आए हैं और हमें अच्छे कर्म करके और सपने में उसे पूरा करना है क्योंकि हमारे माता-पिता के जैसे कुछ सपने होते हैं कि हमारे बच्चे ही करेंगे यह बनेंगे तो हमें वही करना है और जो हमारे सपने हैं जो भी हमारा उद्देश्य है उसे प्राप्त करना है तो इसलिए मैं समझती मनुष्य जीने के लिए खाता है तो मिस करते हैं सवाल का जवाब पसंद आया और आप हमेशा खुश रहिए
Gharavaale jo suneel kumaar chaudharee ke dvaara poochhane ke lie jeeta hai ya phir jeene ke lie khaata hai khaata hai theek hai baaboo khaane ke lie toone kisee kaam se matalab hee nahin hoga ki kya karana hai main kya karana chaahie isalie dharatee par aae hain kyonki jo bhee unaka dil ka kaam hoga ki kya hamen khaana hai kya subah mein khaana hai to main samajhatee hoon ki manushy jeene ke lie khaata hai baat hai ki hamen neeche koee cheej pasand hai khaane ke lie aur koee hamaara man karata hai to khaane ke oopar pleej thoda bahut kha lete hain to chale gae lekin jahaan tak manushy jeene ke lie dharatee par aae hain aur hamen achchhe karm karake aur sapane mein use poora karana hai kyonki hamaare maata-pita ke jaise kuchh sapane hote hain ki hamaare bachche hee karenge yah banenge to hamen vahee karana hai aur jo hamaare sapane hain jo bhee hamaara uddeshy hai use praapt karana hai to isalie main samajhatee manushy jeene ke lie khaata hai to mis karate hain savaal ka javaab pasand aaya aur aap hamesha khush rahie

और जवाब सुनें

bolkar speaker
मनुष्य खाने के लिए जीता है जीने के लिए खाता है?Manushya Khaane Ke Liye Jeeta Hai Ki Jeene Ke Liye Khaata Hai
Dhiraj Gurjar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Dhiraj जी का जवाब
Unknown
1:35

bolkar speaker
मनुष्य खाने के लिए जीता है जीने के लिए खाता है?Manushya Khaane Ke Liye Jeeta Hai Ki Jeene Ke Liye Khaata Hai
pooja Biswas Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए pooja जी का जवाब
Unknown
1:06

bolkar speaker
मनुष्य खाने के लिए जीता है जीने के लिए खाता है?Manushya Khaane Ke Liye Jeeta Hai Ki Jeene Ke Liye Khaata Hai
रमेश सिन्हा Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए रमेश जी का जवाब
Unknown
1:49
आपका प्रश्न है मनोज खाने के लिए जीता है कि आज जीने के लिए खाता तो मोस्टली आइए जो है कोई मुझे यह प्रश्न नहीं लग रहा है यह आप कुछ बताना चाहते हैं तो ऐसा देखा गया है कि लोग जो हैं खाने के लिए जीते हैं और कई लोग इस तरह के भी पाए गए हैं जो जीने के लिए खाते हैं तो जो हर कोई अपने पूछो आगे से तो इस पर हम और आप कोई कमेंट नहीं कर सकते अगर हम दो पक्षों पर तत्वों का विश्लेषण कर सकते हैं क्या सही है क्या गलत है इसका उपयोग किया जा सके जिससे उपयोग करने से हम मनुष्यों को या हमारे जीवन में क्या फायदा होगा इस पर हम लोग चर्चा सकते तो मुस्लिम है जो दूसरा पक्ष है मनुष्य जो है जीने के लिए खाता और मुस्लिम अगर हम जीने के लिए खाए तो यह काफी हद तक हमारे लिए और हमारे अन्य दूसरे लोगों के लिए काफी फायदेमंद होता है और यह हमें काफी सारी बीमारियों से काफी सारी नुकसान से और काफी सारी समस्या से भी बचाता है और अन्य और इसके अलावा अगर हम क्या मनुष्य खाने के लिए जीता है तो यह उनके लिए एक तोहफा की बात है और इससे वह काफी सारी परेशानियों बीमारियों से घिर सकते हैं आशा जानकारी स्पष्ट होगी धन्यवाद
Aapaka prashn hai manoj khaane ke lie jeeta hai ki aaj jeene ke lie khaata to mostalee aaie jo hai koee mujhe yah prashn nahin lag raha hai yah aap kuchh bataana chaahate hain to aisa dekha gaya hai ki log jo hain khaane ke lie jeete hain aur kaee log is tarah ke bhee pae gae hain jo jeene ke lie khaate hain to jo har koee apane poochho aage se to is par ham aur aap koee kament nahin kar sakate agar ham do pakshon par tatvon ka vishleshan kar sakate hain kya sahee hai kya galat hai isaka upayog kiya ja sake jisase upayog karane se ham manushyon ko ya hamaare jeevan mein kya phaayada hoga is par ham log charcha sakate to muslim hai jo doosara paksh hai manushy jo hai jeene ke lie khaata aur muslim agar ham jeene ke lie khae to yah kaaphee had tak hamaare lie aur hamaare any doosare logon ke lie kaaphee phaayademand hota hai aur yah hamen kaaphee saaree beemaariyon se kaaphee saaree nukasaan se aur kaaphee saaree samasya se bhee bachaata hai aur any aur isake alaava agar ham kya manushy khaane ke lie jeeta hai to yah unake lie ek tohapha kee baat hai aur isase vah kaaphee saaree pareshaaniyon beemaariyon se ghir sakate hain aasha jaanakaaree spasht hogee dhanyavaad

bolkar speaker
मनुष्य खाने के लिए जीता है जीने के लिए खाता है?Manushya Khaane Ke Liye Jeeta Hai Ki Jeene Ke Liye Khaata Hai
Rajendra Malkhat Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Rajendra जी का जवाब
Self student
1:36
दोस्तों आपका प्रश्न मनुष्य खाने के लिए जीता है या जीने के लिए कहा था दोस्तों इस दुनिया में दोनों ही तरह के व्यक्ति होते हैं इंसान होते हैं कुछ लोग खाने के लिए जीते हैं क्योंकि खाने से उन्हें बहुत ही बेहद लगाव होता है वह लजीज खाना तरह-तरह का चटपटा खाना नमकीन खाना मीठा खाना बहुत ही ज्यादा पसंद करते हैं कुछ लोग ऐसे होते हैं और कुछ लोग जो होते हैं वह सोचते हैं कि खाना तो उनके लिए मात्र जीवित रहने के लिए होता है बल्कि वह जीना तो किसी अच्छे लक्ष्य के लिए चाहते हैं अपने जीवन में अपने भविष्य को अच्छा बनाने के लिए लोगों की सेवा देश प्रेम के लिए जीते हैं वह सोचते हैं कि हम जीवन में यदि मनुष्य जीवन मिला है तो हम इस जीवन में कुछ अच्छा करेंगे लोगों का भला देश प्रेम रखेंगे और भलाई का काम करेंगे और भी जीवित रहने के लिए खाते हैं ताकि मरने जाएं और जीवित रहते हुए हम अच्छे कर्म करते रहे और कुछ लोग खाने से पसंद करते हैं उन्हें अन्य कामों से कोई लेना देना नहीं होता है खाए पिए और ऐश करने चले गए तो दोस्तों बुरा मानने की इसमें कोई भी बात नहीं कुछ ऐसे होते हैं हो सकता है और भी वह मैं भी हूं लेकिन सत्य तो सत्य ही होता है और सत्य कड़वा भी होता है तो इस दुनिया में दोनों ही प्रकार के लोग रहते धन्यवाद
Doston aapaka prashn manushy khaane ke lie jeeta hai ya jeene ke lie kaha tha doston is duniya mein donon hee tarah ke vyakti hote hain insaan hote hain kuchh log khaane ke lie jeete hain kyonki khaane se unhen bahut hee behad lagaav hota hai vah lajeej khaana tarah-tarah ka chatapata khaana namakeen khaana meetha khaana bahut hee jyaada pasand karate hain kuchh log aise hote hain aur kuchh log jo hote hain vah sochate hain ki khaana to unake lie maatr jeevit rahane ke lie hota hai balki vah jeena to kisee achchhe lakshy ke lie chaahate hain apane jeevan mein apane bhavishy ko achchha banaane ke lie logon kee seva desh prem ke lie jeete hain vah sochate hain ki ham jeevan mein yadi manushy jeevan mila hai to ham is jeevan mein kuchh achchha karenge logon ka bhala desh prem rakhenge aur bhalaee ka kaam karenge aur bhee jeevit rahane ke lie khaate hain taaki marane jaen aur jeevit rahate hue ham achchhe karm karate rahe aur kuchh log khaane se pasand karate hain unhen any kaamon se koee lena dena nahin hota hai khae pie aur aish karane chale gae to doston bura maanane kee isamen koee bhee baat nahin kuchh aise hote hain ho sakata hai aur bhee vah main bhee hoon lekin saty to saty hee hota hai aur saty kadava bhee hota hai to is duniya mein donon hee prakaar ke log rahate dhanyavaad

bolkar speaker
मनुष्य खाने के लिए जीता है जीने के लिए खाता है?Manushya Khaane Ke Liye Jeeta Hai Ki Jeene Ke Liye Khaata Hai
Mohitrajput Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Mohitrajput जी का जवाब
Unknown
0:16
अपने सवाल पूछा है तो मतलब दोनों के लिए ही करता है जीने के लिए खाता और खाते दिखाने के लिए जीता है अगर खाएगा नहीं तो हमारी जाएगा और जाइएगा नहीं तो भी मर जाएगा तो इंसान करे क्या दोनों ही रूपों में इंसान हारा हुआ है और दोनों ही काम करता है ठीक है
Apane savaal poochha hai to matalab donon ke lie hee karata hai jeene ke lie khaata aur khaate dikhaane ke lie jeeta hai agar khaega nahin to hamaaree jaega aur jaiega nahin to bhee mar jaega to insaan kare kya donon hee roopon mein insaan haara hua hai aur donon hee kaam karata hai theek hai

bolkar speaker
मनुष्य खाने के लिए जीता है जीने के लिए खाता है?Manushya Khaane Ke Liye Jeeta Hai Ki Jeene Ke Liye Khaata Hai
Som Prakash Gupta Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Som जी का जवाब
Open to work
0:33
इमली फिलोसॉफिकल सवाल है मनुष्य खाने के लिए जीता है यह जीने के लिए खाता है एक्चुअली होता क्या है कि इंसान खुश होता है तब खाने के लिए जीता है कोलकाता मजे करता है फ्री दुखी होता है तू जीने के लिए खाता है रोशन के सॉन्ग जरा सोचिए का इस बारे में
Imalee philosophikal savaal hai manushy khaane ke lie jeeta hai yah jeene ke lie khaata hai ekchualee hota kya hai ki insaan khush hota hai tab khaane ke lie jeeta hai kolakaata maje karata hai phree dukhee hota hai too jeene ke lie khaata hai roshan ke song jara sochie ka is baare mein

bolkar speaker
मनुष्य खाने के लिए जीता है जीने के लिए खाता है?Manushya Khaane Ke Liye Jeeta Hai Ki Jeene Ke Liye Khaata Hai
Astha Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Astha जी का जवाब
Unknown
0:20

bolkar speaker
मनुष्य खाने के लिए जीता है जीने के लिए खाता है?Manushya Khaane Ke Liye Jeeta Hai Ki Jeene Ke Liye Khaata Hai
mohit Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए mohit जी का जवाब
H0tal
0:30
दोस्तों सवाल है मनुष्य खाने के लिए जीता है जीने के लिए खाता है दोस्तों मनुष्य खाने के लिए जीता है और जीने के लिए भी खाता है या दोनों चीजें हमारे लाइट के लिए बहुत ही इंपॉर्टेंट होती है हमारे देश में ऐसे बहुत से व्यक्ति हैं जो किसी न किसी काम के लिए कार्य करते हैं और कोई खाने के लिए कार्य करता है तो कोई पीने के लिए कार्य करता है धन्यवाद

bolkar speaker
मनुष्य खाने के लिए जीता है जीने के लिए खाता है?Manushya Khaane Ke Liye Jeeta Hai Ki Jeene Ke Liye Khaata Hai
Daulat Ram sharma Shastri Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Daulat जी का जवाब
Retrieved sr tea . social activist,
2:08
शाम को पहुंच सारगर्भित और बहुत मनुष्य को खाने के लिए जीना निष्ठा का सूचक है घटिया मानसिकता का सूचक है और कुत्तों की निशानी है और जीने के लिए खाना मानव मानव के देवत्व का सूचक है उसकी उच्चता का सूचक है और इंसानियत का सूचक है जीने के लिए खाना ही हमारे पूर्वजों के द्वारा यह दान किया गया है हमारे पूर्वज जीते थे हमारे तपस्वी ऋषि मुनि गण जो हमारे पूर्वज कौन थे वह जीने के लिए ही खाते थे ना कि खाने के लिए जीते थे जबकि आज का जू पार्क की दौड़ देख रही हो यह गलियों की दौड़ देख रहे हो यह रिश्ता का दर्द दूर हो इसमें आज का इंसान खाने के लिए जीता है जीने के लिए खाता नहीं है इन दोनों भाइयों में जमीन आसमान का अंतर है खाने के लिए जीना आपके घटिया विचारों का सूचक है आपके विचारों का दिवालियापन का सूचक है आपके अपनों का कारण है आपकी स्वाभिमान रही प्रगति का सूचक है जबकि चीनी के लिए खाना एक स्वाभिमान का सूचक है आपके उदार विचारों का सूचक है आपकी महान संस्कारों का सूचक है और आपकी तपस्वी जीवन का सूचक है इसलिए जीने के लिए खाना ही श्रेष्ठ है ना कि खाने के लिए जीना आप इसको एक कबीर के दोहे में अच्छी तरह समझ सकते हैं रूखी सूखी खाई के ठंडा पानी पी देख पराई चुपड़ी मत ललचाए जी दूसरे आप कह सकते हैं कि कबीरा संगत साधु की चौकी उस देखा है और खीर खंड भोजन मिले परतुर जनसंघ ना चाहे
Shaam ko pahunch saaragarbhit aur bahut manushy ko khaane ke lie jeena nishtha ka soochak hai ghatiya maanasikata ka soochak hai aur kutton kee nishaanee hai aur jeene ke lie khaana maanav maanav ke devatv ka soochak hai usakee uchchata ka soochak hai aur insaaniyat ka soochak hai jeene ke lie khaana hee hamaare poorvajon ke dvaara yah daan kiya gaya hai hamaare poorvaj jeete the hamaare tapasvee rshi muni gan jo hamaare poorvaj kaun the vah jeene ke lie hee khaate the na ki khaane ke lie jeete the jabaki aaj ka joo paark kee daud dekh rahee ho yah galiyon kee daud dekh rahe ho yah rishta ka dard door ho isamen aaj ka insaan khaane ke lie jeeta hai jeene ke lie khaata nahin hai in donon bhaiyon mein jameen aasamaan ka antar hai khaane ke lie jeena aapake ghatiya vichaaron ka soochak hai aapake vichaaron ka divaaliyaapan ka soochak hai aapake apanon ka kaaran hai aapakee svaabhimaan rahee pragati ka soochak hai jabaki cheenee ke lie khaana ek svaabhimaan ka soochak hai aapake udaar vichaaron ka soochak hai aapakee mahaan sanskaaron ka soochak hai aur aapakee tapasvee jeevan ka soochak hai isalie jeene ke lie khaana hee shreshth hai na ki khaane ke lie jeena aap isako ek kabeer ke dohe mein achchhee tarah samajh sakate hain rookhee sookhee khaee ke thanda paanee pee dekh paraee chupadee mat lalachae jee doosare aap kah sakate hain ki kabeera sangat saadhu kee chaukee us dekha hai aur kheer khand bhojan mile paratur janasangh na chaahe

bolkar speaker
मनुष्य खाने के लिए जीता है जीने के लिए खाता है?Manushya Khaane Ke Liye Jeeta Hai Ki Jeene Ke Liye Khaata Hai
jayprakash Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए jayprakash जी का जवाब
Unknown
0:37

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • जीने के लिए खाना या खाने के लिए जीना, मनुष्य बिना भोजन के कितने दिन तक जीवित रह सकता है, खाना नहीं खाने से क्या होता है
URL copied to clipboard