#जीवन शैली

bolkar speaker

कोहरे से हमें क्या सीख मिलती है?

Kohre Se Hume Kya Seekh Milti Hai
shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
0:50
हेलो जीवन तो आज आपका सवाल है कि कोहरे से हमें क्या सीख मिलती है तू दिखे गोरे से हमें यह सीख मिलती है कि जब भी हम अपनी मंजिल के बारे में सोचते हैं या फिर आज आने के बारे में सोचते हैं तो हमें कुछ भी दिखाई नहीं देता मैं रास्ता बहुत ही कठिन लगता है कुछ भी समझ नहीं आता है कैसे जाया जाए कैसे मतलब रास्ता हमें दिखे हमें नहीं देखता मैं समझ नहीं आता लेकिन जैसे-जैसे हम पास आते हैं मेहनत करते हैं हमें वैसे ही चीजें कैसे सरल लगने लगती है वैसे हमें रास्ता भी दिखने लगता है तू ऐसे में यह सुख मिलता है कि जब भी हम किसी चीज के बारे में सोचते तो बिना मेहनत किए हम यह नहीं सोच सकते कि यहां हमेशा फलता नहीं मिल सकती पहले हमें मेहनत करना है कोशिश करना है उसके बाद हमें रास्ता सरल लगेगी
Helo jeevan to aaj aapaka savaal hai ki kohare se hamen kya seekh milatee hai too dikhe gore se hamen yah seekh milatee hai ki jab bhee ham apanee manjil ke baare mein sochate hain ya phir aaj aane ke baare mein sochate hain to hamen kuchh bhee dikhaee nahin deta main raasta bahut hee kathin lagata hai kuchh bhee samajh nahin aata hai kaise jaaya jae kaise matalab raasta hamen dikhe hamen nahin dekhata main samajh nahin aata lekin jaise-jaise ham paas aate hain mehanat karate hain hamen vaise hee cheejen kaise saral lagane lagatee hai vaise hamen raasta bhee dikhane lagata hai too aise mein yah sukh milata hai ki jab bhee ham kisee cheej ke baare mein sochate to bina mehanat kie ham yah nahin soch sakate ki yahaan hamesha phalata nahin mil sakatee pahale hamen mehanat karana hai koshish karana hai usake baad hamen raasta saral lagegee

और जवाब सुनें

bolkar speaker
कोहरे से हमें क्या सीख मिलती है?Kohre Se Hume Kya Seekh Milti Hai
vineet Upadhyay  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए vineet जी का जवाब
Unknown
0:37
हेलो डियर आपका प्रश्न है और ए से हमें क्या सीख मिलती हैं और ऐसे में यह सीख मिलती है कि हमें हमेशा आगे बढ़ते रहना चाहिए रास्ता अपने आप खुलता चला जाएगा डे का सॉर्ट एग्जांपल अगर हम कोई एक बड़ा और बोलता है करते तो हमें उस बड़े एवरगोल की ओर चलना चाहिए बिना डरे धीरे धीरे कर कर आप अपने मंजिल के करीब पहुंच जाओगे उम्मीद है आपको समझ में आया हूं धन्यवाद
Helo diyar aapaka prashn hai aur e se hamen kya seekh milatee hain aur aise mein yah seekh milatee hai ki hamen hamesha aage badhate rahana chaahie raasta apane aap khulata chala jaega de ka sort egjaampal agar ham koee ek bada aur bolata hai karate to hamen us bade evaragol kee or chalana chaahie bina dare dheere dheere kar kar aap apane manjil ke kareeb pahunch jaoge ummeed hai aapako samajh mein aaya hoon dhanyavaad

bolkar speaker
कोहरे से हमें क्या सीख मिलती है?Kohre Se Hume Kya Seekh Milti Hai
Raghvendra  Tiwari Pandit Ji Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Raghvendra जी का जवाब
Unknown
1:04
हेलो फ्रेंड नमस्कार जैसा कि आपका प्रश्न है कोहरे से हमें क्या सीख मिलती है देखे फ्रेंड कोहरे से हमें जो है लाइफ के बारे में बहुत अच्छी सीख मिलती है जैसे कि जीवन के बारे में कहा गया है कि जब सामने कभी दुख होता है सुख होता है तो हम बहुत जल्दी निराश हो जाते हैं कोई समस्या हमारे सामने आती है तो हम बहुत ज्यादा घबरा जाते हैं और यह सोच सोच में पड़ जाते हैं कि अब क्या होगा तो उसी के आधार पर कही गई है कि कोरे से फ्रेंड एक बहुत अच्छी बात सीखने को मिलती है कि जीवन में जब कभी रास्ता आपको ना दिखाई देगी अब आगे क्या करें क्या ना करें तो बहुत दूर तक सोचना या फिर देखना जो है वह होता है एक-एक कदम जो है चलते रहे रास्ता अपने आप जो है खुल जाएगा जैसे कि आप देखते हैं कि जब कोहरा रहता है सामने तो उसमें आप अगर बहुत दूर तक देखना चाहे तो वह आपके लिए व्यर्थ होता है एक-एक कदम आप बढ़ाते चली रास्ता खुलता जाएगा शुक्रिया
Helo phrend namaskaar jaisa ki aapaka prashn hai kohare se hamen kya seekh milatee hai dekhe phrend kohare se hamen jo hai laiph ke baare mein bahut achchhee seekh milatee hai jaise ki jeevan ke baare mein kaha gaya hai ki jab saamane kabhee dukh hota hai sukh hota hai to ham bahut jaldee niraash ho jaate hain koee samasya hamaare saamane aatee hai to ham bahut jyaada ghabara jaate hain aur yah soch soch mein pad jaate hain ki ab kya hoga to usee ke aadhaar par kahee gaee hai ki kore se phrend ek bahut achchhee baat seekhane ko milatee hai ki jeevan mein jab kabhee raasta aapako na dikhaee degee ab aage kya karen kya na karen to bahut door tak sochana ya phir dekhana jo hai vah hota hai ek-ek kadam jo hai chalate rahe raasta apane aap jo hai khul jaega jaise ki aap dekhate hain ki jab kohara rahata hai saamane to usamen aap agar bahut door tak dekhana chaahe to vah aapake lie vyarth hota hai ek-ek kadam aap badhaate chalee raasta khulata jaega shukriya

bolkar speaker
कोहरे से हमें क्या सीख मिलती है?Kohre Se Hume Kya Seekh Milti Hai
पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
0:48
आपका प्रश्न है कि कोहरे से हमें क्या सीख मिलती है बस और बस एक बार तो और किसी भी चीज को हम दूर से तो हमें दिखाई नहीं देती हो एक आवरण मेंढक के रहती है लेकिन जब हम उस चीज के नजदीक जाते हैं तो हमें उसके रूप रंग भाव सभी दिखाई पड़ने लगते हैं दूर से आप देखिए अब उसका तक रास्ता नहीं दिखाई देगा पार्टी धीरे धीरे चलते जाएंगे इसका मतलब यह कि धीरे धीरे रे मना धीरे सब कुछ होय माली सींचे सौ घड़ा ऋतु आए फल होय धीरे-धीरे अपने कार्य को करते चाहिए एकदम करके सीढ़ियां नंबर चाहिए वरना चोट भी लग जाएगी इसलिए कोई और आपको यही सीख दे रहा है यह प्रकृति का एक बंधन है कि आप धीरे-धीरे अपने कार्य को अंजाम देते जाइए आप सफलता के चरणों पर जरूर पहुंचेंगे
Aapaka prashn hai ki kohare se hamen kya seekh milatee hai bas aur bas ek baar to aur kisee bhee cheej ko ham door se to hamen dikhaee nahin detee ho ek aavaran mendhak ke rahatee hai lekin jab ham us cheej ke najadeek jaate hain to hamen usake roop rang bhaav sabhee dikhaee padane lagate hain door se aap dekhie ab usaka tak raasta nahin dikhaee dega paartee dheere dheere chalate jaenge isaka matalab yah ki dheere dheere re mana dheere sab kuchh hoy maalee seenche sau ghada rtu aae phal hoy dheere-dheere apane kaary ko karate chaahie ekadam karake seedhiyaan nambar chaahie varana chot bhee lag jaegee isalie koee aur aapako yahee seekh de raha hai yah prakrti ka ek bandhan hai ki aap dheere-dheere apane kaary ko anjaam dete jaie aap saphalata ke charanon par jaroor pahunchenge

bolkar speaker
कोहरे से हमें क्या सीख मिलती है?Kohre Se Hume Kya Seekh Milti Hai
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:52
आपका प्रश्न कोहरे से हमें क्या सीख मिलती है तो फ्रेंड्स गोरे से हम सबको यही सीख मिलती है कि हम जैसे कोहरे में आगे बढ़ते जाएंगे तो आगे रोशनी हमें दिखती जाती है तो उसे सीख मिलती है कि जीवन में कोई भी कार्य उसको ने प्रति करते रहना चाहिए जब हम दो कदम आगे बढ़ाएंगे आगे का रास्ता हमें साफ जरुर दिखाई देगा और जब हम कदम ही नहीं बनाएंगे तो मैं कुछ भी नहीं कर पाएंगे तो हमें अपने कदम आगे बढ़ाना है कदम आगे बढ़ाने का मतलब कि हमें अपना कार्य करते रहना है वह आगे अपना कार्य करते रहेंगे तो हमें साफ मंजिल हमारी दिखाती रहेगी जैसे कि गौरव गिरता है और हम जितना चलते जाते हैं उतना आगे हमें दिखता जाता है तो हमें कोहरे चाहिए इससे कुछ सीख मिलती है कि हमें अपने कार्ड नित्य प्रति करते रहना चाहिए जिससे हमें आगे का रास्ता हमें स्पष्ट स्वयं खुद दिखाई देगा तो मैं अगर आपको मेरे जवाब पसंद आए तो प्लीज मुझे लाइक जरूर करिएगा धन्यवाद
Aapaka prashn kohare se hamen kya seekh milatee hai to phrends gore se ham sabako yahee seekh milatee hai ki ham jaise kohare mein aage badhate jaenge to aage roshanee hamen dikhatee jaatee hai to use seekh milatee hai ki jeevan mein koee bhee kaary usako ne prati karate rahana chaahie jab ham do kadam aage badhaenge aage ka raasta hamen saaph jarur dikhaee dega aur jab ham kadam hee nahin banaenge to main kuchh bhee nahin kar paenge to hamen apane kadam aage badhaana hai kadam aage badhaane ka matalab ki hamen apana kaary karate rahana hai vah aage apana kaary karate rahenge to hamen saaph manjil hamaaree dikhaatee rahegee jaise ki gaurav girata hai aur ham jitana chalate jaate hain utana aage hamen dikhata jaata hai to hamen kohare chaahie isase kuchh seekh milatee hai ki hamen apane kaard nity prati karate rahana chaahie jisase hamen aage ka raasta hamen spasht svayan khud dikhaee dega to main agar aapako mere javaab pasand aae to pleej mujhe laik jaroor kariega dhanyavaad

bolkar speaker
कोहरे से हमें क्या सीख मिलती है?Kohre Se Hume Kya Seekh Milti Hai
अमित सिंह बघेल Bolkar App
Top Speaker,Level 55
सुनिए अमित जी का जवाब
सामाजिक कार्यकर्ता, मोटिवेशनल स्पीकर 
0:31
पूजा के कोहरे से हमें क्या सीख मिलती है कोहरे से एक अच्छी बात यह दिखे सीख सकते हैं कि जीवन में जब कोई रास्ता ना देखिए तब भी हमें धीरे धीरे चलना चाहिए जहर बनाए रखेंगे तो रास्ता भी देखिए मिल जाएगा तो कोहरे से मुझे देख एक शायरी याद आ गई मैं आपको सुनाना चाहता हूं कि अच्छा हुआ जो आप कोहरा पड़ने लगा तुम्हारे इंतजार में नजर दूर तक ना जाएगी जय हिंद जय भारत
Pooja ke kohare se hamen kya seekh milatee hai kohare se ek achchhee baat yah dikhe seekh sakate hain ki jeevan mein jab koee raasta na dekhie tab bhee hamen dheere dheere chalana chaahie jahar banae rakhenge to raasta bhee dekhie mil jaega to kohare se mujhe dekh ek shaayaree yaad aa gaee main aapako sunaana chaahata hoon ki achchha hua jo aap kohara padane laga tumhaare intajaar mein najar door tak na jaegee jay hind jay bhaarat

bolkar speaker
कोहरे से हमें क्या सीख मिलती है?Kohre Se Hume Kya Seekh Milti Hai
Vijay shankar pal Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Vijay जी का जवाब
My youtube channel - Tech with vijay
0:58
नमस्कार साथियों सवाल है कोहरे से हमें क्या सीख मिलती है तो साथियों सबसे पहले हमें जानते हैं कि कोहरा आता कैसे हैं तो साथियों सापेक्षिक आद्रता 100% होने पर हवा में जलवाष्प की मात्रा स्थिर हो जाती है जिससे अतिरिक्त जलवा के शामिल होने से या तापमान के कम होने से संघनन शुरू हो जाता है साथियों जल वास्तु से संघनित छोटी पानी की बूंदे वायुमंडल में कोहरे के रूप में फैल जाती हैं जिसे कोहरा होता है साथियों साथियों अब मेरा मेन जो सवाल है वह यह कि कोहरे से हमें क्या सीख मिलती है तो साथियों कोहरे से एक अच्छी सी की अच्छी बात यह सीखने को मिलती है कि अगर जीवन में रास्ता ना दिखाई दे रहा हो तो बहुत दूर तक देखने की कोशिश व्यर्थ है एक-एक कदम चलते जाओ और रास्ता खुलता जाएगा कि जवाब आपको पसंद आया होगा धन्यवाद साथियों
Namaskaar saathiyon savaal hai kohare se hamen kya seekh milatee hai to saathiyon sabase pahale hamen jaanate hain ki kohara aata kaise hain to saathiyon saapekshik aadrata 100% hone par hava mein jalavaashp kee maatra sthir ho jaatee hai jisase atirikt jalava ke shaamil hone se ya taapamaan ke kam hone se sanghanan shuroo ho jaata hai saathiyon jal vaastu se sanghanit chhotee paanee kee boonde vaayumandal mein kohare ke roop mein phail jaatee hain jise kohara hota hai saathiyon saathiyon ab mera men jo savaal hai vah yah ki kohare se hamen kya seekh milatee hai to saathiyon kohare se ek achchhee see kee achchhee baat yah seekhane ko milatee hai ki agar jeevan mein raasta na dikhaee de raha ho to bahut door tak dekhane kee koshish vyarth hai ek-ek kadam chalate jao aur raasta khulata jaega ki javaab aapako pasand aaya hoga dhanyavaad saathiyon

bolkar speaker
कोहरे से हमें क्या सीख मिलती है?Kohre Se Hume Kya Seekh Milti Hai
anuj gothwal Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए anuj जी का जवाब
9828597645
1:16
नमस्कार दोस्तों बोलकर आपने स्वागत है आज का सवाल है कि कोरे से हमें क्या सीख मिलती है तो यह मैं आपको बताता हूं कि कैसे गोरे से हमें सीख मिलती है पूरा होता है तब हमें आगे का रास्ता नहीं दिखाई देता है ना कि दूर का हम कुछ देख पाते हैं ठीक इसी प्रकार जीवन में भी कई रास्ते थे लेकिन वो रास्ते जो दिखाई नहीं दे उसे दूर तक देखना की कोशिश व्यर्थ था तक संभव संभव हो वहां तक हमें कदम पर चल चल के गाने चल चल कर देखना चाहिए आगे रास्ता है या नहीं अगर आता है तो हम चलते जाएंगे चलते जाएंगे इस तरह हमें रास्ता मिल जाता है आगे रास्ता खुला का खुला भी दिखाई देगा जैसे जैसे चलेंगे वैसे खुला खुला दिखाई देता लेकिन दूर से एक जगह खड़े होकर दूर का रास्ता देखेंगे तो आज से लगेगा कि छोटा सा कोई रास्ता नहीं आगे
Namaskaar doston bolakar aapane svaagat hai aaj ka savaal hai ki kore se hamen kya seekh milatee hai to yah main aapako bataata hoon ki kaise gore se hamen seekh milatee hai poora hota hai tab hamen aage ka raasta nahin dikhaee deta hai na ki door ka ham kuchh dekh paate hain theek isee prakaar jeevan mein bhee kaee raaste the lekin vo raaste jo dikhaee nahin de use door tak dekhana kee koshish vyarth tha tak sambhav sambhav ho vahaan tak hamen kadam par chal chal ke gaane chal chal kar dekhana chaahie aage raasta hai ya nahin agar aata hai to ham chalate jaenge chalate jaenge is tarah hamen raasta mil jaata hai aage raasta khula ka khula bhee dikhaee dega jaise jaise chalenge vaise khula khula dikhaee deta lekin door se ek jagah khade hokar door ka raasta dekhenge to aaj se lagega ki chhota sa koee raasta nahin aage

bolkar speaker
कोहरे से हमें क्या सीख मिलती है?Kohre Se Hume Kya Seekh Milti Hai
KamalKishorAwasthi Bolkar App
Top Speaker,Level 55
सुनिए KamalKishorAwasthi जी का जवाब
घर पर ही रहता हूं बैटरी बनाने का कार्य करता हूं और मोबाइल रिचार्ज इत्यादि
0:29
सवाल है कोहरे से हमें क्या सीख मिलती है देखिए हमें हर एक प्रकृति की रचना से कुछ ना कुछ सीखना चाहिए इसी तरह कोहरे से भी एक अच्छी बात सीखने को मिलती है कि जब जीवन में रास्ता न दिखाई दे रहा हो तो बहुत दूर तक देखने की कोशिश व्यर्थ जाती है एक-एक कदम चलते चलो रास्ता खुद ब खुद खुलता चला जाएगा धन्यवाद
Savaal hai kohare se hamen kya seekh milatee hai dekhie hamen har ek prakrti kee rachana se kuchh na kuchh seekhana chaahie isee tarah kohare se bhee ek achchhee baat seekhane ko milatee hai ki jab jeevan mein raasta na dikhaee de raha ho to bahut door tak dekhane kee koshish vyarth jaatee hai ek-ek kadam chalate chalo raasta khud ba khud khulata chala jaega dhanyavaad

bolkar speaker
कोहरे से हमें क्या सीख मिलती है?Kohre Se Hume Kya Seekh Milti Hai
Laxmi devi sant Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Laxmi जी का जवाब
Personal Life guidance session book Appointment ID - discoveryourjourney23@gmail.com
2:16
कृष्ण है कोहरे से हमें क्या सीख मिलती है अब दिल्ली नहीं करेंगे कि 5 दिन पहले मैंने अपने वीडियो में स्टेज को अपलोड किया था कोहरे से रिलेटेड क्वेश्चन के ऊपर हाथ मेरे दिमाग में कोई एग्जांपल नहीं आ रहा था तुम्हारी कोहरे से ही रिलेटेड कुछ शेयर किया था और आज इसमें यह क्वेश्चन पूछा गया है तो मैं इसके ऊपर जरूर जवाब दूंगी कोहरा कोहरा बहुत होता है तो हमें ना किसी का घर दिखता है ना पेड़ पौधे दिखते हैं ना पंछी नजर आते हैं अर्थात हमारी जिंदगी में ऐसा ही कोहरा छाया हुआ रहता है लेकिन जब धूप निकलती है तो धीरे-धीरे पूरा क्षमता जाता है अर्थात झूठ की रोशनी हमारी जिंदगी में एक जो कोहरा छाया हुआ है वह डार्क ने सी होती है और जब भूख की रोशनी अर्थात डार्कनेस में लाइट आती है तब क्या होता है कि वह कोहरा है छठ ने लगता है अजय बिछड़ता है तो हमें हमारी मंजिल नजर आती है तकलीफ बहुत ऐसा नहीं है कि नहीं होती सब की लाइफ में प्रॉब्लम है लेकिन वह कोबरा उस समय तक रहता है धूप की रोशनी के बाद वह कोहरा पूरी तरह छोड़ जाता है वैसे ही डार्कनेस में बुलाई पढ़ने के बाद वह पूरा पूरी तरह चला जाता है और अपनी लाइफ में हमेशा सही बात नजर आता है सही भी नजर आता है और तभी हम समझ पाते हैं यार अपनी सारी जिंदगी में हमें कुछ सिखाती है एक्सपीरियंस होती है और रोशनी हमें हमारी जिंदगी में उस रोशनी के महत्व को बताती है आप कहते हैं ना जब तक हमें डार्कनेस का अनुभव नहीं होगा तब तक हमें लाइट है क्या आपकी लाइफ होता क्या है उसके बारे में हम समझ नहीं पाएंगे अर्थात जब वह में नजर आएगी तो उसे तभी होता है जब तक नहीं आएगा हमारी जिंदगी में तब तक हम आर पार देखने पाएंगे अर्थात सूरज की रोशनी से जो पूछेगा तो हमें हमारी मंजिल मजा नहीं आ पाई तो हमारी लाइफ में डालकर इसका होना भी जरूरी है क्योंकि वह हमें नए-नए एक्सपीरियंस देती है और उसका छटना भी जरूरी है ताकि हम और मैंने एक्सपीरियंस के लिए आगे बढ़ सके जिनकी सो मच
Krshn hai kohare se hamen kya seekh milatee hai ab dillee nahin karenge ki 5 din pahale mainne apane veediyo mein stej ko apalod kiya tha kohare se rileted kveshchan ke oopar haath mere dimaag mein koee egjaampal nahin aa raha tha tumhaaree kohare se hee rileted kuchh sheyar kiya tha aur aaj isamen yah kveshchan poochha gaya hai to main isake oopar jaroor javaab doongee kohara kohara bahut hota hai to hamen na kisee ka ghar dikhata hai na ped paudhe dikhate hain na panchhee najar aate hain arthaat hamaaree jindagee mein aisa hee kohara chhaaya hua rahata hai lekin jab dhoop nikalatee hai to dheere-dheere poora kshamata jaata hai arthaat jhooth kee roshanee hamaaree jindagee mein ek jo kohara chhaaya hua hai vah daark ne see hotee hai aur jab bhookh kee roshanee arthaat daarkanes mein lait aatee hai tab kya hota hai ki vah kohara hai chhath ne lagata hai ajay bichhadata hai to hamen hamaaree manjil najar aatee hai takaleeph bahut aisa nahin hai ki nahin hotee sab kee laiph mein problam hai lekin vah kobara us samay tak rahata hai dhoop kee roshanee ke baad vah kohara pooree tarah chhod jaata hai vaise hee daarkanes mein bulaee padhane ke baad vah poora pooree tarah chala jaata hai aur apanee laiph mein hamesha sahee baat najar aata hai sahee bhee najar aata hai aur tabhee ham samajh paate hain yaar apanee saaree jindagee mein hamen kuchh sikhaatee hai eksapeeriyans hotee hai aur roshanee hamen hamaaree jindagee mein us roshanee ke mahatv ko bataatee hai aap kahate hain na jab tak hamen daarkanes ka anubhav nahin hoga tab tak hamen lait hai kya aapakee laiph hota kya hai usake baare mein ham samajh nahin paenge arthaat jab vah mein najar aaegee to use tabhee hota hai jab tak nahin aaega hamaaree jindagee mein tab tak ham aar paar dekhane paenge arthaat sooraj kee roshanee se jo poochhega to hamen hamaaree manjil maja nahin aa paee to hamaaree laiph mein daalakar isaka hona bhee jarooree hai kyonki vah hamen nae-nae eksapeeriyans detee hai aur usaka chhatana bhee jarooree hai taaki ham aur mainne eksapeeriyans ke lie aage badh sake jinakee so mach

bolkar speaker
कोहरे से हमें क्या सीख मिलती है?Kohre Se Hume Kya Seekh Milti Hai
Harender Kumar Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Harender जी का जवाब
As School administration & Principal
2:05
कोहरे से हमें क्या सीख मिलती बोहरा कोई अजीब चीज नहीं है जिसमें एक प्राकृतिक घटनाक्रम अंकित में सर्दी के मौसम में होने वाला परिवर्तन है कहीं ना कहीं कोहरा बहुत गहरा हो जाता बड़ा खतरनाक हो जाता है विजिबिलिटी कम हो जाती है सुप्रभात शुभ है इसमें ड्रॉपलेट जिम जाना बहुत सारी लेकिन कोहरा दिन गहराता जा रहा है और इसमें पूरा रहा है तो कहीं न कि हमारी ग्लोबल वार्मिंग कर सकती थी कभी-कभी इतनी तेज वर्षा होने लगती है जिसकी कल्पना नहीं कर सकते कोहरे का धंधा ऐसा जाता है जो कभी कल्पना नहीं परिवर्तन तो इस धरती पर हो रहा है आरजू बानो का कृत्य है वह तो प्रभावी रहेगा हम कभी-कभी आप देखिए 8 फीट की बर्फ गिर जाती है संभावना नहीं आती पार्वती क्षेत्रों को छोड़कर मैदानी क्षेत्रों में कोहरा इतना तेज हो जाता है कि ऐसे लग रहा है कि निकल जाए तो यह मानो कि दुर्गति है और मानव की कर्मों का दुष्परिणाम है ठीक तो आपको लेना पड़ेगा भाई हमें पर्यावरण से छेड़खानी नहीं करनी चाहिए पर्यावरण को बचाने के लिए निश्चित तौर पर हमें हर कदम उठाना चाहिए हमें ज्यादा से ज्यादा पेड़ पर 7:00 के लिए बस में है उनकी रक्षा करनी होगी पर्यावरण को प्रदूषित होने से कितनी गाड़ियां चल रही इतना दुआ निकाल दे रहे हो तो यह सब चीजें हैं कि निश्चित तौर पर सीसीए लेना है पर्यावरण को बचाना और पर्यावरण और ग्लोबल वार्मिंग अगर कम हो तभी सब चीज नहीं हो पाएगी
Kohare se hamen kya seekh milatee bohara koee ajeeb cheej nahin hai jisamen ek praakrtik ghatanaakram ankit mein sardee ke mausam mein hone vaala parivartan hai kaheen na kaheen kohara bahut gahara ho jaata bada khataranaak ho jaata hai vijibilitee kam ho jaatee hai suprabhaat shubh hai isamen dropalet jim jaana bahut saaree lekin kohara din gaharaata ja raha hai aur isamen poora raha hai to kaheen na ki hamaaree global vaarming kar sakatee thee kabhee-kabhee itanee tej varsha hone lagatee hai jisakee kalpana nahin kar sakate kohare ka dhandha aisa jaata hai jo kabhee kalpana nahin parivartan to is dharatee par ho raha hai aarajoo baano ka krty hai vah to prabhaavee rahega ham kabhee-kabhee aap dekhie 8 pheet kee barph gir jaatee hai sambhaavana nahin aatee paarvatee kshetron ko chhodakar maidaanee kshetron mein kohara itana tej ho jaata hai ki aise lag raha hai ki nikal jae to yah maano ki durgati hai aur maanav kee karmon ka dushparinaam hai theek to aapako lena padega bhaee hamen paryaavaran se chhedakhaanee nahin karanee chaahie paryaavaran ko bachaane ke lie nishchit taur par hamen har kadam uthaana chaahie hamen jyaada se jyaada ped par 7:00 ke lie bas mein hai unakee raksha karanee hogee paryaavaran ko pradooshit hone se kitanee gaadiyaan chal rahee itana dua nikaal de rahe ho to yah sab cheejen hain ki nishchit taur par seeseee lena hai paryaavaran ko bachaana aur paryaavaran aur global vaarming agar kam ho tabhee sab cheej nahin ho paegee

bolkar speaker
कोहरे से हमें क्या सीख मिलती है?Kohre Se Hume Kya Seekh Milti Hai
डॉ0 सीता शुक्ला Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए डॉ0 जी का जवाब
Unknown
1:16
मित्र नमस्कार आपका प्रश्न है कोहरे से हमें क्या सीख मिलती है तो मित्र कोहरा तो हमें बहुत बड़ा संदेश देता है जब हम कोहरा में जाते हैं तो हमें दूर दूर तक कुछ भी नहीं दिखाई देता है और हम सोचते हैं कि हम मुझे तो कुछ भी नहीं दिखाई दे रहा है हम कैसे इसमें आगे बढ़ेंगे जब हम थोड़ा थोड़ा आगे बढ़ते हैं तो हमें सब कुछ साफ दिखाई देने लगता है और मुझे जहां भी जाना होता है हम उस मंजिल तक पहुंच जाते हैं तो इसी प्रकार से कोई राह में बहुत बड़ा संदेश देता है कि मेरे पास कितने भी संकट आए कितनी भी विपत्तियां आए तो हमें कभी भी घबराना नहीं चाहिए हमें किसी प्रकार की चिंता नहीं करनी चाहिए जब हमें यह महसूस होने लगे कि हमारी ओर चारों ओर अंधेरा अंधेरा है संकट के बादल मंडराने लगे हैं तो हमें उन्हें उनसे कभी भी चिंता कुछ नहीं होना चाहिए हमें उनसे संघर्ष करते हुए एक-एक क्षण को समाप्त करते हुए मैं आगे निकल जाना है और धीरे-धीरे हमारे संकट सब चलते जाएंगे और हम अपनी सफलता की ओर आगे बढ़ जाएंगे और जो भी हमारा लक्ष्य होगा हम उस लक्ष्य को हम आसानी से प्राप्त कर सकेंगे जय हिंद जय भारत
Mitr namaskaar aapaka prashn hai kohare se hamen kya seekh milatee hai to mitr kohara to hamen bahut bada sandesh deta hai jab ham kohara mein jaate hain to hamen door door tak kuchh bhee nahin dikhaee deta hai aur ham sochate hain ki ham mujhe to kuchh bhee nahin dikhaee de raha hai ham kaise isamen aage badhenge jab ham thoda thoda aage badhate hain to hamen sab kuchh saaph dikhaee dene lagata hai aur mujhe jahaan bhee jaana hota hai ham us manjil tak pahunch jaate hain to isee prakaar se koee raah mein bahut bada sandesh deta hai ki mere paas kitane bhee sankat aae kitanee bhee vipattiyaan aae to hamen kabhee bhee ghabaraana nahin chaahie hamen kisee prakaar kee chinta nahin karanee chaahie jab hamen yah mahasoos hone lage ki hamaaree or chaaron or andhera andhera hai sankat ke baadal mandaraane lage hain to hamen unhen unase kabhee bhee chinta kuchh nahin hona chaahie hamen unase sangharsh karate hue ek-ek kshan ko samaapt karate hue main aage nikal jaana hai aur dheere-dheere hamaare sankat sab chalate jaenge aur ham apanee saphalata kee or aage badh jaenge aur jo bhee hamaara lakshy hoga ham us lakshy ko ham aasaanee se praapt kar sakenge jay hind jay bhaarat

bolkar speaker
कोहरे से हमें क्या सीख मिलती है?Kohre Se Hume Kya Seekh Milti Hai
Shivani gupta Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Shivani जी का जवाब
Portal news editor and a network marketing businesses, typist
1:00
जी नमस्कार जैसा की आप ने सवाल पूछा है कोहरे से हमें क्या सीख मिलती है कि जितना मैं जानती हूं कि आपने अक्सर देखा हुआ कोहरा होता है तो जब कोरा होता है तो हमें थोड़ी ही पास का नजर आता है कम से कम तीन चार कदम का और बाद में कोहरा रहता है लेकिन फिर हम वह तीन चार कदम चलते हैं तो हमें फिर उसके आगे तीन चार कदम का और दिखाई देने लगता है फिर कौरा होता है तू कोरा में यह सिखाता है कि जहां तक दिख रहा है वहां तक तो चलो क्या पता वहां तक तुम पहुंचे तो तुम और नॉलेज अगेन करो जिससे तुम और आगे चार कदम चल सको तो यह कोरा ही सिखाता रुकना नहीं है जितना दिख रहा है वहां तक तो चलो जब वहां पहुंचेंगे तो आगे देखते हैं उस टाइम पर क्या मैटर रहता है कल से ही सीख मिलती है बस कि जहां तक है वहां तक चलो फिर जब आप आगे बढ़ो गे तो हो सकता है आगे वाला रास्ता और साफ हो जाए तो जातक साफ दिख रहा है वहां तक चलो थैंक
Jee namaskaar jaisa kee aap ne savaal poochha hai kohare se hamen kya seekh milatee hai ki jitana main jaanatee hoon ki aapane aksar dekha hua kohara hota hai to jab kora hota hai to hamen thodee hee paas ka najar aata hai kam se kam teen chaar kadam ka aur baad mein kohara rahata hai lekin phir ham vah teen chaar kadam chalate hain to hamen phir usake aage teen chaar kadam ka aur dikhaee dene lagata hai phir kaura hota hai too kora mein yah sikhaata hai ki jahaan tak dikh raha hai vahaan tak to chalo kya pata vahaan tak tum pahunche to tum aur nolej agen karo jisase tum aur aage chaar kadam chal sako to yah kora hee sikhaata rukana nahin hai jitana dikh raha hai vahaan tak to chalo jab vahaan pahunchenge to aage dekhate hain us taim par kya maitar rahata hai kal se hee seekh milatee hai bas ki jahaan tak hai vahaan tak chalo phir jab aap aage badho ge to ho sakata hai aage vaala raasta aur saaph ho jae to jaatak saaph dikh raha hai vahaan tak chalo thaink

bolkar speaker
कोहरे से हमें क्या सीख मिलती है?Kohre Se Hume Kya Seekh Milti Hai
Ganga Asati Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Ganga जी का जवाब
Unknown
0:16
यह सीख मिलती है कि आप सीधे चलते जाइए आपको रास्ता मिलता जाएगा उसी प्रकार इस प्रकार आपके पास विपत्ति हो तो आप सीधे चलते रहिए आप भी पति को हरा सकते बस अब कोशिश करते नहीं आनी चाहिए आपको रास्ता मिलेगा ही
Yah seekh milatee hai ki aap seedhe chalate jaie aapako raasta milata jaega usee prakaar is prakaar aapake paas vipatti ho to aap seedhe chalate rahie aap bhee pati ko hara sakate bas ab koshish karate nahin aanee chaahie aapako raasta milega hee

bolkar speaker
कोहरे से हमें क्या सीख मिलती है?Kohre Se Hume Kya Seekh Milti Hai
souramita Deb Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए souramita जी का जवाब
Unknown
1:04
कुकड़े से हमें क्या सीख मिलती है कोहोड़ा जिससे हम लोग भी कहते हैं तो सर्दियों के मौसम में अक्सर रिश्ते जो है वह कोहली से थक जाती है तो हमें दिखाई नहीं देती पर जैसे-जैसे कोहरा हटता है हमेशा फर्स्ट दिखाई देते हैं ऐसे ही हमारे जीवन में कई बार से मुश्किलें आती है कोहली के जैसे और मुसीबतों से पूरा ढक जाता है अभी कुछ दिखता नहीं है पर जैसे-जैसे उजाला होता है जैसी जैसी हमारी मुसीबत कब होती है हमें अपनी मंजिल साफ दिखती है और हम उसको पूरा कर पाते हैं तो हमें कोहली से यही सीख मिलती है कि उजाले का इंतजार करना चाहिए सही वक्त का इंतजार करना चाहिए जैसे सही वर्क नहीं आने से कोहरा भी नहीं हटता वह भी इधर ही रहता है जिधर है रास्ते पर और ऐसी हमारी जीवन में भी जब मुसीबतों का पहाड़ आता है या कोई भी परेशानी का कोहरा आता है तो जब तक उजाला नहीं होता या फिर जब तक सही समय तब तक की मुसीबत नहीं जाती है धन्यवाद
Kukade se hamen kya seekh milatee hai kohoda jisase ham log bhee kahate hain to sardiyon ke mausam mein aksar rishte jo hai vah kohalee se thak jaatee hai to hamen dikhaee nahin detee par jaise-jaise kohara hatata hai hamesha pharst dikhaee dete hain aise hee hamaare jeevan mein kaee baar se mushkilen aatee hai kohalee ke jaise aur museebaton se poora dhak jaata hai abhee kuchh dikhata nahin hai par jaise-jaise ujaala hota hai jaisee jaisee hamaaree museebat kab hotee hai hamen apanee manjil saaph dikhatee hai aur ham usako poora kar paate hain to hamen kohalee se yahee seekh milatee hai ki ujaale ka intajaar karana chaahie sahee vakt ka intajaar karana chaahie jaise sahee vark nahin aane se kohara bhee nahin hatata vah bhee idhar hee rahata hai jidhar hai raaste par aur aisee hamaaree jeevan mein bhee jab museebaton ka pahaad aata hai ya koee bhee pareshaanee ka kohara aata hai to jab tak ujaala nahin hota ya phir jab tak sahee samay tab tak kee museebat nahin jaatee hai dhanyavaad

bolkar speaker
कोहरे से हमें क्या सीख मिलती है?Kohre Se Hume Kya Seekh Milti Hai
Dhiraj Gurjar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Dhiraj जी का जवाब
Unknown
0:53

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • कोहरे से हमें क्या सीख मिलती है कोहरे से सीख
URL copied to clipboard