#undefined

डा. इन्दु प्रकाश सिंह  Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए डा. जी का जवाब
शिक्षण-कार्य, कालेज शिक्षा में प्राचार्य हूँ
1:16
किताब लिख कर खुद से प्रकाशित करती हूं तो क्या मैं प्रकाशित लेखक मानी जाऊंगी पहले तो लेखक की जगह लेखिका लगाई है साहब अब बात आई के प्रकाशन के बाद तो आप प्रकाशित रचना के लिए इसका माने जा सकते लेकिन भैया प्रकाशन की दृष्टि से अगर वह देखें तो रिकॉर्ड में तो आप निश्चित रूप से प्रकाशित पुस्तक की लेखिका मान ली जाएंगे लेकिन होता क्या है कि लेखक के रूप में स्थापित होने के लिए बाजार देखा जाता है समझा अपना और बाजार में फिर बिक्री देखी जाती है हालांकि ऐसे बहुत से लोग हैं जो अपनी किताबें छपवा लेते हैं और छपवा कर के उसे बांट देते हैं और लेखक वर्ग में अपने को स्थापित कर देते तो आप भी ऐसा कर सकते हैं लेकिन यथार्थ में जिसे लेखक कहा जाता हूं वह होता है जिसके किताब में छपे अपने बीके खरीदी जाएं और चर्चा के केंद्र में हो जा आ जाए ठीक है ना अन्यथा लिख कर के रूप में जाने के बाद तुझे लिखकर की परिभाषा है उसमें तो आपकी चर्चा हो ही जाएगी और उसके लिए प्रमाण आपके पास हुआ था आपकी पुस्तक छपी हुई है तो उसको नियमानुसार छुपाने की कोशिश करके आप इस कैटेगरी में अपने प्रस्तावित कर सकते हैं थैंक यू
Kitaab likh kar khud se prakaashit karatee hoon to kya main prakaashit lekhak maanee jaoongee pahale to lekhak kee jagah lekhika lagaee hai saahab ab baat aaee ke prakaashan ke baad to aap prakaashit rachana ke lie isaka maane ja sakate lekin bhaiya prakaashan kee drshti se agar vah dekhen to rikord mein to aap nishchit roop se prakaashit pustak kee lekhika maan lee jaenge lekin hota kya hai ki lekhak ke roop mein sthaapit hone ke lie baajaar dekha jaata hai samajha apana aur baajaar mein phir bikree dekhee jaatee hai haalaanki aise bahut se log hain jo apanee kitaaben chhapava lete hain aur chhapava kar ke use baant dete hain aur lekhak varg mein apane ko sthaapit kar dete to aap bhee aisa kar sakate hain lekin yathaarth mein jise lekhak kaha jaata hoon vah hota hai jisake kitaab mein chhape apane beeke khareedee jaen aur charcha ke kendr mein ho ja aa jae theek hai na anyatha likh kar ke roop mein jaane ke baad tujhe likhakar kee paribhaasha hai usamen to aapakee charcha ho hee jaegee aur usake lie pramaan aapake paas hua tha aapakee pustak chhapee huee hai to usako niyamaanusaar chhupaane kee koshish karake aap is kaitegaree mein apane prastaavit kar sakate hain thaink yoo

और जवाब सुनें

Daulat Ram sharma Shastri Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Daulat जी का जवाब
Retrieved sr tea . social activist,
4:51
पुस्तके लिखे बहुत अच्छी बात है राइटिंग अच्छी हो गई है लेकिन राइटिंग इस प्रकार की हो जन जन मनमोहक खो जना पसंद करने वाली हो जनता के दिल को जीतने वाली हो जैसे आपने पुराने लेखकों में यदि कभी मुंशी प्रेमचंद के साहित्य को पढ़ा हो तो मुंशी प्रेमचंद का साहित्य कल भी उतना सत्य था जब हम बचपन में पढ़ती थी और आज हम बुढ़ापे में भी पढ़ते हैं तो वह उतना ही सत्य पैसों से होता है क्योंकि उसके पात्र इस जन समाज में दिखाई देते हैं चाय कहानियां हूं चाय भी उनके उपन्यासों यही कारण है कि हिंदी साहित्य में आज की डेट में तो क्या हमेशा से यह मानते हैं हिंदी साहित्य के उपन्यास सम्राट निसंदेह रूप से मुंशी प्रेमचंद है ठीक इसी प्रकार की यदि आपकी पुस्तक लेख लेखन में पतवा है ठीक इसी प्रकार के अपनी लेखनी का प्रयोग आप अपनी प्रतिभा का प्रयोजन समाज के पात्रों को जन समाज की जो स्थिति है उसका चित्रण करने में आप सफल होते हैं तो आप भी भारत में उतने ही प्रसिद्ध लेखक बन सकते हैं जैसे की पुरानी पीढ़ी में आज मुंशी प्रेमचंद या जयशंकर प्रसाद या श्री रामधारी सिंह दिनकर या सुमित्रानंदन पंत या मैथिलीशरण गुप्त जिन लोगों अमर प्रतिज्ञा लिखी हैं हिंदी साहित्य जब तक रहेगा तब तक उनकी वह अमर प्रतियां हमेशा याद की जाती रहेंगी और विशेष तौर से उन पीड़ित साहित्य को बेमिसाल मानती है आज के लेखकों में प्रथम आए नहीं आज के लेखक विषयों की गंभीरता को ना समझते हुए जो लेखन कर रही हैं वह लेखन उतना पॉपुलर डी को प्राप्त नहीं हो रहा है क्योंकि वह यथार्थ से बहुत दूर होते हैं वह लग्जरी जीवन का वर्णन करते हैं उस बटन के जीवन को सत्य जीवन को यथार्थ को प्रदर्शित करने में एकदम राइट हैं सुनने हैं परिणाम स्वरूप बौद्ध साहित्य यह नया साहित्य उतना मार्केट में नहीं लिख पाता है आप देख रहे हैं कि जो यह जो नए लेखक हैं वह फिल्मी स्टाइल ओं से ज्यादा बिजी हैं और फिल्मी दलों से ज्यादा प्रभावित हैं आपने देखा है कि दुख फिल्में बनती हैं जिनका चयन का फिल्मांकन धरातल पर किया जाता है जनसाधारण से संबंधित किया जाता है जिन विषयों को जनसाधारण से संबंधित जोड़कर के फिल्मांकन किया जाता है बेस्ट फिल्में हमेशा सफल रही हैं और जो फिल्में लग्जरी जीवन को शो करने वाली शायरी जीवन को शो करने वाली सुख सुविधाओं से परिपूर्ण जीवन से संबंधित वह करके प्रेषित की गई हैं महफिल में अधिकतर क्लॉक रही हैं वे सफल अभिनेता भी केवल उन्हीं माना जाता है जो जनसाधारण के जीवन को यथार्थ फिल्म अंकित करते हुए उसको प्रदर्शन करने की क्षमता रखते हैं देसी अमिताभ बच्चन साहब हैं जैसे पुरानी हीरो में संजीव कुमार साहब थे जैसे आप की कसम मिथुन चक्रवर्ती साहब हैं यह सब तो यह प्रसिद्धि को प्राप्त ठीक इसी प्रकार जो लेखक यथार्थ की स्थिति को समाज में ही पात्र ढूंढते हुए समाज के विषयों को ही जो यथार्थ रूप में चित्रण करने की क्षमता है रखते हैं प्रतिमाएं रखते हैं वे लेखक रुश्दी को प्राप्त करते हैं मैं ईश्वर से कामना करता हूं कि आप एक अच्छे बने आप यथार्थ पर चलने का प्रयास करें और मुंशी प्रेमचंद जैसे लेखकों को अपना आदर्श माने तो निश्चित रूप से ही आप अपना भविष्य बना सकेंगे ऐसी शुभकामनाओं के साथ
Pustake likhe bahut achchhee baat hai raiting achchhee ho gaee hai lekin raiting is prakaar kee ho jan jan manamohak kho jana pasand karane vaalee ho janata ke dil ko jeetane vaalee ho jaise aapane puraane lekhakon mein yadi kabhee munshee premachand ke saahity ko padha ho to munshee premachand ka saahity kal bhee utana saty tha jab ham bachapan mein padhatee thee aur aaj ham budhaape mein bhee padhate hain to vah utana hee saty paison se hota hai kyonki usake paatr is jan samaaj mein dikhaee dete hain chaay kahaaniyaan hoon chaay bhee unake upanyaason yahee kaaran hai ki hindee saahity mein aaj kee det mein to kya hamesha se yah maanate hain hindee saahity ke upanyaas samraat nisandeh roop se munshee premachand hai theek isee prakaar kee yadi aapakee pustak lekh lekhan mein patava hai theek isee prakaar ke apanee lekhanee ka prayog aap apanee pratibha ka prayojan samaaj ke paatron ko jan samaaj kee jo sthiti hai usaka chitran karane mein aap saphal hote hain to aap bhee bhaarat mein utane hee prasiddh lekhak ban sakate hain jaise kee puraanee peedhee mein aaj munshee premachand ya jayashankar prasaad ya shree raamadhaaree sinh dinakar ya sumitraanandan pant ya maithileesharan gupt jin logon amar pratigya likhee hain hindee saahity jab tak rahega tab tak unakee vah amar pratiyaan hamesha yaad kee jaatee rahengee aur vishesh taur se un peedit saahity ko bemisaal maanatee hai aaj ke lekhakon mein pratham aae nahin aaj ke lekhak vishayon kee gambheerata ko na samajhate hue jo lekhan kar rahee hain vah lekhan utana popular dee ko praapt nahin ho raha hai kyonki vah yathaarth se bahut door hote hain vah lagjaree jeevan ka varnan karate hain us batan ke jeevan ko saty jeevan ko yathaarth ko pradarshit karane mein ekadam rait hain sunane hain parinaam svaroop bauddh saahity yah naya saahity utana maarket mein nahin likh paata hai aap dekh rahe hain ki jo yah jo nae lekhak hain vah philmee stail on se jyaada bijee hain aur philmee dalon se jyaada prabhaavit hain aapane dekha hai ki dukh philmen banatee hain jinaka chayan ka philmaankan dharaatal par kiya jaata hai janasaadhaaran se sambandhit kiya jaata hai jin vishayon ko janasaadhaaran se sambandhit jodakar ke philmaankan kiya jaata hai best philmen hamesha saphal rahee hain aur jo philmen lagjaree jeevan ko sho karane vaalee shaayaree jeevan ko sho karane vaalee sukh suvidhaon se paripoorn jeevan se sambandhit vah karake preshit kee gaee hain mahaphil mein adhikatar klok rahee hain ve saphal abhineta bhee keval unheen maana jaata hai jo janasaadhaaran ke jeevan ko yathaarth philm ankit karate hue usako pradarshan karane kee kshamata rakhate hain desee amitaabh bachchan saahab hain jaise puraanee heero mein sanjeev kumaar saahab the jaise aap kee kasam mithun chakravartee saahab hain yah sab to yah prasiddhi ko praapt theek isee prakaar jo lekhak yathaarth kee sthiti ko samaaj mein hee paatr dhoondhate hue samaaj ke vishayon ko hee jo yathaarth roop mein chitran karane kee kshamata hai rakhate hain pratimaen rakhate hain ve lekhak rushdee ko praapt karate hain main eeshvar se kaamana karata hoon ki aap ek achchhe bane aap yathaarth par chalane ka prayaas karen aur munshee premachand jaise lekhakon ko apana aadarsh maane to nishchit roop se hee aap apana bhavishy bana sakenge aisee shubhakaamanaon ke saath

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • मैं एक किताब लिख कर ख़ुद से प्रकाशित करती हूँ तो क्या मैं प्रकाशित लेखक मानी जाऊँगी प्रकाशित लेखक
URL copied to clipboard