#undefined

lalit Netam Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए lalit जी का जवाब
Unknown
2:59
आपका सवाल है क्या मानव शरीर में आत्मा का वास होता है यदि हां तो क्या करने की एक स्वस्थ शरीर आत्मा शरीर को आत्महत्या कर देती है और इनके आपका सवाल है कि हां कारण मिल चुकी हो जाती है दुर्घटना में जख्मी सही स्वस्थ रहता है तो आप यह सवाल है तो मैं आपको बता दूं इसका जवाब है शरीर आत्मा आत्मा के बारे में बता दो हम सभी कमी है अगर आप अपने आप को सही मानते हो तो आप गलतफहमी में हो आप अपने आपको जानू हम सभी कौन हैं हम सभी का आत्मा है और आत्मा शरीर के मस्तिष्क के मध्य में स्थित होती है नेकी मस्तक के मध्य में आप गूगल पर सर्च कर सकते हो उसके बारे में ठीक है साइंटिफिक ए प्रूवन है कि आत्मा होती है ठीक है विज्ञान भी मानता है अध्यात्म में तो है ही कि हम सभी का हाथ में हैं और हमारे जो पीता है परमपिता परमात्मा भगवान है ठीक है तो आत्मा ज्योति बिंदु पॉइंट ऑफ लाइट होती है एनर्जी बोल सकते हो आप इसे तो आत्मा अजर अविनाशी आत्मा ना ही मरती है ना ही ना लिरिक्स उसे कोई मार सकता है जरा नहीं चला सकता है कि नहीं भाई सुखा सकते आपने पढ़ाई होगा इसके बारे में संस्कृत में श्लोक है गीता में हर चीज के बारे में बता क्या तुम्हें कोई नहीं मार सकता अजर अमर अविनाशी है ठीक है सिर्फ शरीर धारण करती है एक जन्म लेकर फिर अलग अगले जन्म में फिर नया शरीर धारण करती है तो आप बोल रहे हो क्या कारण मृत्यु हो जाती है तो दुर्घटना होती है ना तो उस टाइम आप देखना की मौत क्यों होती है दुर्घटना में यह तो याद दिल की धड़कन ए का रुक जाती है आखिर बहुत सारे कारण होती है दुर्घटना में बहुत सारे लोग जाते हैं और कई लोग नहीं बच पाते तो उसका कारण आप डॉक्टर को पूछ सकते हो कि शरीर में ऐसा कौन सा पार्ट है जिसे कारण दुर्घटना होती लेकिन मैं तो यही बोलूंगा वह सारी चीजें लिखी लिख कर आती है कि कौन कैसे मारेगा किस जगह मिलेगा यह सारी चीजें निश्चित होती है ठीक है और जैसा हम कर्म करते हैं वैसा ही हमें फल भुगतना पड़ता है और आप बोल दो किसी की मौत हो जाती है ना तो वह संयोगवश नहीं है वह लिखा हुआ है उसके भाग्य में लिखा था कि उसे इसकी मौत किस तरह होगी आने किस तरह से होगी दुर्घटना में मौत हो जिसकी और कितने बजे इतने समय इस जगह यह सारी चीजें निर्धारित होती है ठीक है मौत और सिर्फ मौत ही होता है भाई शरीर बदलती है बस ऐसे ही धारण करती है फिर से तो इसमें कोई यह नहीं बोल रहे हो कि स्वस्थ शरीर स्वस्थ शरीर नहीं दुर्घटना होते ना तो तरीके अलग-अलग भाग काम करना बंद कर देते दुर्घटना में किसके कारण आत्मा शरीर को छोड़कर चली जाती है आने की मौत हो जाती है लेकिन आत्मा अजर अमर अविनाशी है फिर से वह निर्धन करती अगले जन्म लेती है पर अपना पाठ बजाती है हम सभी का हाथ में ही है और हमने पिछले ना में कोई ना कोई कर्म किए होंगे इसी कारण आज आप अभी इस समय हो यानी कि हम जो भी कर्म करते हैं उसका फल में इस जन्म में भुगतना पड़ता है और जो हमारे माता-पिता है यह इन सभी का संबंध पिछले जन्म में भी था इसी कारण हम हम किसी के घर में जन्म लेते हैं ना तो उसका जो भी संबंध था पिछले दिन
Aapaka savaal hai kya maanav shareer mein aatma ka vaas hota hai yadi haan to kya karane kee ek svasth shareer aatma shareer ko aatmahatya kar detee hai aur inake aapaka savaal hai ki haan kaaran mil chukee ho jaatee hai durghatana mein jakhmee sahee svasth rahata hai to aap yah savaal hai to main aapako bata doon isaka javaab hai shareer aatma aatma ke baare mein bata do ham sabhee kamee hai agar aap apane aap ko sahee maanate ho to aap galataphahamee mein ho aap apane aapako jaanoo ham sabhee kaun hain ham sabhee ka aatma hai aur aatma shareer ke mastishk ke madhy mein sthit hotee hai nekee mastak ke madhy mein aap googal par sarch kar sakate ho usake baare mein theek hai saintiphik e proovan hai ki aatma hotee hai theek hai vigyaan bhee maanata hai adhyaatm mein to hai hee ki ham sabhee ka haath mein hain aur hamaare jo peeta hai paramapita paramaatma bhagavaan hai theek hai to aatma jyoti bindu point oph lait hotee hai enarjee bol sakate ho aap ise to aatma ajar avinaashee aatma na hee maratee hai na hee na liriks use koee maar sakata hai jara nahin chala sakata hai ki nahin bhaee sukha sakate aapane padhaee hoga isake baare mein sanskrt mein shlok hai geeta mein har cheej ke baare mein bata kya tumhen koee nahin maar sakata ajar amar avinaashee hai theek hai sirph shareer dhaaran karatee hai ek janm lekar phir alag agale janm mein phir naya shareer dhaaran karatee hai to aap bol rahe ho kya kaaran mrtyu ho jaatee hai to durghatana hotee hai na to us taim aap dekhana kee maut kyon hotee hai durghatana mein yah to yaad dil kee dhadakan e ka ruk jaatee hai aakhir bahut saare kaaran hotee hai durghatana mein bahut saare log jaate hain aur kaee log nahin bach paate to usaka kaaran aap doktar ko poochh sakate ho ki shareer mein aisa kaun sa paart hai jise kaaran durghatana hotee lekin main to yahee boloonga vah saaree cheejen likhee likh kar aatee hai ki kaun kaise maarega kis jagah milega yah saaree cheejen nishchit hotee hai theek hai aur jaisa ham karm karate hain vaisa hee hamen phal bhugatana padata hai aur aap bol do kisee kee maut ho jaatee hai na to vah sanyogavash nahin hai vah likha hua hai usake bhaagy mein likha tha ki use isakee maut kis tarah hogee aane kis tarah se hogee durghatana mein maut ho jisakee aur kitane baje itane samay is jagah yah saaree cheejen nirdhaarit hotee hai theek hai maut aur sirph maut hee hota hai bhaee shareer badalatee hai bas aise hee dhaaran karatee hai phir se to isamen koee yah nahin bol rahe ho ki svasth shareer svasth shareer nahin durghatana hote na to tareeke alag-alag bhaag kaam karana band kar dete durghatana mein kisake kaaran aatma shareer ko chhodakar chalee jaatee hai aane kee maut ho jaatee hai lekin aatma ajar amar avinaashee hai phir se vah nirdhan karatee agale janm letee hai par apana paath bajaatee hai ham sabhee ka haath mein hee hai aur hamane pichhale na mein koee na koee karm kie honge isee kaaran aaj aap abhee is samay ho yaanee ki ham jo bhee karm karate hain usaka phal mein is janm mein bhugatana padata hai aur jo hamaare maata-pita hai yah in sabhee ka sambandh pichhale janm mein bhee tha isee kaaran ham ham kisee ke ghar mein janm lete hain na to usaka jo bhee sambandh tha pichhale din

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • मानव शरीर में आत्मा का वास होता है, एक स्वस्थ शरीर की दुर्घटना या संयोगवश मौत क्यों हो जाती है
URL copied to clipboard