#रिश्ते और संबंध

bolkar speaker
क्या दादी के चाचा की बेटी की बेटी से शादी कर सकते हैं?Kya Daadee Ke Chaacha Kee Betee Kee Betee Se Shaadee Kar Sakate Hain
डा. इन्दु प्रकाश सिंह  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए डा. जी का जवाब
शिक्षण-कार्य, कालेज शिक्षा में प्राचार्य हूँ
1:23
आपका प्रश्न क्या दादी के चाचा की बेटी की बेटी से शादी कर सकते हैं देखें मित्र रिश्ते नजदीक होने लगे हिंदुओं ने मुसलमानों के दूर के होने लगे हैं लेकिन सच्ची बात यह है कि दादी जो हुई है उसके चाचा की बेटी की बेटी 3:00 पर ही काम कर देखा जाता है तो सबसे बड़ी बात है मामा से दादी दादी के गोत्र से चाचा की बेटी दूसरे गोत्र में दे फिर उसकी बेटी क्यों नहीं कर सकते हमारे ख्याल से ऐसे रिश्ते किए जा सकते हैं समझा अपना और इससे सबसे बड़ा लाभ यह होगा कि एक परिचय होगा समझे आपने एक निकटता होगी आजकल परिचय में शादी होने से रिश्ते बड़ी जल्दी टूट रही है क्योंकि अब हम बिना एक दूसरे को समझे जब शादी करेंगे तो वह रिश्ते टूट सकते हैं और बच्चे बच्चों को भी इसका असर मिलना दिल की शादी हो रही है एक दूसरे को समझ सके तो मेरे ख्याल से इतने दूर के रिश्ते में शादी बिल्कुल हो सकती परंपरा के अनुसार भी हो सकती है लेकिन इसमें अरेंज मैरिज में भी होने वाले बहू और होने वाले जो पति हैं उन दोनों को थोड़ी देर के लिए समझने का मौका मिलना चाहिए एक दूसरे को

#रिश्ते और संबंध

pooja Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए pooja जी का जवाब
Student
0:46

#रिश्ते और संबंध

bolkar speaker
जिंदगी में सबसे अच्छा दोस्त कौन होता है?Jindagee Mein Sabase Achchha Dost Kaun Hota Hai
Shyam sundar Nai Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Shyam जी का जवाब
नोकरी
0:51

#रिश्ते और संबंध

bolkar speaker
किसी एक कवि की चार पंक्तियां सुनाइए?Kisee Ek Kavi Kee Chaar Panktiyaan Sunaie
Ashok Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Ashok जी का जवाब
कृषक👳💦
0:58

#रिश्ते और संबंध

bolkar speaker
क्या औरतों के औरतों से अच्छे दोस्त आदमी होते है क्या ?Kya Auraton Ke Auraton Se Achchhe Dost Aadamee Hote Hai Kya
Abhishek Shukla ji Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Abhishek जी का जवाब
Motivational speaker
2:04
मुझे आपको बहुत अच्छा प्रश्न है कि औरतों के जो 1 वर्षों से ज्यादा अच्छे जो दोस्ती होती है तुम्हें यह आदमी से होती तो फिर देखिए क्या है कि हम जो हैं जो कई सारी चीज है जो है तो जल्दी नहीं होती थी हमने तो अपने लीजिए की औरतों से सारी बातें कर सकें इस जज्बे तो खुश है हमारी अच्छी दोस्ती जो है तो आदमी से होती है जिससे कि हम खुलकर अपनी जो भी कर लीजिए मुझे हमारे अंदर चल रही होती है उन चीजों को हम आसानी से कह पाते हैं लेकिन कई सारे हमारे आसपास ऐसे भी लोग होते हैं जिससे क्या हुआ चीज आसानी से नहीं कर पाते इसलिए जो है तो आदमी है जो है तो बहुत अच्छे तरीके से हमें समझते हैं और कहीं कहीं जगह पर हमारी उनसे अच्छी दोस्ती भी होती है ऐसा नहीं है क्या होता है कि कई सही चीज है हमें ऐसा लगता है कि हम जो है तो औरतों से शेयर नहीं कर पाते हैं तो इसलिए जो एक और तू भी तो सोती है कि बहुत सही चीज है जो है तो आसानी से आदमियों के साथ कह पाती है उनसे ताजा कर पाती है प्लीज जो भी जानकारी है जो भी खुश हैं जो भी चीजें उनके साथ चल रही होती तो बेहतर तरीके से खुल करके बता पाती है बजाय उनके कि जो जो औरत होती है उनके आस-पास उनसे जो इससे हो सकते हैं कि उन्हें थोड़ी अच्छा लगता है इन चीजों को शेयर करने से क्या लीजिए क्यों नहीं रात में दीवार से चीजों से जो के वजह से जो है तो औरतों की जो दोस्ती है तू है बजाएं औरतों के आदमियों से अच्छी बन पाती हो कि नहीं करता हूं कि आपको आपके जवाब मिल पाए होंगे और हम से ऐसे जुड़े रहने के लिए हम से मैसेज टाइप कर सकते आप और आपके जो भी हमारे जो भी अच्छा सुझाव है तो आप तक नोटिफिकेशन के माध्यम से जरूरी एक किताब पहुंच पाएंगे अभी आप हमें सब्सक्राइब कर लेंगे तो यह तो छोटा सा सुझाव दोस्तों मिस करता हूं कहना कि आपके जो सवाल आपके अंदर चले से आपको कहीं ना कहीं से राहत मिली होगी धन्यवाद
Mujhe aapako bahut achchha prashn hai ki auraton ke jo 1 varshon se jyaada achchhe jo dostee hotee hai tumhen yah aadamee se hotee to phir dekhie kya hai ki ham jo hain jo kaee saaree cheej hai jo hai to jaldee nahin hotee thee hamane to apane leejie kee auraton se saaree baaten kar saken is jajbe to khush hai hamaaree achchhee dostee jo hai to aadamee se hotee hai jisase ki ham khulakar apanee jo bhee kar leejie mujhe hamaare andar chal rahee hotee hai un cheejon ko ham aasaanee se kah paate hain lekin kaee saare hamaare aasapaas aise bhee log hote hain jisase kya hua cheej aasaanee se nahin kar paate isalie jo hai to aadamee hai jo hai to bahut achchhe tareeke se hamen samajhate hain aur kaheen kaheen jagah par hamaaree unase achchhee dostee bhee hotee hai aisa nahin hai kya hota hai ki kaee sahee cheej hai hamen aisa lagata hai ki ham jo hai to auraton se sheyar nahin kar paate hain to isalie jo ek aur too bhee to sotee hai ki bahut sahee cheej hai jo hai to aasaanee se aadamiyon ke saath kah paatee hai unase taaja kar paatee hai pleej jo bhee jaanakaaree hai jo bhee khush hain jo bhee cheejen unake saath chal rahee hotee to behatar tareeke se khul karake bata paatee hai bajaay unake ki jo jo aurat hotee hai unake aas-paas unase jo isase ho sakate hain ki unhen thodee achchha lagata hai in cheejon ko sheyar karane se kya leejie kyon nahin raat mein deevaar se cheejon se jo ke vajah se jo hai to auraton kee jo dostee hai too hai bajaen auraton ke aadamiyon se achchhee ban paatee ho ki nahin karata hoon ki aapako aapake javaab mil pae honge aur ham se aise jude rahane ke lie ham se maisej taip kar sakate aap aur aapake jo bhee hamaare jo bhee achchha sujhaav hai to aap tak notiphikeshan ke maadhyam se jarooree ek kitaab pahunch paenge abhee aap hamen sabsakraib kar lenge to yah to chhota sa sujhaav doston mis karata hoon kahana ki aapake jo savaal aapake andar chale se aapako kaheen na kaheen se raahat milee hogee dhanyavaad

#रिश्ते और संबंध

bolkar speaker
क्या सदियों से सास बहू के बीच चला आ रहा मनमुटाव कभी खत्म हो सकता है?Kya Sadiyo Se Saas Bahu Ke Beech Chala Aa Raha Manamutaav Kabhi Khatm Ho Sakaa Hai
Trilok Sain Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Trilok जी का जवाब
Motivational Speaker Public Speaker Life Coach Youtuber
1:27
प्रश्न है कि क्या सदियों से सास बहू के बीच चला आ रहा मनमुटाव कभी समाप्त हो सकता है दरअसल यह जो मनमुटाव है ना यह क्या आपको कहां से शुरू होता है यह शुरू दिमाग से मन से और हमारे भारत में यह बात बिठा दी जाती है कि सास और बहू की कभी बनती नहीं है यह बात सास के भी दिमाग में आती है और बहू के दिमाग में और जो लॉ ऑफ अट्रैक्शन है जो आकर्षण का सिद्धांत है वह यहां काम करने लगता है अब जब भी साथ गलती करती है तो बहू को उसके प्रति नकारात्मक आती है उसके बारे में बुरा कोई चांस ही नहीं है लेकिन बहुत सारे जगह से देखिए वहां पर जिस सास ने बहू को बेटी की तरह माना है और बहू ने सास को मां की तरह माना है वहां पर कभी मन मोटा होता ही नहीं है अगर मनमुटाव होता है तो तुरंत बंद हो जाता है माफी मांग ली जाती है प्रेम वैसा ही रहता है कुछ समय के लिए मनमुटाव होता है यानी मतभेद होता मनभेद इस प्रकार अपनी सगी मां से झगड़ा कर लेते हैं कभी कबार क्या मुंह से परमानेंट नहीं बोलते क्या तो वही बात है तो यह भेद मिट जाएगा धन्यवाद
Prashn hai ki kya sadiyon se saas bahoo ke beech chala aa raha manamutaav kabhee samaapt ho sakata hai darasal yah jo manamutaav hai na yah kya aapako kahaan se shuroo hota hai yah shuroo dimaag se man se aur hamaare bhaarat mein yah baat bitha dee jaatee hai ki saas aur bahoo kee kabhee banatee nahin hai yah baat saas ke bhee dimaag mein aatee hai aur bahoo ke dimaag mein aur jo lo oph atraikshan hai jo aakarshan ka siddhaant hai vah yahaan kaam karane lagata hai ab jab bhee saath galatee karatee hai to bahoo ko usake prati nakaaraatmak aatee hai usake baare mein bura koee chaans hee nahin hai lekin bahut saare jagah se dekhie vahaan par jis saas ne bahoo ko betee kee tarah maana hai aur bahoo ne saas ko maan kee tarah maana hai vahaan par kabhee man mota hota hee nahin hai agar manamutaav hota hai to turant band ho jaata hai maaphee maang lee jaatee hai prem vaisa hee rahata hai kuchh samay ke lie manamutaav hota hai yaanee matabhed hota manabhed is prakaar apanee sagee maan se jhagada kar lete hain kabhee kabaar kya munh se paramaanent nahin bolate kya to vahee baat hai to yah bhed mit jaega dhanyavaad

#रिश्ते और संबंध

bolkar speaker
क्या नौकरी और तैयारी एक साथ हो सकती है?Kya Naukri Aur Taiyari Ek Saath Ho Sakti Hai
Trilok Sain Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Trilok जी का जवाब
Motivational Speaker Public Speaker Life Coach Youtuber
0:54
कपड़े की क्या नौकरी और तैयारी लड़ाई एक साथ की जा सकती है कि बिल्कुल की जा सकती है इसके लिए आपको ध्यान नहीं रखना है क्या आप जो भी लोग भी करें वह आपके घर के नजदीक हो उसका कारण है कि जब आप मान जाएंगे तो आपका जो आने जाने में समय वह खराब नहीं होगा जैसे आप सुबह 5:00 बजे उठे और आप उठ के नहा धोकर पढ़ने बैठ के 10:00 बजे आपका ऑफिस से आपकी जो भी नौकरी का स्टाफ है वह चलता है तो आप 7:00 बजे से लेकर 9:30 बजे तक पढ़ सकते हैं फिर आप नौकरी पर चलेंगे पूरे दिन काम किया राम को 6:00 बजे 7:00 बजे वापस आए और फिर आप 2 घंटे पढ़ सकते हैं इसके अलावा आप जब छुट्टियां होती है या संडे होता है तब भी आप पढ़ाई करते इस प्रकार आप अपनी पढ़ाई और नौकरी को साथ-साथ कर सकते हैं धन्यवाद
Kapade kee kya naukaree aur taiyaaree ladaee ek saath kee ja sakatee hai ki bilkul kee ja sakatee hai isake lie aapako dhyaan nahin rakhana hai kya aap jo bhee log bhee karen vah aapake ghar ke najadeek ho usaka kaaran hai ki jab aap maan jaenge to aapaka jo aane jaane mein samay vah kharaab nahin hoga jaise aap subah 5:00 baje uthe aur aap uth ke naha dhokar padhane baith ke 10:00 baje aapaka ophis se aapakee jo bhee naukaree ka staaph hai vah chalata hai to aap 7:00 baje se lekar 9:30 baje tak padh sakate hain phir aap naukaree par chalenge poore din kaam kiya raam ko 6:00 baje 7:00 baje vaapas aae aur phir aap 2 ghante padh sakate hain isake alaava aap jab chhuttiyaan hotee hai ya sande hota hai tab bhee aap padhaee karate is prakaar aap apanee padhaee aur naukaree ko saath-saath kar sakate hain dhanyavaad

#रिश्ते और संबंध

bolkar speaker
सच के प्रति उदासीनता और गलत के लिए आकर्षण क्यों होता है जबकि गलत पतन की ओर ले जाने वाला होता है?Sach Ke Prati Udaaseenata Aur Galat Ke Lie Aakarshan Kyon Hota Hai Jabaki Galat Patan Kee Or Le Jaane Vaala Hota Hai
Christina KC Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Christina जी का जवाब
Unknown
1:14
चालक ने क्या है सच के प्रति उदासीनता और गलत के लिए आकर्षण क्यों होता है जबकि गलत पतन की ओर ले जाने वाला होता है अक्सर लोगों का इरादा तो होता है कि मतलब वह सही काम करें मतलब आप पर फिर भी चाहे मैं जो गलत वाला रास्ता होता है वह काफी आकर्षित करने वाला होता है क्योंकि उसमें काफी सारे ऐसे होते हैं जो लोग अपने मन की मन में जाते हैं और इसी कारण होता है कि लोग जो है सही वाला रास्ता होता है वह अली कि वह उनका इरादा होता है क्यों उस रास्ते पर चाय पर चर्चा नहीं पाते हैं क्योंकि करत वाले रास्ते में बहुत सारा आकर्षण होता है वह मन ही मन में सोचते हैं कि मतलब फंसी सही बना रास्ते में जाएंगे यह करेंगे वह करेंगे पर ऐसा जो है ज्यादातर मामले में नहीं हो पाता है क्योंकि वह ज्यादा आकर्षित होते हैं गलत वाले रास्ते में और वही सब करते रहते हैं और यह कल होता है कि लोग हैं जो सही वाला रास्ता है वह कर नहीं पाते हैं भले ही उनके मन नहीं मन में वह इरादा होता है कि वह करेंगे यह सब मेरे ख्याल से यही इस सवाल का जवाब है
Chaalak ne kya hai sach ke prati udaaseenata aur galat ke lie aakarshan kyon hota hai jabaki galat patan kee or le jaane vaala hota hai aksar logon ka iraada to hota hai ki matalab vah sahee kaam karen matalab aap par phir bhee chaahe main jo galat vaala raasta hota hai vah kaaphee aakarshit karane vaala hota hai kyonki usamen kaaphee saare aise hote hain jo log apane man kee man mein jaate hain aur isee kaaran hota hai ki log jo hai sahee vaala raasta hota hai vah alee ki vah unaka iraada hota hai kyon us raaste par chaay par charcha nahin paate hain kyonki karat vaale raaste mein bahut saara aakarshan hota hai vah man hee man mein sochate hain ki matalab phansee sahee bana raaste mein jaenge yah karenge vah karenge par aisa jo hai jyaadaatar maamale mein nahin ho paata hai kyonki vah jyaada aakarshit hote hain galat vaale raaste mein aur vahee sab karate rahate hain aur yah kal hota hai ki log hain jo sahee vaala raasta hai vah kar nahin paate hain bhale hee unake man nahin man mein vah iraada hota hai ki vah karenge yah sab mere khyaal se yahee is savaal ka javaab hai

#रिश्ते और संबंध

Christina KC Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Christina जी का जवाब
Unknown
2:52
सवाल आपने क्या है एक पिक्चर नहीं है मीना मेरी गलती की मुझे बहुत पीता जबकि जब मैं बारहवीं में था तब मेरा मन उससे बदला लेने का कर रहा है क्या करूं ठीक है क्या होता है कि कभी कबार तो पुरानी बातें और आपने जब 12वीं की हुई थी उस वक्त आप का रिचार्ज है हो सकता है कि आप के भले ही गलती नहीं हो पर उस वक्त आपको बोलना चाहिए था पर शायद ही हालात ऐसे बन गए होंगे कि मतलब टीचर को जो आप पर यकीन नहीं आया हो और जिस वजह से आपको बहुत मारा पीटा आपको बिना आपके कल्याण मतलब गलती कि आप को सजा मिली तो आपको बहुत ही ज्यादा बुरा लगा मन को ठेस पहुंची पर यह सब बातें चाहे काफी छोटी छोटी बातें होती है आपको मन में लेना नहीं चाहिए क्योंकि आपको यह भी समझना चाहिए कि टीचर्स है कहीं ना कहीं वह अपना काम ही कर रहे थे कि बच्चों को सही राह पर दिखाना और उनके हिसाब से जो है आपने गलतियां की हुई थी पहले आपको लगता होगा कि आप कि कल एक गलती तो है नहीं थी या फिर हो सकता है कि आपकी गलती वाकई में नहीं थी पर आप को उनके समझाना चाहिए थे और अगर वह नहीं उस वक्त उस हालात की वजह से तो आपको इतना गुस्सा नहीं होना चाहिए क्योंकि लाइफ में यह सब बातें जाए काफी छोटी छोटी होती है और यह सब हर दूसरे बच्चे के साथ होता ही रहता है और अब मतलब खासकर कि जब आप स्कूल में हो जाओ यह सब पता पनिशमेंट मिलना वगैरह जो है होता ही रहता है हर बाला की में जो है अब यह मतलब टीचर लोगों को मारना पीटना बजे मतलब फिजिकल पनिशमेंट देना होता है वह सब भले ही मतलब बंद हो गई है पर फिर भी चाहे लोग मस्ती पिक्चर है और हो सकता है कि आपने बाद में बहुत दिनों पहले क्या हुआ था जहां पर यह कानून लागू तो है नहीं हुआ था अभी से हम आपको यह सब इतना नहीं सोचना चाहिए सब छोटी छोटी बातें होती है और अब अगर आप फिर से वापस उस दीक्षित से मिलो तो मेरा मानना है कि वह आपको डांट डांटते वगैरह मतलब नहीं करेंगे वह अच्छे से ही बात करेंगे पेश आएंगे क्योंकि आप पार्टी में थे आप बच्चे थे आप अभी तो आप बड़े हो चुके हो और बिना मतलब से आपको समझदारी से काम लेना चाहिए और आपकी लाइफ में जो तरक्की होगी वही आपकी पहचान होगी 12वीं पनिशमेंट मिला यह सब आप नहीं सोचा यह सब तो होता रहता है सब की लाइफ में और सिर्फ आपके लाइफ में नहीं होता है सब की लाइफ में होता है मेरे लाइफ में भी हुआ था इतना भी मतलब नहीं सोचे पनिशमेंट मिलते रहते हैं स्कूल में सब कुछ सब को और यह सब न सोचना नहीं चाहिए और अगर आपकी आप कॉलेज लाइफ में भी ऐसा होता है तब बात अलग होती है पर फिर भी चाय स्कूल लाइफ में तो यह सब होता रहता है इतना अपनी सोचो मैंने क्या सही सवाल का जवाब
Savaal aapane kya hai ek pikchar nahin hai meena meree galatee kee mujhe bahut peeta jabaki jab main baarahaveen mein tha tab mera man usase badala lene ka kar raha hai kya karoon theek hai kya hota hai ki kabhee kabaar to puraanee baaten aur aapane jab 12veen kee huee thee us vakt aap ka richaarj hai ho sakata hai ki aap ke bhale hee galatee nahin ho par us vakt aapako bolana chaahie tha par shaayad hee haalaat aise ban gae honge ki matalab teechar ko jo aap par yakeen nahin aaya ho aur jis vajah se aapako bahut maara peeta aapako bina aapake kalyaan matalab galatee ki aap ko saja milee to aapako bahut hee jyaada bura laga man ko thes pahunchee par yah sab baaten chaahe kaaphee chhotee chhotee baaten hotee hai aapako man mein lena nahin chaahie kyonki aapako yah bhee samajhana chaahie ki teechars hai kaheen na kaheen vah apana kaam hee kar rahe the ki bachchon ko sahee raah par dikhaana aur unake hisaab se jo hai aapane galatiyaan kee huee thee pahale aapako lagata hoga ki aap ki kal ek galatee to hai nahin thee ya phir ho sakata hai ki aapakee galatee vaakee mein nahin thee par aap ko unake samajhaana chaahie the aur agar vah nahin us vakt us haalaat kee vajah se to aapako itana gussa nahin hona chaahie kyonki laiph mein yah sab baaten jae kaaphee chhotee chhotee hotee hai aur yah sab har doosare bachche ke saath hota hee rahata hai aur ab matalab khaasakar ki jab aap skool mein ho jao yah sab pata panishament milana vagairah jo hai hota hee rahata hai har baala kee mein jo hai ab yah matalab teechar logon ko maarana peetana baje matalab phijikal panishament dena hota hai vah sab bhale hee matalab band ho gaee hai par phir bhee chaahe log mastee pikchar hai aur ho sakata hai ki aapane baad mein bahut dinon pahale kya hua tha jahaan par yah kaanoon laagoo to hai nahin hua tha abhee se ham aapako yah sab itana nahin sochana chaahie sab chhotee chhotee baaten hotee hai aur ab agar aap phir se vaapas us deekshit se milo to mera maanana hai ki vah aapako daant daantate vagairah matalab nahin karenge vah achchhe se hee baat karenge pesh aaenge kyonki aap paartee mein the aap bachche the aap abhee to aap bade ho chuke ho aur bina matalab se aapako samajhadaaree se kaam lena chaahie aur aapakee laiph mein jo tarakkee hogee vahee aapakee pahachaan hogee 12veen panishament mila yah sab aap nahin socha yah sab to hota rahata hai sab kee laiph mein aur sirph aapake laiph mein nahin hota hai sab kee laiph mein hota hai mere laiph mein bhee hua tha itana bhee matalab nahin soche panishament milate rahate hain skool mein sab kuchh sab ko aur yah sab na sochana nahin chaahie aur agar aapakee aap kolej laiph mein bhee aisa hota hai tab baat alag hotee hai par phir bhee chaay skool laiph mein to yah sab hota rahata hai itana apanee socho mainne kya sahee savaal ka javaab

#रिश्ते और संबंध

bolkar speaker
इज्जत देने और इज्जत करने में क्या अंतर है?Ijjat Dene Or Ijjat Karne Me Kya Antar Hai
Meghsinghchouhan Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Meghsinghchouhan जी का जवाब
student
1:18
कुछ पाने की इज्जत देने और जिद करने में क्या अंतर है तो सीधी सी बात है कि बेवजह पानी पीने में और जब प्यास लगी है तब पानी पीने में अंतर होता है ठीक उसी प्रकार आप ही जवाब देते हैं जब आपको कुछ औरत हो या फिर जबरदस्ती बीएफ चाहिए मन में कभी-कभी कुछ लोग इज्जत देनी पड़ती है वह यह होते हैं जो देना परंतु आपके जीवन में कुछ अच्छे लोग होते हैं जो चीन का चित्र देखें इसके लिए खुद ब खुद ही इज्जत करने का ख्याल रखते हैं खुद को खुद खुद उनके लिए इज्जत से आ जाती है होता है जिस करना वह लोग होते हैं जो आप की भी उसने भी बताते हैं कि हम हर किसी की इज्जत करनी है और वह बड़ा हो या छोटा हो या बड़ा हो या बच्चा और पृथ्वी के देने और इज्जत करने का यही अंतरिम की इज्जत जबरदस्ती भी दी जाती है और जबरदस्ती ली जाती है बट करना होता है आपके मन में आप फिल्में उसको जिद करते हैं या नहीं करते हैं
Kuchh paane kee ijjat dene aur jid karane mein kya antar hai to seedhee see baat hai ki bevajah paanee peene mein aur jab pyaas lagee hai tab paanee peene mein antar hota hai theek usee prakaar aap hee javaab dete hain jab aapako kuchh aurat ho ya phir jabaradastee beeeph chaahie man mein kabhee-kabhee kuchh log ijjat denee padatee hai vah yah hote hain jo dena parantu aapake jeevan mein kuchh achchhe log hote hain jo cheen ka chitr dekhen isake lie khud ba khud hee ijjat karane ka khyaal rakhate hain khud ko khud khud unake lie ijjat se aa jaatee hai hota hai jis karana vah log hote hain jo aap kee bhee usane bhee bataate hain ki ham har kisee kee ijjat karanee hai aur vah bada ho ya chhota ho ya bada ho ya bachcha aur prthvee ke dene aur ijjat karane ka yahee antarim kee ijjat jabaradastee bhee dee jaatee hai aur jabaradastee lee jaatee hai bat karana hota hai aapake man mein aap philmen usako jid karate hain ya nahin karate hain
URL copied to clipboard