#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker
अगर मैं बिना नहाए किसी भी हालत में बैठकर मंत्र जाप करो तो क्या मैं पाप का भागी बन जाऊंगा?Agar Main Bina Nahae Kisee Bhee Haalat Mein Baithakar Mantr Jaap Karo To Kya Main Paap Ka Bhaagee Ban Jaoonga
Dukh kaise mite Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Dukh जी का जवाब
Unknown
2:10
आपको पूछा है कि अगर बिना नहाए किसी भी हालत में बैठकर मंत्र जाप पाप का भागी बन जाऊंगा बिल्कुल नहीं बनेगी आपने बहुत अच्छा प्रश्न पूछा है मुझे बहुत खुशी है तो आप बोलते हैं तभी तो ऐसा प्रश्न पूछ लेंगे बाकी कोई पूछता नहीं है ऐसे तो साथ में उस समय मैसेज 23 राजस्थान नहीं करता हूं भगवान शिव पूजा करने में भी हाथ धो लेता हूं और सेवा पूजा कर लेता हूं देखो ईश्वर कृपा दर्शन कराते मेरे बार बार सपने में आकर आज्ञा देते हैं उपदेश देते हैं बार-बार मुक्ता तो भेजते हैं ताकि मेरे को ज्ञान हो जाए कि शरीर छोड़ने के बाद मुक्ता आत्मा का व्याख्या उपयोग में आते हैं तो इससे ज्यादा तो 3 मिनट से ज्यादा तेरी उसमें फिर भी मैं बताना चाहूंगा कि वो को लेकर मैंने काफी ऑडियो अपलोड की है ना कि पुरुष और अपना जीवन सफल बनाएं यह जो ईश्वर जो ज्ञान दिया है आप गूगल ड्राइव में सेव करें और ज्यादा से ज्यादा लोगों को शेयर किया था कि यह ज्ञान शास्त्र बौद्ध धर्म जाने वाले हैं खुद मुक्ति नेपाल उठा पाऊंगा जाए तरनतारन से नहीं होगा फिर भी खुश रहे हो तो वह को लेकर ज्यादा पूछे क्यों मैं 10 मिनट का समय मिलता है तो मैं काफी जा सकता हूं और फिर ऐसा कोई ऐप मैडम ताकि मैं 1 घंटे तक प्रवचन खुश हूं ताकि आप जो भक्तों के नाम का सबसे अच्छे विचार तो ईश्वर कृपा से आप आगे भक्ति बढ़िया और मेरी शुभकामनाएं आपके साथ है हरे कृष्ण हरे कृष्ण हरे कृष्ण हरे

#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker
चंडी माता के मंदिर कहां-कहां है?Chandi Mata Ke Mandir Kaha Kaha Hai
pooja Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए pooja जी का जवाब
Student
0:32
कार आशा कर रही हूं आप सब खैरियत से हैं आप का प्रश्न है चंडी माता के मंदिर कहां-कहां है तो ठीक है मैं पूरा इंडिया तो नहीं हूं मैं हूं लेकिन हां जिस जगह मुझे पता है कि चंडी माता के मंदिर स्थित हैं वह मैं आपको जरूर बताना चाहूंगी तो आप पंजाब में या रही है वहां पर भी आपको चंडी माता का मंदिर मिल जाएगा हिमाचल में मिल जाएगा जम्मू में मिल जाएगा इसके अलावा राजस्थान और छत्तीसगढ़ में भी चंडी माता के मंदिर जो है वह आपको मिल जाएंगे आशा करती हूं ना वालों का जवाब मिला होगा शुक्रिया

#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker
कोई एक लोकगीत के दो चार पंक्तियां सुनाइए?Koee Ek Lokageet Ke Do Chaar Panktiyaan Sunaie
pooja Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए pooja जी का जवाब
Student
1:17
नमस्कार आशा कर रही हूं आप सब खैरियत से हैं आप का फ्रेंड है कोई एक लोकगीत के दो चार पंक्तियां सुनाइए के बाद कुछ ऐसी है कि मेरी नानी जो है वह जमीन पर है जम्मू में डोगरी लोक गीत जो है वह काफी गाए जाते हैं तो मैं भी डोगरी लोक गीत जो है बचपन से लेकर अब तक बहुत सुनी हूं उन्हीं मिलेगी जो मुझे बहुत अच्छा लगता है वही सुनाने जा रही हूं अभी और आप लोगों में से भी काफी लोगों ने यह लोकगीत जो है सुना होगा क्योंकि लोग की बहुत ही लोकप्रिय है तुझे लोकगीत में सुनाने जा रही हूं कि पंक्तियां कुछ इस प्रकार है भला सिपहिया डोंगरिया कि तू बंगड़ी पवई जा तेरी तो केतु बांगड़ जवाई जमाना मुझे शक करदा शक्कर डाल के तू बंदर बाबा की जमानत कर दी थी उस लोकगीत की कुछ पंक्तियां आशा करती हूं आपको अच्छा लगा होगा शुक्रिया

#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker
पृथ्वी की आकृति कैसी है?Prthvee Kee Aakrti Kaisee Hai
Chandan Kumar bharati Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Chandan जी का जवाब
Teacher
0:33
हेलो गुड मॉर्निंग आपका ब्रोकर में स्वागत पृथ्वी की आकृति आकृति कैसी प्लस 3 पृथ्वी तो बहुत से लोग बोल देते कि पृथ्वी को लेने पृथ्वी गोल है पृथ्वी अंडाकार इसकी जो आकृति होती है वह अंडाकार है 21 जनवरी को विराम देता हूं
Helo gud morning aapaka brokar mein svaagat prthvee kee aakrti aakrti kaisee plas 3 prthvee to bahut se log bol dete ki prthvee ko lene prthvee gol hai prthvee andaakaar isakee jo aakrti hotee hai vah andaakaar hai 21 janavaree ko viraam deta hoon

#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker
मनुष्य को अपनी आलोचना सुनकर क्रोधित होना उत्तेजित होना क्या उचित है?Manushy Ko Apanee Aalochana Sunakar Krodhit Hona Uttejit Hona Kya Uchit Hai
KamalKishorAwasthi Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए KamalKishorAwasthi जी का जवाब
घर पर ही रहता हूं बैटरी बनाने का कार्य करता हूं और मोबाइल रिचार्ज इत्यादि
1:16
सवाल ही मनुष्य को अपनी आलोचना सुनकर क्रोधित होना उत्तेजित होना क्या उचित है देखिए मनुष्य को कभी भी अपनी आलोचना सुनकर उत्तेजित नहीं होना चाहिए कई बार ऐसा होता है कि सामने वाले का आप को उत्तेजित करने का मकसद होता है उस वक्त अगर आप ने उत्तेजित होकर कोई फैसला ले लिया या फिर कोई बात क्रोध में आकर वहां पर कहीं भी तो हो सकता है कि वह आपके हित में ना हो असल जिंदगी में कई बार ऐसा होता है कि लोग दूसरों को नीचा दिखाने के लिए उनकी आलोचना करने का मौका ढूंढते रहते हैं कुछ लोग इन लोगों की बातों में आ जाती तो कुछ बात को इग्नोर भी कर देते हैं मनुष्य को कभी भी आलोचना सुनकर उत्तेजित या क्रोधित नहीं होना चाहिए ऐसा करके आप सामने वाले को अपनी गलती पकड़ने का मौका देते हैं दुनिया में कई लोग ऐसे होते हैं जो आपकी आलोचना सिर्फ इस वजह से करते हैं ताकि आप का मनोबल टूट जाए और वह इस बात का अनुचित लाभ उठा सकें इसलिए उन्हें अनुचित लाभ उठाने का मौका कभी नहीं देना चाहिए धन्यवाद
Savaal hee manushy ko apanee aalochana sunakar krodhit hona uttejit hona kya uchit hai dekhie manushy ko kabhee bhee apanee aalochana sunakar uttejit nahin hona chaahie kaee baar aisa hota hai ki saamane vaale ka aap ko uttejit karane ka makasad hota hai us vakt agar aap ne uttejit hokar koee phaisala le liya ya phir koee baat krodh mein aakar vahaan par kaheen bhee to ho sakata hai ki vah aapake hit mein na ho asal jindagee mein kaee baar aisa hota hai ki log doosaron ko neecha dikhaane ke lie unakee aalochana karane ka mauka dhoondhate rahate hain kuchh log in logon kee baaton mein aa jaatee to kuchh baat ko ignor bhee kar dete hain manushy ko kabhee bhee aalochana sunakar uttejit ya krodhit nahin hona chaahie aisa karake aap saamane vaale ko apanee galatee pakadane ka mauka dete hain duniya mein kaee log aise hote hain jo aapakee aalochana sirph is vajah se karate hain taaki aap ka manobal toot jae aur vah is baat ka anuchit laabh utha saken isalie unhen anuchit laabh uthaane ka mauka kabhee nahin dena chaahie dhanyavaad

#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker
क्या कुंडली में लिखा हुआ भाग्य वास्तविक होता है?Kya Kundli Mein Likha Hua Bhagya Vastvik Hota Hai
Deepak Perwani7017127373 Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Deepak जी का जवाब
Job
4:26
प्रश्न है क्या उनकी में लिखा हुआ भाग्य वास्तविक होता है तो दोस्तों कीजिए ऐसा तो कुछ भी नहीं है आपका भाग्य आपके पराक्रम मेहनत और कर्म पर निर्भर करता है आप किस तरह कितनी मेहनत करते हैं कितनी आप कर्म करते हैं उसके आधार पर हमारा भाग्य लिखा जाता है गरुड़ पुराण में विष्णु भगवान ने कहा था कि कर्म प्रधान विश्व रचि राखा यानी कर्म करने वाला ही जो है व्यक्ति आगे बढ़ेगा दुनिया में लेकिन यह भी नहीं कह सकते कि कुंडली में राहु भाग्य जी बिल्कुल कोई काम नहीं करता 200 देखिए इसका मैं आपको एक उदाहरण देता हूं कुछ लोग कम मेहनत करते हैं और उसकी सफलता हासिल करते हैं कुछ लोग बहुत मेहनत करने के बाद भी उतनी सफलता नहीं हासिल कर पाते जितना जो है वह चाहते हैं इन दोनों के इसमें काम करता है भाग्य लेकिन कर्म तो दोनों को ही करना पड़ेगा जिसका भाग्य अच्छा उसको भी और जिसका भाग्य दुर्भाग्य हो उसको भी कर्म तो दोनों को ही करना पड़ेगा लेकिन सफलता किसी को अच्छी मिलती है किसी को उतनी खास नहीं मिलती इसीलिए कुंडली में लिखा हुआ कि हम पूरी तरीके से नकार नहीं सकते कि काम नहीं कर सकता हूं करता है क्योंकि ग्रहों के अनुसार जो मनुष्य पर उसका काफी व्यापक प्रभाव पड़ता है अगर कुंडली के भाग्य भाग जाने की नवम भाव में मंगल ग्रह बैठे हो शुभ ग्रहों की राशि से दृष्ट हों और उस पर किसी पाप ग्रह की दृष्टि ना हो पाप कर्तरी योग में हमारा नाम भावना हो लगने का मित्र को चंद्रेश करने को नवमांश कुंडली में बलवान हो डिग्री बल में अच्छा हो षड्बल में डिग्री पर अच्छा हो इन सारी चीजों को अगर हमारा नवम भाव कुंडली का पार कर जाता है तो फिर समझ लीजिए कि आपका भाग्य प्रबल है लेकिन आपको मेहनत तो तो भी करनी पड़ेगी लेकिन आपकी सफलता है कि होंगे आप कम मेहनत में बहुत काम कर पाएंगे लेकिन अगर आप जो है वह कम होते हैं या फिर पाप प्रभाव में है नीच राशि का है कि सारी चीजें उनके संग है तो फिर आपको यह सारी चीजें कम मिलेंगे यह भी नहीं करेंगे कि नहीं मिलेगी मतलब आप अगर ₹100 की मेहनत करते हैं तो आपको ₹10 मिलेंगे और जो मैंने पहले बताया अगर वह लोग जिनका भागे प्रभालय सर पर की मेहनत करते तुम ₹500 मिलते हैं क्योंकि हमारा भाग्य हमारे पूर्व जन्म के बाद टीवी से जो है काम करता है हमारे पूर्व जन्म के कर्मों पर काम करता है इसके लिए अपने आप कुंडली के पंचम भाव को देखिए कुंडली के पंचम भाव में अगर शुभ ग्रह हो जैसे बरस पड़ती कि गुरु बृहस्पति बुध चंद्रमा शुक्र हो तो आपने पूर्व जन्म में अच्छे कर्म किए हैं जिस कारण आपका जो है बाकी इस बात पर बनाएं अगर पंचमेश खराब हो पाप ग्रहों से दृष्ट पंचम भाव में शनि राहु जैसी युक्तियों पाप ग्रहों की युति हो तो समझ लो आप को रोशन कर रही है और पूर्व जन्म के पितरों के भी लेनी है तो आपको थोड़ा पंचम नवम इन दोनों भावों को ध्यानपूर्वक देखना चाहिए क्योंकि हिंदू भाव मनुष्य के जीवन के मैच खून बहाकर पंचम भाव से हमारा इष्ट देव हमारी संतान समग्र शिक्षा और भी यह कई सारी चीजें पत्नी का सुख वगैरा दिखाता है जबकि नामा से हमारा में भाग्य रेखा जाता है और भी कई सारे जो बड़े-बड़े चीजें हैं वह नवम भाव से ही नहीं की जाती है तो यह कुछ बात की जगह कुंडली में लिखा भाग्य का वास्तविक होता है यदि होता है जय माता की जय हिंदुस्तान
Prashn hai kya unakee mein likha hua bhaagy vaastavik hota hai to doston keejie aisa to kuchh bhee nahin hai aapaka bhaagy aapake paraakram mehanat aur karm par nirbhar karata hai aap kis tarah kitanee mehanat karate hain kitanee aap karm karate hain usake aadhaar par hamaara bhaagy likha jaata hai garud puraan mein vishnu bhagavaan ne kaha tha ki karm pradhaan vishv rachi raakha yaanee karm karane vaala hee jo hai vyakti aage badhega duniya mein lekin yah bhee nahin kah sakate ki kundalee mein raahu bhaagy jee bilkul koee kaam nahin karata 200 dekhie isaka main aapako ek udaaharan deta hoon kuchh log kam mehanat karate hain aur usakee saphalata haasil karate hain kuchh log bahut mehanat karane ke baad bhee utanee saphalata nahin haasil kar paate jitana jo hai vah chaahate hain in donon ke isamen kaam karata hai bhaagy lekin karm to donon ko hee karana padega jisaka bhaagy achchha usako bhee aur jisaka bhaagy durbhaagy ho usako bhee karm to donon ko hee karana padega lekin saphalata kisee ko achchhee milatee hai kisee ko utanee khaas nahin milatee iseelie kundalee mein likha hua ki ham pooree tareeke se nakaar nahin sakate ki kaam nahin kar sakata hoon karata hai kyonki grahon ke anusaar jo manushy par usaka kaaphee vyaapak prabhaav padata hai agar kundalee ke bhaagy bhaag jaane kee navam bhaav mein mangal grah baithe ho shubh grahon kee raashi se drsht hon aur us par kisee paap grah kee drshti na ho paap kartaree yog mein hamaara naam bhaavana ho lagane ka mitr ko chandresh karane ko navamaansh kundalee mein balavaan ho digree bal mein achchha ho shadbal mein digree par achchha ho in saaree cheejon ko agar hamaara navam bhaav kundalee ka paar kar jaata hai to phir samajh leejie ki aapaka bhaagy prabal hai lekin aapako mehanat to to bhee karanee padegee lekin aapakee saphalata hai ki honge aap kam mehanat mein bahut kaam kar paenge lekin agar aap jo hai vah kam hote hain ya phir paap prabhaav mein hai neech raashi ka hai ki saaree cheejen unake sang hai to phir aapako yah saaree cheejen kam milenge yah bhee nahin karenge ki nahin milegee matalab aap agar ₹100 kee mehanat karate hain to aapako ₹10 milenge aur jo mainne pahale bataaya agar vah log jinaka bhaage prabhaalay sar par kee mehanat karate tum ₹500 milate hain kyonki hamaara bhaagy hamaare poorv janm ke baad teevee se jo hai kaam karata hai hamaare poorv janm ke karmon par kaam karata hai isake lie apane aap kundalee ke pancham bhaav ko dekhie kundalee ke pancham bhaav mein agar shubh grah ho jaise baras padatee ki guru brhaspati budh chandrama shukr ho to aapane poorv janm mein achchhe karm kie hain jis kaaran aapaka jo hai baakee is baat par banaen agar panchamesh kharaab ho paap grahon se drsht pancham bhaav mein shani raahu jaisee yuktiyon paap grahon kee yuti ho to samajh lo aap ko roshan kar rahee hai aur poorv janm ke pitaron ke bhee lenee hai to aapako thoda pancham navam in donon bhaavon ko dhyaanapoorvak dekhana chaahie kyonki hindoo bhaav manushy ke jeevan ke maich khoon bahaakar pancham bhaav se hamaara isht dev hamaaree santaan samagr shiksha aur bhee yah kaee saaree cheejen patnee ka sukh vagaira dikhaata hai jabaki naama se hamaara mein bhaagy rekha jaata hai aur bhee kaee saare jo bade-bade cheejen hain vah navam bhaav se hee nahin kee jaatee hai to yah kuchh baat kee jagah kundalee mein likha bhaagy ka vaastavik hota hai yadi hota hai jay maata kee jay hindustaan

#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker
जन्माष्टमी व्रत क्यों करते हैं?Janmashtmi Vrat Kyo Karte Hain
Daulat Ram sharma Shastri Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Daulat जी का जवाब
Retrieved sr tea . social activist,
0:41
मास्टर इसलिए रहते हैं कि उस दिन भगवान से अपने साथी को 12:00 बजे जन्म दिया था इसलिए भगवान श्री कृष्ण के मानने वाले समस्त वैष्णव अपने इष्ट देव के अवतार का समय तक अर्थात रात के 12:00 बजे तक भूखी रहती चुंगम बंधन करके नमन करके रिटर्न करके उसके बाद पचासी प्राप्त करते हैं ऐसी हिंदू धर्म की मान्यता है विचार हैं
Maastar isalie rahate hain ki us din bhagavaan se apane saathee ko 12:00 baje janm diya tha isalie bhagavaan shree krshn ke maanane vaale samast vaishnav apane isht dev ke avataar ka samay tak arthaat raat ke 12:00 baje tak bhookhee rahatee chungam bandhan karake naman karake ritarn karake usake baad pachaasee praapt karate hain aisee hindoo dharm kee maanyata hai vichaar hain

#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker
विस्थापन किसे कहते हैं?Visthapan Kise Kahate Hai
pooja Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए pooja जी का जवाब
Student
0:38
नमस्कार भ्रष्ट है विज्ञापन कितने कहते हैं विज्ञापन पर की अंग्रेजी में हम डिस्प्लेसमेंट कहते हैं एकता देश राष्ट्रीय है जब कोई वस्तु 1 बिंदु पी से दूसरे बिंदु क्यों तक किसी भी पत्ते होते हुए गति करती है तो इस विस्थापन का परिणाम उन 2 बिंदुओं के मध्य की निम्नतम दूरी होगी तथा विस्थापन की दशा रेखा पी क्योंकि दिशा में पीछे क्यों तक की तरफ होगी आशा करती हूं कि स्थापन या डिस्प्लेसमेंट का अर्थ जो है वह आपको क्लियर हुआ होगा शुक्रिया
Namaskaar bhrasht hai vigyaapan kitane kahate hain vigyaapan par kee angrejee mein ham displesament kahate hain ekata desh raashtreey hai jab koee vastu 1 bindu pee se doosare bindu kyon tak kisee bhee patte hote hue gati karatee hai to is visthaapan ka parinaam un 2 binduon ke madhy kee nimnatam dooree hogee tatha visthaapan kee dasha rekha pee kyonki disha mein peechhe kyon tak kee taraph hogee aasha karatee hoon ki sthaapan ya displesament ka arth jo hai vah aapako kliyar hua hoga shukriya

#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker
मापन किसे कहते हैं?Maapan Kise Kehete Hain
Vaishnavi Pandey Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Vaishnavi जी का जवाब
Student / Artist
0:40
नमस्कार मेरा नाम है वैष्णवी हर आप मुझे सुन रहे हैं भारत के नंबर एक सवाल और जवाब करने वाले ऐप बोलकर पर सवाल किया है कि मापन किसे कहते हैं तू देखे किसी भौतिक राशि का परिमाण संख्याओं में व्यक्त करने को मापन कहा जाता है जो है वह बेसिक तुलना करने की प्रक्रिया है जैसे की डिजाइन के द्वार पर देखिए जब हम कहते हैं कि किसी पेड़ की ऊंचाई जो है वह 10 मीटर है तो हम उस पेड़ की ऊंचाई की तुलना जो है वह 1 मीटर से कर रहे होते हैं आशा है कि आपके सवाल का जवाब आपको मिल गया होगा धन्यवाद
Namaskaar mera naam hai vaishnavee har aap mujhe sun rahe hain bhaarat ke nambar ek savaal aur javaab karane vaale aip bolakar par savaal kiya hai ki maapan kise kahate hain too dekhe kisee bhautik raashi ka parimaan sankhyaon mein vyakt karane ko maapan kaha jaata hai jo hai vah besik tulana karane kee prakriya hai jaise kee dijain ke dvaar par dekhie jab ham kahate hain ki kisee ped kee oonchaee jo hai vah 10 meetar hai to ham us ped kee oonchaee kee tulana jo hai vah 1 meetar se kar rahe hote hain aasha hai ki aapake savaal ka javaab aapako mil gaya hoga dhanyavaad

#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker
समास किसे कहते हैं यह कितने प्रकार के होते हैं?Samaas Kise Kahate Hain Yah Kitane Prakaar Ke Hote Hain
Vaishnavi Pandey Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Vaishnavi जी का जवाब
Student / Artist
0:43
कार मेरे नाम है वैष्णवी और आप सुन रहे हैं भारत के नंबर एक सवाल जवाब करने वाले आप बोलकर पर सवाल किया है कि समास किसे कहते हैं तो देखिए समास का अर्थ होता है संक्षिप्तीकरण यानी कि छोटा रूप दो या दो से ज्यादा शब्दों को मिलाकर कोई नया छोटा शब्द बनाया जाता है तो वह समाज के लाला तू है कि समास कितने प्रकार के होते हैं तो देखिए समाज के हैं छह प्रकार के होते हैं कर्मधारय तत्पुरुष बहुव्रीहि समास आपको मैं जवाब पसंद आया होगा धन्यवाद
Kaar mere naam hai vaishnavee aur aap sun rahe hain bhaarat ke nambar ek savaal javaab karane vaale aap bolakar par savaal kiya hai ki samaas kise kahate hain to dekhie samaas ka arth hota hai sankshipteekaran yaanee ki chhota roop do ya do se jyaada shabdon ko milaakar koee naya chhota shabd banaaya jaata hai to vah samaaj ke laala too hai ki samaas kitane prakaar ke hote hain to dekhie samaaj ke hain chhah prakaar ke hote hain karmadhaaray tatpurush bahuvreehi samaas aapako main javaab pasand aaya hoga dhanyavaad
URL copied to clipboard